Follow Us On Goggle News

PM Kisan Yojana : पीएम किसान योजना पर बड़ा अपडेट ! 11वीं किस्त के लिए e-KYC कराना जरूरी, जानिए तरीका.

इस पोस्ट को शेयर करें :

PM Kisan Yojana 11th Installment : पीएम किसान सम्‍मान न‍िध‍ि योजना के लाभार्थियों को 11वीं किस्त का इंतजार है. इस क‍िस्‍त का पैसा ब‍िना e-KYC कराए आपके खाते में ट्रांसफर नहीं क‍िया जाएगा. पीएम क‍िसान पोर्टल पर द‍िखाए दे रहे स्‍टेटस का मतलब यहां समझ‍िए.

 

PM Kisan Yojana 11th Installment : प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan) के लाभार्थी 11वीं क‍िस्‍त का इंतजार कर रहे हैं. इस योजना में 12 करोड़ से ज्‍यादा क‍िसानों ने रज‍िस्‍ट्रेशन कराया हुआ है. 11वीं क‍िस्‍त की राश‍ि अप्रैल से जुलाई के बीच जारी होनी है. लेक‍िन इसकी लगातार प्रक्र‍िया चल रही है.

 

बता दें कि पीएम किसान सम्मान निधि योजना किसानों के लिए बीच काफी लोकप्रिय योजना है. इस योजना की खास बात ये हैं कि इसमें सरकार की ओर से दिए जाने वाला पैसा सीधा किसानों के खाते में ट्रांसफर किया जाता है. बता दें इस योजना में किसान को हर चार माह के अंतराल में 2-2 हजार रुपए की राशि तीन समान किस्तों में दी जाती है. इस राशि को देने का उद्देश्य ये हैं कि इस पैसे से किसान अदान खरीद सकें जैसे- बीज, खाद, कीटनाशक आदि. अब तक इस योजना के तहत किसानों को 10 किस्तें मिल चुकी है और किसानों को इसकी 11वीं किस्त आने का इंतजार है.

 

 

 

11वीं किस्त के लिए e-KYC कराना जरूरी :

पीएम किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan Samman Nidhi Yojana) में केंद्र सरकार की तरफ से क‍िसानों के खाते में हर साल 6000 रुपये भेजे जाते हैं. ये रकम 2000-2000 की तीन क‍िस्‍तों में भेजी जाती है. सरकार ने पांच राज्‍यों के चुनाव से पहले 10वीं क‍िस्‍त भेजी थी. लेक‍िन 11वीं क‍िस्‍त के ल‍िए e-KYC कराना जरूरी है. ऐसा नहीं होने पर क‍िस्‍त का पैसा अटक सकता है. e-KYC कराने की अंत‍िम त‍िथ‍ि 31 मई है. इसकी प्रक्रिया इस प्रकार से हैं :

 

  • वर्तमान में e-KYC की सुविधा वसुधा केंद्र और CSC पर ही उपलब्ध है. अतः लाभार्थी अपने नजदीक के वसुधा केंद्र / CSC पर जाकर अपना e-KYC कम्प्लीट करें.
  • सबसे पहले आपको पीएम किसान योजना की आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in/ पर जाना होगा.
  • इसके बाद इसमें किसान कॉलम में क्लिक करने के बाद किसान को अपने आधार नंबर की जानकारी देनी होगी.
  • आधार सर्च करने के बाद आधार से लिंक मोबाइल का नंबर देना होगा.
  • इसी नंबर पर एक ओटीपी आएगा। यह ओटीपी डालने के बाद पंच सबमिट करना होगा.
  • इसके बाद प्रक्रिया पूरी करने पर ई-केवाईसी अपडेट हो जाएगा.
यह भी पढ़ें :  PM Kisan Yojana : पीएम किसान योजना के नियमों में बड़ा बदलाव! अब इस डॉक्यूमेंट के बिना नहीं मिलेगा पैसा, फटाफट करें अपडेट.

 

Waiting For Approval का मतलब :

केंद्र की इस योजना में राज्यों का अप्रूवल भी जरूरी होता है. 11वीं किस्त के लिए अभी कुछ राज्य सरकारों ने अप्रूवल नहीं द‍िया है. पोर्टल पर स्टेटस चेक करने पर यद‍ि Waiting For Approval By State लिखा द‍िखे तो अभी आपकी किस्त के लिए राज्य सरकार से अप्रूवल नहीं आया है.

 

स्टेटस और उनका मतलब :

यद‍ि स्टेटस चेक करने पर RFT यानी Request For Transfer ल‍िखा द‍िखे तो इसका मतलब राज्य की तरफ से लाभार्थी का डेटा चेक कर लिया है और राज्य सरकार की तरफ से केंद्र को अनुरोध किया गया है कि लाभार्थी के अकाउंट में किस्त का पैसा भेज दिया जाए. अगर FTO is Generated and Payment Confirmation is Pending लिखा दिख रहा है तो इसका मतलब हुआ क‍ि फंड ट्रांसफर की प्रक्रिया शुरू हो गई है. कुछ दिन में आपके अकाउंट में रकम ट्रांसफर हो जाएगी.

 

ऐसे चेक करें पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत अपना स्टे्टस :

  • सबसे पहले आपको पीएम किसान योजना की आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in/ पर जाना होगा.
  • दाईं तरफ किसान फार्मर का विकल्प मिलेगा.
  • यहां बेनिफीशियरी स्टेटस के ऑप्शन पर क्लिक करें. अब नया पेज खुल जाएगा.
  • नए पेज पर आधार नंबर, बैंक खाता संख्या या मोबाइल नंबर में से किसी एक विकल्प को चुनिए.
  • आपने जिस विकल्प का चुनाव किया है, उसकी डिटेल भरिए। इसके बाद गेट डाटा पर क्लिक करें.
  • यहां क्लिक करने के बाद लाभार्थी किसान की सभी किस्तों का स्टेटस सामने आ जाएगा। यानी कौनसी किस्त कब आपके खाते में आई और किस बैंक अकाउंट में क्रेडिट हुई.

 

 

इन गलतियों के कारण अटक जाती है पीएम किसान सम्मान निधि की किस्त (PM kisan Samman Nidhi) :

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत केंद्र सरकार की तरफ से अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करने के बावजूद किसानों के खाते में नहीं पहुंचते हैं. ऐसे में किस्त अटकने के कई कारण हो सकते हैं. इसमें से कुछ कारण इस प्रकार से हैं :

● इसकी सबसे वजह आपके आधार, अकाउंट नंबर और बैंक अकाउंट नंबर में गलती का होना.
● इसके अलावा बैंक खाते के नाम और आधार कार्ड पर दर्ज नाम की स्पेलिंग में मिसमैच करना.
● इसके अलावा गलत आईएफएससी कोड का भरा जाना. अगर आपने भी ऐसी गलती की है तो आपकी किस्त अटक सकती है.

यह भी पढ़ें :  Sarkari Yojana 2022 : खुशखबरी! केंद्र सरकार हर महीने देगी 5000 रुपये, सालाना होगी पूरे 60,000 की कमाई, जानें कैसे?

पीएम किसान सम्मान निधि की गलतियों का कैसे करें सुधार (PM kisan Samman Nidhi) :

यदि आपने पीएम किसान सम्मान निधि योजना के फॉर्म में आधार कार्ड, मोबाइल नंबर, अकाउंट नंबर आदि भरने में गलती कर दी है तो उसे पीएम किसान सम्मान निधि की ऑफिसियल वेबसाइट के हेल्पडेस्क के माध्यम से सुधार कर सकते हैं। इसका तरीका इस प्रकार से है :

  • सबसे पहले आपको ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा.
  • इसके बाद आपको हेल्प डेस्क का विकल्प दिखाई देगा. आपको इस विकल्प पर क्लिक करना होगा.
  • इसके बाद आपके सामने अगला पेज खुल जाएगा। इस पेज पर आपको तीन ऑप्शन आधार कार्ड, मोबाइल नंबर, अकाउंट नंबर आदि दिखाई देगा. आपकी जिसमें गलती हुई है उस पर टिक करें.
  • इसके बाद नीचे आपको जिस में सुधार करना है उस नंबर को भरना होगा.
  • इसके बाद गेट डिटेल्स के बटन पर क्लिक करना होगा. इसके बाद आप डिटेल्स में सुधार कर सकते है.
  • इसके अलावा आपको अपने बैंक अकाउंट के नंबर में कोई बदलाव करना है तो इसके लिए आपको अपने कृषि विभाग कार्यालय में या फिर लेखापाल से संपर्क करना होगा.

पीएम किसान योजना में किसानों को कब-कब मिली किस्तें (Pradhan Mantri Kisan Mandhan Yojana) :

  1. पीएम किसान योजना पहली किस्त     – फरवरी 2019 में जारी की गई थी.
  2. पीएम किसान योजना दूसरी किस्त    – 2 अप्रैल 2019 को जारी की गई थी.
  3. पीएम किसान योजना तीसरी किस्त   – अगस्त में जारी की गई थी.
  4. पीएम किसान योजना चौथी किस्त   – जनवरी 2020 में जारी की गई.
  5. पीएम किसान योजना 5वीं किस्त    – 1 अप्रैल, 2020 में जारी की गई.
  6. पीएम किसान योजना छठी किस्त  – 1 अगस्त से पैसा आना शुरू.
  7. पीएम किसान योजना की सातवीं किस्त  – 25 दिसंबर 2020 को जारी की गई.
  8. पीएम किसान योजना की आठवीं किस्त – 14 मई 2021 को जारी की गई.
  9. पीएम किसान योजना की नौवीं किस्त   – 9 अगस्त 2021 को जारी की गई.
  10. पीएम किसान योजना की 10वीं किस्त  – 1 जनवरी 2022 को जारी की गई.  

फर्जी तरीके से पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ लेने वालों सरकार सख्त :

फर्जी तरीके से पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ ले रहे लोगों के प्रति सरकार ने सख्त रूख कर लिया है. सरकार की ओर से ऐसे फर्जी लोगों की पहचान की जा रही है जो इस योजना के पात्र नहीं होते हुए भी फर्जी तरीके से इसका लाभ उठा रहे हैं. ऐसे लोगों को योजना से बाहर किया जा रहा है. अब ऐसे अपात्र लोग इस योजना का लाभ नहीं उठा पाएंगे. वहीं इन लोगों से जितना पैसा अब तक पीएम किसान सम्मान निधि का उनके खाते में आया है इसकी वसूली की जाएगी. बता दें कि बीते महीनों के दौरान सरकार ने कई राज्यों से काफी संख्या में ऐसे लोगों की पहचान की जो फर्जी तरीके से योजना का लाभ ले रहे थे. सरकार की ओर से ऐसे लोगों से पीएम किसान सम्मान निधि की रकम वापिस लेने का काम किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें :  Good News : दिवाली से पहले CM नीतीश कुमार ने किसानों को दिया बड़ा तोहफा, मंत्रिपरिषद की बैठक में लिए कई निर्णय.

फील्ड वेरिफिकेशन के माध्यम से होगी अपात्र किसानों की जांच :

पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ पात्र किसान को मिले. इसके लिए सरकार ने योजना में शामिल हुए अपात्र किसानों की पहचान कर रही है. इसके लिए ऐसे किसानों का फील्ड वेरिफिकेशन किया जाएगा. अब किसान को वह सभी जानकारी जो उसने अपने आवेदन के साथ दी हैं. उसका अब फिजिकल वेरिफिकेशन किया जाएगा. फिजिकल वेरिफिकेशन के दौरान किसान की राजस्व में भूमि रिकॉर्ड, टैक्स पेयर नहीं होने के संबंधित जांच की पुष्टि आदि की जाएगी. इसके बाद यह तय किया जाएगा कि किसान को आगे इस योजना का लाभ दिया जाए या नहीं. यदि जांच के दौरान यह पाया जाता है कि आप किसान सम्मान निधि योजना के पात्र नहीं है तो आपके खाते में सम्मान निधि की अब तक जमा की गई राशि की वसूली की कार्रवाई की जाएगी.

 

इन लोगों को नहीं मिलेगा पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ :

पीएम किसान सम्मान निधि योजना में पारदर्शिता लाने के लिए सरकार की ओर से निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं ताकि पात्र किसान को योजना का लाभ मिल सके. सरकार की ओर से जिन लोगों को इन योजना से बाहर रखा गया है. वे इस प्रकार से हैं :

•    ऐसे किसान जो भूतपूर्व या वर्तमान में संवैधानिक पद धारक हैं, वर्तमान या पूर्व मंत्री हैं.
•    मेयर या जिला पंचायत अध्यक्ष, विधायक, एमएलसी, लोकसभा और राज्यसभा सांसद, ये लोग स्कीम से बाहर माने जाएंगे। भले ही वो किसानी भी करते हों.
•    केंद्र या राज्य सरकार के अधिकारी इससे बाहर रहेंगे.
•    पिछले वित्तीय वर्ष में आयकर भुगतान करने वाले किसानों को फायदा नहीं मिलेगा.
•    10 हजार रुपए से अधिक पेंशन पाने वाले किसानों को भी लाभ नहीं दिया जाएगा.
•    पेशेवर, डॉक्टर, इंजीनियर, सीए, वकील और आर्किटेक्ट योजना से बाहर होंगे.


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page