Follow Us On Goggle News

मुख्यमंत्री वृद्धजन पेंशन योजना का राशि खाते में पाने के लिए 31 अक्टूबर तक जरूर कर लें ये काम | Chief Minister Old Age Pension Scheme.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Chief Minister Old Age Pension Scheme: मुख्यमंत्री वृद्धजन पेंशन योजना (Chief Minister Old Age Pension Scheme) के लिए जीवन प्रमाणीकरण कराना अनिवार्य है. अक्टूबर, 2021 के अंत तक प्रमाणीकरण नहीं कराने की स्थिति में उनके पेंशन का नियमित भुगतान प्रभावित हो सकता है.

Chief Minister Old Age Pension Scheme: बिहार के सरकारी पेंशन के लाभार्थी बुजुर्गों के लिए जरूरी खबर है. सभी बुजुर्ग जो कि मुख्यमंत्री वृद्धजन पेंशन योजना का लाभ ले रहे हैं, वह सभी इस 31 अक्टूबर 2021 तक जीवन प्रमाणीकरण जरूर करा लें. ऐसा न हो पाने की स्थिति में आपकी पेंशन रुक सकती है.

इसके अलावा नियमित भुगतान भी प्रभावित हो सकता है. इसके अलावा जरूरी है कि सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजनाओं इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन योजना, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय निःशक्तता पेंशन योजना, लक्ष्मीबाई सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना तथा बिहार निःशक्तता पेंशन योजना के पेंशनधारी भी तय तारीख तक ये कार्य जरूर कर लें.

यह भी पढ़ें :  Nitish Government's Big Decision : नितीश सरकार का बड़ा फैसला - 'बिहार में फिर से लागू होगा चकबंदी'.

 

ऐसे होगा प्रमाणीकरण : 

मुख्यमंत्री वृद्धजन पेंशन योजना (Chief Minister Old Age Pension Scheme) के लिए जीवन प्रमाणीकरण कराना अनिवार्य है. अक्टूबर, 2021 के अंत तक प्रमाणीकरण नहीं कराने की स्थिति में उनके पेंशन का नियमित भुगतान प्रभावित हो सकता है. लाभार्थियों की सुविधा को देखते हुए सितंबर से ही प्रमाणीकरण कार्यक्रम जारी है.

पेंशन के लाभार्थी को प्रमाणीकरण करवाने के लिए अपने साथ अपने आधार कार्ड के साथ बैंक खाता संख्या अथवा लाभार्थी संख्या ले जाना जरूरी होगा. पेंशनधारी स्थानीय स्तर पर उपलब्ध कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) या संबंधित प्रखंड कार्यालयों के माध्यम से करवा सकते हैं. कॉमन सर्विस सेंटर पर जीवन प्रमाणीकरण के लिए लाभुक को पांच रुपये शुल्क देनी होगी. जबकि प्रखंड कार्यालय में जीवन प्रमाणीकरण का निःशुल्क किया जा रहा है.

 

ऐसे भी होगा प्रमाणीकरण :

सभी प्रखंड कार्यालयों को सामाजिक सुरक्षा पेंशऩधारियों के जीवन प्रमाणीकरण के लिए बायोमैट्रिक डिवाइस एवं आईरिस स्कैनर डिवाइस उपलब्ध कराया जा चुका है. जिनका बायोमैट्रिक या आईरिस स्कैनर डिवाइस से प्रमाणीकरण नहीं हो सकेगा, उनका भौतिक सत्यापन किया जाएगा. भौतिक सत्यापन की प्रक्रिया के तहत ऐसे लोगों की सभी निजी जानकारी रजिस्टर में दर्ज की जाएगी साथ ही ऐसे मामलों के लिए हर एक पंचायत में भौतिक सत्यापन पंजी भी रखे जाने के लिए निर्देश दिए गए हैं.

यह भी पढ़ें :  Free Ration Scheme नवंबर तक बढ़ी, यदि आपको नहीं मिल पा रहा है Free राशन तो, घर बैठे ऐसे करें ऑनलाइन अप्लाई.

यह है मुख्यमंत्री वृद्धजन पेंशन स्कीम :

इस योजना के लिए बिहार राज्य के स्थाई निवासी जो 60 वर्ष की आयु को पूरा कर चुके हैं, बिहार राज्य के रिटायर्ड सरकारी कर्मचारी इस योजना के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं साथ ही आवेदक अन्य किसी प्रकार की पेंशन / सरकारी योजना का लाभ नहीं ले रहा हो यह भी जरूरी है.

मुख्यमंत्री वृद्धजन पेंशन स्कीम (Chief Minister Old Age Pension Scheme) का लाभ बुजुर्ग के जीवन के अंतिम क्षणों तक प्रदान किया जाता है. इस योजना से प्राप्त होने वाली धन राशि सीधे बैंक अकाउंट में भेजी जाती है. मुख्यमंत्री वृद्धजन पेंशन योजना (Chief Minister Old Age Pension Scheme) के अंतर्गत 60 से 79 आयु वर्ग के बुजुर्गों को 400 रुपये की पेंशन और 80 या उससे अधिक आयु के बुजुर्गों को 500 रुपये प्रति माह पेंशन के रूप में सहायता राशि प्रदान की जाती है.


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page