Follow Us On Goggle News

Russia-Ukraine war : भारत समेत दुनिया के तमाम देशों पर पड़ेगा रूस-यूक्रेन युद्ध का बुरा असर, आम आदमी पर टूटेगा महंगाई का पहाड़.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Russia-Ukraine war : यूक्रेन समेत तमाम यूरोपीय देशों में भारत बड़े पैमाने पर दवा, बॉयलर मशीनरी, मकेनिकल अप्लायंस, तिलहन, फल, कॉफी, चाय, मसालों समेत कई महत्वपूर्ण चीजों का निर्यात करता है. वहीं दूसरी ओर, भारत यूक्रेन से सनफ्लावर ऑयल, लोहा, स्टील, प्लास्टिक, केमिकल्स, इनॉर्गेनिक केमिकल्स, जानवर, वेजिटेबल फैट एंड ऑयल आदि वस्तुएं आयात करता है.

Russia-Ukraine war : रूस और यूक्रेन (Russia-Ukraine) के बीच बनी तनाव की स्थिति अब युद्ध में बदल चुकी है. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने यूक्रेन के खिलाफ युद्ध का ऐलान कर दिया. खबरों के मुताबिक रूस ने यूक्रेन के 11 शहरों में हमला किया है, जिनमें राजधानी कीव के अलावा खार्किव, मोलदोवा और चिशिनाओ भी शामिल हैं. यूक्रेन ने दावा किया है कि रूस द्वारा किए जा रहे हमले में अभी तक 300 लोग मारे जा चुके हैं. बता दें कि रूस और यूक्रेन के बीच छिड़ी इस जंग पर अमेरिका समेत दुनिया के सभी देशों की नजरें बनी हुई हैं. दोनों देशों के बीच हो छिड़ी जंग व्यापार (Business) की दृष्टि से भी पूरी दुनिया के लिए चिंता का विषय है. बता दें कि भारत और यूक्रेन के बीच मजबूत व्यापारिक संबंध है, लेकिन इस युद्ध की वजह से दोनों देशों के व्यापारिक संबंधों पर बुरा असर पड़ना तय है.

यह भी पढ़ें :  Afghanistan Taliban War : काबुल एयरपोर्ट पर जबर्दस्त फायरिंग, अमेरिका ने एयरपोर्ट की सुरक्षा अपने हाथ में ली.

भारत और यूक्रेन के बीच कई जरूरी चीजों का होता है व्यापार :

यूक्रेन समेत तमाम यूरोपीय देशों में भारत बड़े पैमाने पर दवा, बॉयलर मशीनरी, मकेनिकल अप्लायंस, तिलहन, फल, कॉफी, चाय, मसालों समेत कई महत्वपूर्ण चीजों का निर्यात करता है. वहीं दूसरी ओर, भारत यूक्रेन से सनफ्लावर ऑयल, लोहा, स्टील, प्लास्टिक, केमिकल्स, इनॉर्गेनिक केमिकल्स, जानवर, वेजिटेबल फैट एंड ऑयल आदि वस्तुएं आयात करता है. रूस और यूक्रेन के बीच छिड़ी जंग के कारण न सिर्फ यूक्रेन में भारत का व्यापार प्रभावित होगा बल्कि यूक्रेन से आने वाले सामानों की सप्लाई पर भी बुरा असर पड़ना तय है. लिहाजा, यूक्रेन से आने वाली कई जरूरी चीजों की सप्लाई प्रभावित होने से इनकी कीमतों में बढ़ोतरी होना भी लगभग तय है.

यूक्रेन के लिए 15वां सबसे बड़ा एक्सपोर्ट मार्केट है भारत :

यूएन कॉमट्रेड के आंकड़ों के अनुसार, साल 2020 में भारत, यूक्रेन के लिए 15वां सबसे बड़ा एक्सपोर्ट मार्केट और दवा उत्पादों का दूसरा सबसे बड़ा इंपोर्ट मार्केट था. वहीं दूसरी ओर भारत के लिए यूक्रेन 23वां सबसे बड़ा एक्सपोर्ट मार्केट है और 30वां सबसे बड़ा इंपोर्ट मार्केट है. कुल मिला-जुलाकर भारत और यूक्रेन के बीच करोड़ों डॉलर का व्यापार होता है, जिस पर युद्ध की वजह से बुरा असर पड़ेगा और इससे कई चीजों की कीमतों में भी बढ़ोतरी होगी. इस नजरिए से देखा जाए तो रूस और यूक्रेन के बीच हो रहे युद्ध का असर सिर्फ रूस और यूक्रेन पर ही नहीं बल्कि भारत समेत दुनिया के तमाम देशों पर पड़ेगा.

यह भी पढ़ें :  Russia Ukraine war : अमेरिका के राष्ट्रपति बाइडेन का ऐलान- यूक्रेन में सेना नहीं उतारेंगे, लेकिन रूस को मनमानी नहीं करने देंगे.

 

 


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page