Follow Us On Goggle News

Mann ki Baat : ‘मन की बात’ में PM मोदी ने की मधुबनी के ‘सुखेत मॉडल’ की तारीफ, जानिए  क्या है सुखेत मॉडल?

इस पोस्ट को शेयर करें :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात के 80वें एपिसोड में बिहार के मधुबनी के ‘सुखेत मॉडल’ की तारीफ की. उन्होंने कहा कि मैं देश के प्रत्येक पंचायत से कहूंगा कि ऐसा कुछ करने के बारे में वे भी जरूर सोचें.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने अपने ‘मन की बात’ (Mann ki Baat) कार्यक्रम में रविवार को बिहार के मधुबनी के ‘सुखेत मॉडल’ की तारीफ की. उन्होंने इसे देश के हर गांव को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में बड़ा कदम बताया. पीएम ने कहा कि सभी पंचायत को इससे सीख लेनी चाहिए.

नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘साथियों, मेरे सामने एक उदाहरण बिहार के मधुबनी से आया है. मधुबनी में डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद कृषि विश्वविद्यालय और वहां के स्थानीय कृषि विज्ञान केंद्र ने मिलकर एक अच्छा प्रयास किया है. इसका लाभ किसानों को तो हो ही रहा है, इससे स्वच्छ भारत अभियान को भी नई ताकत मिल रही है. विश्वविद्यालय की इस पहल का नाम ‘सुखेत मॉडल’ है. इसका मकसद गांवों में प्रदूषण कम करना है.’

यह भी पढ़ें :  Solar Street Light : नीतीश सरकार का बड़ा फैसला ! सोलर लाइट से जगमग होंगी गांवों की गलियां-सड़कें; जानें कब शुरू होगा काम

पीएम ने कहा, ‘इस मॉडल के तहत गांव के किसानों से गोबर और खेतों व घरों से निकलने वाला कचरा इकट्ठा किया जाता है. बदले में गांववालों को रसोई गैस सिलेंडर के लिए पैसे दिए जाते हैं. जो कचरा गांव से एकत्रित होता है उसके निपटारे के लिए वर्मी कम्पोस्ट बनाने का भी काम किया जा रहा है. यानी सुखेत मॉडल के चार लाभ तो सीधे-सीधे नजर आते हैं. एक तो गांव को प्रदूषण से मुक्ति, दूसरा गांव को गंदगी से मुक्ति, तीसरा गांव वालों को रसोई गैस सिलेंडर के लिए पैसे और चौथा गांव के किसानों को जैविक खाद.’

 

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘आप सोचिए, इस तरह के प्रयास हमारे गांवों की शक्ति कितनी ज्यादा बढ़ा सकते हैं. यही तो आत्मनिर्भरता का विषय है. मैं देश के प्रत्येक पंचायत से कहूंगा कि ऐसा कुछ करने के बारे में वे भी जरूर सोचें. साथियों, जब हम एक लक्ष्य लेकर निकल पड़ते हैं तो नतीजा मिलना निश्चित होता है. अब देखिये न, हमारे तमिलनाडु में शिवगंगा जिले की कान्जीरंगाल पंचायत. देखिये इस छोटी सी पंचायत ने क्या किया. यहां पर आपको वेस्ट से वेल्थ का एक और मॉडल देखने को मिलेगा.’

यह भी पढ़ें :  Blast in Barauni Refinery : बिहार के बेगूसराय में बरौनी रिफाइनरी में विस्फोट में 19 घायल, 3-4 KM के दायरे में सहमे लोग

नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘यहां ग्राम पंचायत ने स्थानीय लोगों के साथ मिलकर कचरे से बिजली बनाने का एक लोकल प्रोजेक्ट अपने गांव में लगा दिया है. पूरे गांव से कचरा इकट्ठा होता है, उससे बिजली बनती है और बचे हुए प्रोडक्ट को कीटनाशक के रूप में बेच दिया जाता है. गांव के इस पावर प्लांट की क्षमता प्रतिदिन दो टन कचरे के निस्तारण की है. इससे बनने वाली बिजली गांव की स्ट्रीट लाइट और दूसरी जरूरतों में उपयोग हो रही है. इससे पंचायत का पैसा बच रहा है इसका इस्तेमाल विकास के दूसरे कामों में किया जा रहा है.’

जानिए  क्या है सुखेत मॉडल? : इस मॉडल के तहत गांव के किसानों से गोबर और खेतों-घरों से निकलने वाला कचरा इकट्ठा किया जाता है और बदले में गांव वालों को रसोई गैस सिलेंडर के लिए पैसे दिए जाते हैं। जो कचरा गांव से एकत्रित होता है, उसके निपटारे के लिए जैविक खाद बनाने का किया जाता है। यानी सीधा समझा जाए तो गांव से गोबर और कचरे को इकट्ठा करके और फिर उसे मिलाकर खाद बनाया जाता है, जो खेती के इस्तेमाल में ले लिया जाता है।

यह भी पढ़ें :  बड़ी खबर : पीएम नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में किया बड़ा ऐलान, कहा -'तीनों कृषि कानूनों को वापस लेंगे' | PM Modi Live

पीएम मोदी ने गिनाए चार बड़े फायदे :
● पहला- गांव को प्रदूषण से मुक्ति
● दूसरा- गांव को गंदगी से मुक्ति
● तीसरा- गांव वालों को रसोई गैस सिलेंडर के लिए पैसे
● चौथा- गांव के किसानों को जैविक खाद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मॉडल का उदाहरण देते हुए देश की सभी पंचायतों से कुछ ऐसी ही पहल करने का आह्वान किया है। उन्होंने कहा कि इस तरह के प्रयास हमारे गांवों की शक्ति बढ़ा सकते हैं। यही तो आत्मनिर्भरता का विषय है। मैं देश की प्रत्येक पंचायत से कहूंगा कि ऐसा कुछ करने का वो भी अपने यहां जरूर सोचें।


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page