Follow Us On Goggle News

Free Solar Plant : अब घरों की छतों पर सोलर प्लांट लगवाना हुआ आसान, जानिए कैसे करें अप्लाई और क्या है प्रक्रिया.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Free Solar Plant : अब घरों की छतों पर सोलर प्लांट लगवाना आसान हो गया है. सरकार ने घरों की छतों पर सोलर प्लांट लगवाने की प्रक्रिया को  और आसान कर दिया है

 

Free Solar Plant : अब घरों की छतों पर सोलर प्लांट (Solar Plant) लगवाना आसान हो गया है. सरकार ने घरों की छतों पर सोलर प्लांट लगवाने की प्रक्रिया (Installation Process) को आसान कर दिया है. नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय ने रूफटॉप सोलर प्रोग्राम (Rooftop Solar Program) के तहत खुद या अपनी पसंद के किसी विक्रेता के जरिए घर की छत पर सोलर प्लांट लगवाने के लिए नई सरल प्रक्रिया को जारी किया है. नए नियमों (Rules) के तहत, लाभार्थी से मिले आवेदन को पंजीकृत करने, उसकी मंजूरी और स्टेटस पर नजर रखने के लिए एक नेशनल पोर्टल डेवलप किया जाएगा. डिस्कॉम के लेवल पर समान फॉर्मेट में एक पोर्टल होगा और दोनों पोर्टलों को आपस में लिंक किया जाएगा.

यह भी पढ़ें :  Good News : 4 लाख संविदा कर्मचारियों के लिए बनेगी सर्विस बुक, जानिए क्या - क्या मिलेगा फायदा.

 

नई व्यवस्था के तहत छत पर सौर प्लांट (रूफटॉप सोलर-आरटीएस) स्थापित करने के लिए व्यक्ति को अब नेशनल पोर्टल पर अपना आवेदन भेजना होगा. लाभार्थी को अपने उस बैंक खाते के विवरण के साथ जरूरी जानकारी जमा करनी होगी, जिसमें सब्सिडी की राशि ट्रांसफर की जाएगी. आवेदन के समय, लाभार्थी को पूरी प्रक्रिया और उस सब्सिडी राशि के बारे में जानकारी दी जाएगी, जिसकी मदद से सोलर प्लांट को इंस्टॉल किया जा सकता है.

 

ऐप्लीकेशन को 15 दिनों में डिस्कॉम को फॉरवर्ड किया जाएगा :

तकनीकी तौर पर इसके लिए मंजूरी लेने के लिए ऐप्लीकेशन को अगले 15 कामकाजी दिनों के भीतर संबंधित डिस्कॉम को ऑनलाइन फॉरवर्ड किया जाएगा. डिस्कॉम को ऐप्लीकेशन को ट्रांसफर करने के बाद, इसे डिस्कॉम पोर्टल पर भी डिस्प्ले किया जाएगा.

तकनीकी मंजूरी मिलने के बाद, लाभार्थी अपनी पसंद के किसी विक्रेता से सोलर प्लांट को लगवा सकता है. इसके लिए व्यक्ति को DCR की शर्तों को पूरा करने वाले सोलर मॉड्यूल को चुनना होगा और ALMM के तहत एनलिस्ट कराना होगा और J3IS द्वारा सर्टिफाइड इन्वर्टर्स लेने होंगे. इसमें शामिल विक्रेताओं की सूची को पोर्टल पर उपलब्ध किया जाएगा.

यह भी पढ़ें :  नए साल में आयेगी बड़ी खुशखबरी! बिहार के बेटियों को मिलने वाले हैं 50 हजार रुपये | Mukhyamantri Kanya Utthan Yojana

 

प्लांट के लिए होंगे कुछ सुरक्षा नियम :

सोलर प्लांट के इंस्टॉल होने के बाद, मंत्रालय प्लांट के लिए स्टैंडर्ड और स्पेसिफिकेशन्स जारी करेगा. मंत्रालय लाभार्थी और विक्रेता के बीच होने वाले समझौते का फॉर्मेट भी जारी करेगा. समझौते में कई शर्तें होंगी, जिसमें इस बात को सुनिश्चित करने का प्रावधान भी रहेगा कि सोलर प्लांट सुरक्षा और प्रदर्शन के मापदंडों को पूरा करेगा और विक्रेता समझौते की शर्तों के मुताबिक अगले पांच साल या उससे ज्यादा अवधि के लिए प्लांट को बरकरार रखेगा.

सरकार द्वारा जारी किए गए बयान के मुताबिक, लाभार्थी को एक निर्धारित अवधि के भीतर अपना प्लांट लगवाना होगा. ऐसा नहीं करने पर, उसका आवेदन रद्द कर दिया जाएगा और उसे आरटीएस प्लांट को लगवाने के लिए फिर से आवेदन करना होगा.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page