Follow Us On Goggle News

UP Board Syllabus: UP Board ने किया बड़ा फैसला, 9वीं से 12वीं क्लास के स्टूडेंट्स के सिलेबस में 30 फीसदी कटौती रहेगी जारी

इस पोस्ट को शेयर करें :

UP Board Syllabus: एक्सपर्ट्स का कहना है कि पिछले दो सालों से कोरोनावायरस महामारी की वजह से रेगुलर पढ़ाई नहीं हुई है. ऐसे में UP Board की तरफ से ये फैसला किया गया है.

 

UP Board Syllabus: यूपी बोर्ड के 10वीं और 12वीं क्लास के रिजल्ट का ऐलान हो चुका है. इस साल बोर्ड का रिजल्ट बेहतर रहा है. ऐसे में अब अगले अकेडमिक ईयर की तैयारी हो चुकी है. नए अकेडमिक ईयर की शुरुआत होने से पहले ही UP Board ने बड़ा फैसला लिया है. ये फैसला बोर्ड के एक करोड़ से अधिक स्टूडेंट्स को प्रभावित करने वाला है. दरअसल, यूपी बोर्ड ने लगातार तीसरे साल 9वीं से 12वीं क्लास के स्टूडेंट्स के लिए UP Board Syllabus में कटौती का फैसला बरकरार रखा है. इस साल भी यूपी बोर्ड के स्टूडेंट्स को 70 फीसदी सिलेबस ही पढ़ाया जाएगा.

 

यह भी पढ़ें :  Ladli Laxmi Yojana 2.0 : कॉलेज में एडमिशन पर बेटियों को मिलेंगे 25 हजार रुपए, जानिए कैसे मिलेगा लाभ.

यूपी बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट पर 2022-23 अकेडमिक ईयर के लिए सिलेबस को अपलोड किया गया है. इसमें सभी सब्जेक्ट्स में 30 फीसदी सिलेबस की कटौती बरकरार रखी गई है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि पिछले दो सालों से कोरोनावायरस महामारी की वजह से रेगुलर पढ़ाई नहीं हुई है. इस वजह से स्टूडेंट्स मानसिक दबाव का सामना कर रहे हैं. यहां गौर करने वाली बात ये है कि बोर्ड एग्जाम के बाद दो महीने तक प्रैक्टिकल एग्जाम और इवैल्यूशन प्रोसेस चलता रहा. इस वजह से भी स्टूडेंट्स की पढ़ाई प्रभावित हुई.

बोर्ड की तरफ से ये फैसला क्यों लिया गया?

माना जा रहा है कि यूपी बोर्ड की तरफ से ये फैसला इसलिए लिया गया है, क्योंकि दो सालों बाद स्कूलों में लौटने वाले बच्चों को अच्छा माहौल दिया जा सकेगा. साथ ही स्टूडेंट्स का समग्र विकास भी हो पाएगा. इन बातों को ही ध्यान में रखते हुए 70 फीसदी सिलेबस को मंजूरी दी गई है. वहीं, इस अकेडमिक ईयर एक बड़ा बदलाव भी देखने को मिलेगा. दरअसल, यूपी बोर्ड इस साल से 9वीं और 12वीं क्लास के स्टूडेंट्स का एग्जाम नए पैटर्न पर करवाने वाला है. ऐसा पहली बार होगा कि अकेडमिक सेशन में पांच मासिक एग्जाम होंगे. इसमें तीन MCQ और दो एग्जाम डिस्क्रिप्टिव होंगे.

यह भी पढ़ें :  Bihar Board Exam Practice : बिहार बोर्ड इंटर में सिर्फ 7 दिनों में पा सकते हैं अच्छे नंबर, यहाँ से सीधे आते है प्रश्न.

CBSE ने भी सिलेबस में कटौती का ऐलान किया

यहां गौर करने वाली बात ये है कि सिलेबस में कटौती करने वाला यूपी बोर्ड इकलौता बोर्ड नहीं है. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने भी सिलेबस में कटौती का अपना फैसला बरकरार रखा है. CBSE Board ने भी दो सालों की तरह 70 फीसदी सिलेबस कटौती का फैसला बरकरार रखा है. भले ही CBSE की तरफ से सिलेबस में कटौती का ऐलान कर दिया गया है. लेकिन स्टूडेंट्स और पैरेंट्स के बीच इस बात को लेकर भी चिंता है कि क्या सिलेबस समय पर पूरा हो जाएगा. CBSE एग्जाम फरवरी में करवाए जाने हैं. ऐसे में लगभग 6 महीने में सिलेबस पूरा करना है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page