Follow Us On Goggle News

Afghanistan News : क्या है अफगानिस्‍तान में तालिबान का शासन के पीछे? जानिए अमेरिका, रूस और चीन जैसे विकसित देशों की नज़र इस गरीब देश पर क्यों टिकी है?

इस पोस्ट को शेयर करें :

साउथ एशिया का ‘सबसे अमीर’ देश है अफगानिस्‍तान, फिर भी झेल रहा है तकदीर की मार- जानें पूरी कहानी.

 

अफगानिस्‍तान में फिर से तालिबान का शासन वापस आ गया है. अफगानिस्‍तान के लोग सालों से गरीबी की हालत में जिंदगी काटते आए हैं. एक ऐसा देश जिसने हमेशा युद्ध झेला और हर बार गरीबी से निकलने की कोशिशें करता रहा. हकीकत इसके उलट है. आप हैरान हो जाएंगे ये सुनकर कि अफगानिस्‍तान साउथ एशिया का सबसे अमीर देश है लेकिन उसकी तकदीर में फिर गरीबी ही आती है.

इस गरीब देश अफगानिस्तान में इतनी ताकत है कि वो संपन्नता के मामले में दुनिया के कई देशों को पीछे छोड़ देगा. यही वजह है कि तालिबान भी इस देश को नहीं छोड़ना चाहता. अमेरिका, रूस जैसे देश बार-बार यहां आते हैं और चीन की भी टेढ़ी नजर अफगानिस्तान पर टिकी है.

यह भी पढ़ें :  President Ram Nath Kovind Speech : गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति कोविंद का देश के नाम संबोधन, जानें राष्ट्रपति के संबोधन की खास बातें.

2010 में, अमेरिकी सैन्य अधिकारियों और भूवैज्ञानिकों ने खुलासा किया था, जिसके मुताबिक अफगानिस्‍तान के खनिज संसाधन को कम से कम 1 लाख करोड़ का बताया गया था. अमेरिकी जियोलॉजिस्‍ट को यहां पर भारी मात्रा में खनिज मिले थे. चांदी जैसा दिखने वाला लिथियम रिन्‍यूबल एनर्जी बैटरीज के लिए बहुत जरूरी है.

afgan-army

तालिबान क्‍लीन एनर्जी के लिए सबसे बड़ी चुनौती : मोबाइल फोन आज सबसे बड़ी जरूरत बन गया है. इस फोन की बैटरी से लेकर आप इसके लिए जो पावर बैंक यूज करते हैं, उसमें लिथियम बैटरी का ही प्रयोग होता है. तालिबान ने अब अफगानिस्‍तान में मौजूद करोड़ों टन मिनरल्‍स पर भी कब्‍जा कर लिया है. ये मिनरल्‍स, क्‍लीन एनर्जी इकोनॉमी के लिए बहुत ही संवेदनशील हैं.

वॉशिंगटन के इकोलॉजिकल सिक्‍योरिटी प्रोग्राम के मुखिया रॉड स्‍कूनोवर के मुताबिक तालिबान दुनिया में सबसे रणनीतिक खनिज भंडार पर बैठा है. ये देखना होगा कि वो इसका कैसे प्रयोग करेंगे. अफगानिस्‍तान पर कब्‍जा करने के साथ ही तालिबान क्‍लीन एनर्जी के लिए सबसे बड़ी चुनौती है.

यह भी पढ़ें :  US Airstrike In Syria: अमेरिकी सेना ने ISIS चीफ अबू इब्राहिम को सीरिया में मार गिराया, राष्ट्रपति बाइडेन बोले- यह बड़ी जीत.

अफगान में लोहे, तांबे, कोबाल्ट, सोने के बड़े भंडार मौजूद : वैज्ञानिकों के मुताबिक अफगानिस्तान में लोहे, तांबे, कोबाल्ट, सोने और लीथियम के बड़े भंडार मौजूद हैं. विशेषज्ञों के मुताबिक अफगानिस्‍तान के दुर्लभ खनिज संसाधन पृथ्वी पर सबसे बड़े हैं. आपको बता दें कि दुर्लभ खनिज इस समय टेक्‍नोलॉजी की सबसे बड़ी जरूरत हैं. इनकी मदद से ही मोबाइल फोन, टीवी, हाइब्रिड इंजन, कंप्यूटर, लेजर और बैटरी तैयार की जाती हैं.

सबसे बड़े खनिज भंडार लोहे और तांबे के हैं और इनकी मात्रा काफी ज्‍यादा है. ये इतनी मात्रा में हैं कि अफगानिस्तान इन खनिजों में दुनिया का सबसे बड़ा देश बन सकता है. इसी पर तालिबान से लेकर उसके समर्थक देशों की नजरें लगी हैं. जिसमें चीन भी शामिल हैं.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page