Follow Us On Goggle News

Fact Check : सावधान ! मोबाइल टावर लगवाने के नाम पर हो रही ठगी, सरकार ने जारी की ये चेतावनी.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Fact Check : वायरल खबर में दावा किया जा रहा है कि दूरसंचार विभाग मोबाइल टावर लगाने के लिए नो-ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (NOC) दे रहा है

Fact Check : अगर आप घर की छत या अपनी जमनी पर मोबाइल टावर (Mobile Tower) लगवाने की सोच रहे हैं तो सचेत हो जाएं. सोशल मीडिया पर इन दिनों एक खबर तेजी से वायरल हो रही है. वायरल खबर में दावा किया जा रहा है कि दूरसंचार विभाग (DoT) मोबाइल टावर लगाने के लिए नो-ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (NOC) दे रहा है. अगर आप भी इस दावे के झांसे में आकर मोबाइल टावर लगवाने के लिए भुगतान कर रहे हैं तो सावधान हो जाएं. यह दावा पूरी तरह से फर्जी है. पीआईबी फैक्ट चेक (PIB Fact Check) के मुताबिक, DoT ऐसे प्रमाण पत्र जारी नहीं करता है.

 

PIB फैक्ट चेक ने ट्वीट में कहा, फेक अनापत्ति प्रमाण-पत्र का दावा है कि प्राप्तकर्ता के स्थान पर मोबाइल टावर लगाया जाएगा. पीआईबी फैक्ट चेक ने इस दावे को फर्जी बताया है. उसने कहा, दूरसंचार विभाग ऐसे सर्टिफिकेट्स जारी नहीं करता है. इसलिए ऐसी अफवाहों और जालसाजों से दूर रहें.

यह भी पढ़ें :  Tech News: केंद्र का Telecom कंपनियों को आदेश, अंतराष्ट्रीय कॉल और मैसेज को 2 साल तक सुरक्षित रखना अनिवार्य.

 

 

पैसा लेकर हो जाते हैं नौ दो ग्यारह :

सरकार ने मोबाइल टावर लगाने से संबंधित धोखाधड़ी के बारे में चेतावनी जारी की है. सरकार ने कहा, जालसाज आम जनता झांसा देते हैं और उन्हें अपने परिसर में टावर लगवाने के लिए आकर्षक मासिक किराया दिलाने का वादा करते हैं. टावर लगवाने के नाम पर वे लोगों से उनके पर्सनल, कंपनी खाते में सिक्योरिटी डिपॉजिट, आवेदन शुल्क, पंजीकरण शुल्क, स्टाम्प शुल्क, सरकारी टैक्स के रूप में एडवांस जमा करने के लिए कहा जाता है. एक बार खाते में पैसा जमा हो जाता है, तो ये जालसाज अपना काम बंद कर देते हैं और पहुंच से बाहर हो जाते हैं. ये कंपनियां दूरसंचार विभाग, अलग-अलग सरकार द्वारा जारी टावर के लिए फर्जी अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी कर रही हैं.

यह भी पढ़ें :  Airtel Free 4G Data : एयरटेल यूजर्स के लिए बड़ी खुशखबरी, कंपनी फ्री में देगी 2GB 4G डेटा, ऐसे मिलेगा फायदा.

सरकार नोटिस में कहा, आम जनता को सूचित किया जाता है कि दूरसंचार विभाग (DoT) मोबाइल टावर लगाने के लिए परिसर को पट्टे पर देने या इस उद्देश्य के लिए कोई अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी करने पर कोई टैक्स, शुल्क लगाने में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से शामिल नहीं है.

 

एक मोबाइल टावर दूरसंचार सेवा प्रदाता (TSP) या इंफ्रास्ट्रक्चर सेवा प्रदाता (IP-I) द्वारा उनकी लाइसेंसिंग या पंजीकरण शर्तों के मुताबिक स्थापित किया जा सकता है. दूरसंचार सेवा प्रदाताओं और IP-I सेवा प्रदाताओं की सूची दूरसंचार विभाग की वेबसाइट http://www.dot.gov.in पर उपलब्ध है. लोगों को आगाह किया जाता है कि विचार करने से पहले दूरसंचार विभाग की वेबसाइट से टीएसपी/आईपी-1 की प्रामाणिकता सत्यापित करें.

अगर कोई भी व्यक्ति या संस्था धोखाधड़ी से इस तरह की गतिविधि में शामिल पाया गया जैसे मोबाइल टावर लगवाने के नाम पर एडवांस लेना, दूरसंचार विभाग के नाम/लोगो/सिफारिश या राष्ट्रीय प्रतीक का उपयोग करने पर कानून के तहत मुकदमा चलाया जा सकता है.


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page