Follow Us On Goggle News

Agnipath Scheme: अग्निवीरों को एक और तोहफा पहले बैच के लिए 5 साल और बढ़ाई गई उम्र सीमा

इस पोस्ट को शेयर करें :

Agnipath Scheme: अग्निपथ योजना को लेकर युवाओं में नाराजगी और विरोध प्रदर्शन के बीच केंद्र सरकार ने इस स्कीम को लेकर कुछ अहम घोषणाएं की हैं. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को एक प्रस्ताव को मंजूरी दी जिसके तहत रक्षा मंत्रालय की नौकरियों में अग्निवीरों को 10 फीसदी आरक्षण मिलेगा. इसके अलावा अग्निवीरों की पहली बैच को आयु सीमा में 5 साल की छूट मिलेगी और अधिकतम उम्र 23 साल से बढ़कर 28 साल हो जाएगी. वहीं अग्निपथ योजना में अब अग्निवीरों की आयु सीमा को 21 वर्ष से बढ़ाकर 23 साल कर दिया गया है.

 

Agnipath Scheme: फर्स्ट ‘अग्निवीर’ बैच को आयु सीमा में 5 साल की छूट

इसके अलावा अग्निवीरों की पहली बैच को आयु सीमा में 5 साल की छूट मिलेगी और अधिकतम उम्र 23 साल से बढ़कर 28 साल हो जाएगी. वहीं अग्निपथ योजना में अब अग्निवीरों की आयु सीमा को 21 वर्ष से बढ़ाकर 23 साल कर दी गई है.

यह भी पढ़ें :  Agnipath Scheme: जलमार्ग मंत्रालय ने अग्निवीरों के लिए रोजगार के मौकों की घोषणा किया, ट्रेनिंग भी दिया जायेगा

 

‘अग्निवीरों’ को मिलेगा 10 फीसदी आरक्षण

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को एक प्रस्ताव को मंजूरी दी जिसके तहत रक्षा मंत्रालय की नौकरियों में अग्निवीरों को 10 फीसदी आरक्षण मिलेगा. यह रिजर्वेशन भारतीय तटरक्षक बल और डिफेंस सिविलियन पोस्ट के अलावा 16 रक्षा क्षेत्र की सार्वजनिक कंपनियों में लागू होगा.

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शनिवार को घोषणा की है कि अग्निवीरों को अर्धसैनिक बलों और असम राइफल्स की नियुक्तियों में 10 फीसदी आरक्षण दिया जाएगा और आयु सीमा में भी राहत दी जाएगी. सेना में 4 साल की अपनी सेवाएं पूर्ण करने के बाद अग्निवीरों को यह लाभ मिलेगा.

यह भी पढ़ें :  NIOS Course Agnipath Scheme: NIOS अग्निवीरों को देगा 12वीं पास का सर्टिफिकेट, बोर्ड परीक्षा देने की आवश्यकता नहीं

केंद्र सरकार द्वारा अग्निपथ योजना (Agnipath Scheme) के ऐलान के बाद से इस स्कीम को लेकर लगातार हिंसक विरोध-प्रदर्शन हुए. दरअसल इस योजना के जरिए सरकार देश के युवाओं को भारतीय सेना में सेवा करने का मौका दे रही है लेकिन विरोध इस योजना से जुड़ी नियम व शर्तों से हैं. दरअसल अग्निपथ योजना के तहत युवाओं को सेना में 4 वर्ष के लिए काम करने का अवसर मिलेगा और यह अवधि पूरी होने पर भर्ती किए गए कुल युवाओं में से सिर्फ 25 फीसदी जवानों को रेगुलर कैडर में शामिल किया जाएगा.

प्रदर्शनकारी छात्रों का कहना है कि इस योजना में सेना में स्थाई नौकरी, फिक्स सैलरी, पेंशन और अन्य लाभ से वे वंचित हो जाएंगे. लेकिन सरकार ने कहा है कि, अग्निपथ योजना में उन्हें 4 वर्ष के लिए 11.71 लाख रुपए का पैकेज मिलेगा, साथ ही सेवा पूर्ण होने पर उन्हें राज्य पुलिस और अर्ध सैनिक बलों की नौकरियों में प्राथमिकता व आरक्षण दिया जाएगा. नाराज छात्रों की मांग को देखते हुए केंद्र सरकार ने अग्निपथ योजना को लेकर कुछ बदलाव व अहम घोषणाएं की हैं.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page