Follow Us On Goggle News

Rishi Sunak: कौन हैं भारतीय मूल के ऋषि सुनक, जो बन सकते हैं ब्रिटेन के अगले प्रधानमंत्री

इस पोस्ट को शेयर करें :

Rishi Sunak: बोरिस जॉनसन पर दबाव का यह सिलसिला पांच जुलाई से शुरू हुआ था, जब ब्रिटेन सरकार में वित्त मंत्री ऋषि सुनक ने इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद स्वास्थ्य मंत्री साजिद वाजिद के इस्तीफे से भी उनकी कुर्सी पर संकट बढ़ गया था.

 

Rishi Sunak: ब्रिटेन में आखिरकार वही हुआ, जिसका अंदेशा पिछले कुछ दिनों से लगाया जा रहा था. अब खबर आ रही है कि राजनीतिक संकट से जूझ रहे ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson Resigns) अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं. एक-एक कर के कई मंत्रियों और अधिकारियों के इस्तीफे के बाद स्कैंडल और तमाम आरोपों का सामना कर रहे बोरिस जॉनसन चारों ओर से घिर गए हैं. बीते 48 घंटे में बोरिस सरकार के 45 मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है. इनमें भारतीय मूल के ऋषि सुनक और स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद भी शामिल हैं.

 

बोरिस के इस्तीफे की चर्चा के साथ ही इस बात की चर्चा होने लगी है कि अगला प्रधानमंत्री कौन होगा. इस रेस में भारतीय मूल के ऋषि सुनक का नाम भी शामिल है, जो चुनाव से पहले कराए गए एक सर्वे में सबसे लोकप्रिय उम्मीदवार बताए गए थे. मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य में ऐसे 6 दावेदार हैं जो प्रधानमंत्री पद की रेस में आगे चल रहे हैं. इनमें ऋषि सुनक के अलावा जेरेमी हंट, लिज ट्रूस, नदीम जाहवी, साजिद जाविद और पैनी मॉर्डेंट के नाम शामिल हैं. आइए जानते हैं, क्यों ये 6 लीडर पीएम पद के दावेदार हैं.

यह भी पढ़ें :  Afghanistan Taliban War : अफगानिस्तान में हालात बेकाबू, काबुल एयरपोर्ट पर गोलीबारी में पांच की मौत.

1.लिज ट्रूस

ब्रिटेन की विदेश मंत्री लिज ट्रूस कंजर्वेटिव पार्टी की नेता हैं. जमीनी स्तर पर लोग उन्हें खूब पसंद करते हैं. पार्टी सदस्यों के चुनावों में वह हमेशा से टॉप पर रही हैं. वह 46 वर्ष की हैं. उन्होंने जॉनसन सरकार के शुरुआती दो सालों में अंतरराष्ट्रीय व्यापार सचिव के तौर पर भी काम किया है. उन्होंने ब्रेग्जिट का समर्थन किया था और पिछले साल उन्हें यूरोपियन यूनियन से बात करने के लिए उन्हें देश का प्रमुख वार्ताकार नियुक्त किया गया था. ट्रूस लोगों के बीच खूब फेमस हैं. उन्होंने अभी इस्तीफा नहीं दिया है. ऐसे में उनका नाम पीएम पद की रेस में आगे चल रहा है.

2. ऋषि सुनक

ब्रिटेन के वित्त मंत्री पद से इस्तीफा देने वाले ऋषि सुनक काफी पहले से ही पीएम पद के दावेदार के तौर पर देखे जा रहे हैं. भारतीय मूल के सुनक की उम्र अभी सिर्फ 41 साल है और वह ब्रिटेन में काफी लोकप्रिय हैं. वे इन्फोसिस के फाउंडर नारायण मूर्ति के दामाद हैं. चांसलर ऋषि सुनक ने कोविड महामारी के समय खूब काम किया था. उन्होंने ही अर्थव्यवस्था के लिए रेस्क्यू पैकेज का ऐलान किया था, जिसके लिए उनकी तारीफ की गई थी.

ऋषि नौकरियों को लेकर एक प्रोग्राम भी लेकर आए, जिससे बड़े पैमाने पर बेरोजगारी कम हुई. उनके कदमों की बदौलत ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था को 514 अरब डॉलर का घाटा होने से बच गया. ब्रिटेन में लॉकडाउन लगाकर खुद शराब पार्टी करने में व्यस्त होने वाले पीएम बोरिस जॉनसन की जब से आलोचना शुरू हुई और वे आरोपों में घिरते चले गए, तब से यह माना जाने लगा कि ऋषि सुनक ब्रिटेन के अगले प्रधानमंत्री बन सकते हैं.

यह भी पढ़ें :  Climate Change: ‘इंसान धीरे-धीरे बौने हो जाएंगे’, चिंताजनक है नई रिपोर्ट, बताया - 3.5 फीट तक रह जाएगी लोगों की लम्बाई

3. नदीम जाहवी

नदीम जाहवी शिक्षा मंत्री रहे हैं. कोविड वैक्सीनेशन के दौरान तो उन्हें ब्रिटेन का वैक्सीन मंत्री कहा जाने लगा था, क्योंकि उनकी नीतियों की वजह से ही ब्रिटेन में दुनिया का सबसे तेज गति से वैक्सीनेशन हुआ था. जाहवी की कहानी बाकी नेताओं से अलग है. वह इराक से एक शरणार्थी के तौर पर ब्रिटेन आए और फिर यहीं बस गए. यहां उन्होंने एक पोलिंग कंपनी YouGov की सह-स्थापना की थी और फिर 2010 में ब्रिटेन की संसद में एंट्री मारी. पिछले महीने जब बोरिस जॉनसन के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का माहौल बना था और उनसे पूछा गया था कि क्या वे पीएम पद की रेस में हैं, तब उन्होंने बस इतना कहा था कि वह देश के प्रधानमंत्री बनकर सम्मानित महसूस करेंगे.

4. साजिद जाविद

पीएम पद की रेस में एक नाम साजिद जाविद का भी है. वे ब्रिटेन में आयरन लेडी कही जानेवाली पूर्व प्रधानमंत्री मार्गरेट थैचर के समर्थक हैं. उनकी ऑफिस में दीवार पर थैचर की तस्वीर लटकी दिखती है. इसके साथ ही वे अमेरिकी दार्शनिक और लेखक ऐन रैंड के मुक्त बाजार पूं​जीवाद वाले विचार के भी समर्थक हैं. पूर्व में वे स्वास्थ्य सचिव रह चुके हैं और कैबिनेट में कई बड़ी भूमिकाएं निभाई है. ऋषि सुनक से प​हले वे बोरिस कैबिनेट में वित्त मंत्री थे. हालांकि अपने कुछ सहयोगियों की बर्खास्तगी से इनकार करने के बाद उन्होंने 2020 में इस्तीफा दे दिया था. वे पूर्व पीएम थेरेसा मे की सरकार में भी गृह सचिव रह चुके हैं.

यह भी पढ़ें :  Viral News: छींक मारते ही नाक से बाहर आई 10 साल पुरानी चीज! लड़का हैरान

5. जेरेमी हंट

ब्रिटेन के पीएम पद की रेस में 55 वर्षीय पूर्व विदेश मंत्री जेरेमी हंट का नाम भी चर्चा में है. 2019 में जब देश के नए नेता के तौर पर चुने गए लोगों को लेकर वोटिंग हुई तो वे बोरिस जॉनसन के बाद दूसरे स्थान पर थे. पिछले दो सालों में जेरेमी हंट ने पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के रूप में काफी काम कर चुके हैं. उन्होंने स्वास्थ्य चयन समिति की अध्यक्षता में भी अपने अनुभव का खूब इस्तेमाल किया. इसी साल उन्होंने कहा था कि देश का प्रधानमंत्री बनने की उनकी इच्छा खत्म नहीं हुई है.

6. पैनी मॉर्डेंट

ब्रिटेन की रक्षा मंत्री रह चुकी पैनी मॉर्डेंट का नाम भी प्रधानमंत्री पद की रेस में चल रहा है. यह जानना दिलचस्प है कि बोरिस जॉनसन ने प्रधानमंत्री बनने के बाद ही मॉर्डेंट को रक्षा मंत्री के पद से हटाया था, क्योंकि उन्होंने पीएम के लिए तब जेरेमी हंट के नाम का समर्थन किया था. मॉर्डेंट यूरोपियन यूनियन छोड़ने की समर्थक रही हैं. रियलिटी शो में हिस्सा लेकर भी वह खूब पॉपुलर हुई हैं. उन्होंने जॉनसन के पार्टी करने पर खूब आलोचना की थी.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page