Follow Us On Goggle News

Bihar Labour Card : 50 रुपये में बनवाएं लेबर कार्ड ! होंगे लाखों के फायदे, जानिए कार्ड बनवाने की आसान प्रक्रिया.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Bihar Labour Card In : बिहार सरकार दिहाड़ी मजदूरों, दैनिक कामगारों के मुश्किल वक्त के लिए जरूरी इंतजाम कर रही है. अभी हाल ही में Corona महामारी के कारण बहुत सारे मजदूरों ने दिल्ली-मुंबई जैसे बड़े शहरों से पलायन किया था. ऐसे में उनके सामने खाने के लाले पड़ गए थे.

ऐसे बनेगा लेबर कार्ड( Bihar Labour Card)  :

1. http://bocw.bihar.gov.in/ वेबसाइट पर लॉगिन करें.
2. वेबसाइट की दाईं साइड लाल पट्टी पर आपको लिखा दिखेगा ‘नए निबंधन के लिए अनुरोध’. इसपर क्लिक करें.
3. यहां क्लिक करते ही एक PDF फाइल अपलोड होगा. इस PDF फाइल में आप योजना से जुड़ी सारी जानकारी हासिल कर सकते हैं.
4. सारी जानकारी हासिल करने के बाद आप अपने ब्लॉक में जाकर वहां श्रम संसाधन विभाग के अफसर से मिलें. उनसे लेबर कार्ड बनवाने का फॉर्म मांगे.
5. आप चाहे तो अपने पंचायत के मुखिया से भी इस फॉर्म की डिमांड कर सकते हैं.
6. फॉर्म अच्छे से भरने के बाद, उसके साथ सारे डॉक्यूमेंट डॉक्यूमेंट संलग्न कर अपने ब्लॉक के श्रम संसाधन विभाग में जाकर जमा करें. फॉर्म के साथ जरूरी कागजात में आधार कार्ड, बैंक पासबुक की छायाप्रति या नेम प्रिंटेड कैंसिल चेक होना अनिवार्य है.

यह भी पढ़ें :  Bihar Flood Update: बिहार के 16 जिलों में बाढ़ से तबाही, 32 लाख लोग प्रभावित, कई गांवों का मुख्यालय से टूटा संपर्क.

इन पेशों के लोग जरूर बनवाएं लेबर कार्ड( Bihar Labour Card)  :

लेबर कार्ड बनवाने के लिए लेबर कैटिगरी में कई तरह के लेबर शामिल हैं. इनमें बिल्डिंग या रोड बनाने वाले लेबर, राज मिस्त्री, राज मिस्त्री के हेल्पर, बढ़ई, लोहार, पेंटर, इलेक्ट्रिशियन, फर्श/फ्लोर टाइल्स वाले मिस्त्री, इनके हेल्पर, कंक्रीट मिक्सर मशीन संचालक, कोई भी महिला महिला कामगार, रोलर चालक, निर्माण कार्य स्थल के गार्ड/चौकीदार, पलम्बर और साथ के अकुशल अस्थाई कामगार, मनरेगा कार्यक्रम के अंतर्गत मजदूर-श्रमिक सभी आते हैं. इन्हें जरूर अपना लेबर कार्ड बनवा लेना चाहिए.

लेबर कार्ड बनवाने की उम्र सीमा 18 से 60 साल तक तय है. इसके बीच के किसी भी उम्र के कामगार लेबर कार्ड बनवा सकते हैं. लेबर कार्ड बनवाने का खर्च पांच साल के लिए 50 रुपये आता है. पांच साल बाद लेबर कार्ड का नवीनीकरण करवाना होता है. अंशदान समय से जमा नहीं करवाने पर सदस्यता समाप्त हो जाएगी और श्रमिक को किसी प्रकार का लाभ बोर्ड से प्राप्त नहीं होगा.

यह भी पढ़ें :  मुर्गी पालन का बिजनेस शुरू करें और हर महीने लाखों कमाए | Poultry Farming Business 2021.


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page