Follow Us On Goggle News

Driving License बनवाने के न‍ियम बदले, अब नहीं लगाने होंगे RTO के चक्कर, जानिए क्या है नया नियम.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Driving License New Rules 2022 : यदि आप दो या चार पहिया वाहन चलाते हैं, और इसके लिए ड्राइविंग लाइसेंस की जररूरत होती है. लेकिन लाइसेंस (licence) बनवाने के लिए अब आपको क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (RTO) जाने की आवश्यकता नहीं है. जी हाँ अब लाईसेंस बनवाना बहुत ही सरल हो गया है. केंद्र सरकार ने ड्राइविंग लाइसेंस (driving licence) बनवाने की शर्तों में नया बदलाव किया है. नए न‍ियम लागू होने के बाद सबसे ज्‍यादा फायदा आम आदमी को होगा और आपको RTO के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

 

Driving License New Rules 2022 : यदि आप भी अपना ड्राइव‍िंग लाइसेंस बनवाने या र‍िन्‍यू कराने का प्‍लान कर रहे हैं तो यह खबर आपके ल‍िए बेहद जरुरी है. केंद्र सरकार की तरफ से ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License) बनवाने के न‍ियमों में बदलाव क‍िया गया है. नए न‍ियमों का फायदा आम आदमी को म‍िलना तय है. इन न‍ियमों के लागू होने के बाद आपको ड्राइविंग लाइसेंस (DL) बनवाने के लिए रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस (RTO) के चक्कर नहीं काटने होंगे. केंद्र सरकार की तरफ से बनाए गए ड्राइविंग लाइसेंस के नए न‍ियम पहले के मुकाबले बेहद आसान हैं.

यह भी पढ़ें :  Tech News : WhatsApp यूजर्स को बड़ा झटका! अब इन स्मार्टफोन्स पर नहीं चलेगा WhatsApp, चेक कर लें लिस्ट कहीं आपका फोन भी तो नहीं शामिल.

 

1 जुलाई 2022 से लागू होंगे नए न‍ियम :

 

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के संशोध‍ित न‍ियम के अनुसार अब आपको क‍िसी तरह का ड्राइविंग टेस्ट RTO जाकर नहीं देना होगा. केंद्रीय सड़क परिवहन और हाईवे मंत्रालय की तरफ से नए न‍ियमों को 1 जुलाई 2022 से लागू क‍िया जाएगा. नए न‍ियम लागू होने के बाद ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के ल‍िए वेट‍िंग ल‍िस्‍ट का इंतजार कर रहे करोड़ों लोगों को राहत म‍िलेगी.

 

सर्टिफिकेट के बेस पर बनेगा डीएल :

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए अब आरटीओ (RTO) में टेस्ट देने का इंतजार नहीं करना होगा. आप डीएल के ल‍िए किसी भी मान्यता प्राप्त ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल (Driving Training School) में रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं. यहां से ट्रेनिंग लेने के बाद आपको वहीं से टेस्ट पास करना होगा. टेस्ट पास करने वालों को स्‍कूल एक सर्टिफिकेट जारी करेगा. इस सर्टिफिकेट के बेस पर आपका डीएल बनाया जाएगा.

 

थ्योरी और प्रैक्टिकल दोनों होगा जरूरी :

ड्राइविंग लाइसेंस (DL) के लिए मंत्रालय की तरफ से शिक्षण पाठ्यक्रम तैयार क‍िया गया है. इसे थ्योरी और प्रैक्टिकल दो ह‍िस्‍सों में बांटा गया है. लाइट मोटर व्‍हीकल (LMV) के लिए कोर्स की अवधि चार हफ्ते की है, जो 29 घंटे चलेगी. प्रैक्टिकल के लिए आपको सड़कों, हाइवे, शहर की सड़क, गांव के रास्‍ते, रिवर्सिंग और पार्किंग आद‍ि प्रैक्टिकल के ल‍िए 21 घंटे का समय देना होगा. बाकी के 8 घंटे आपको थ्योरी पढ़ाई जाएगी.

यह भी पढ़ें :  WhatsApp की बड़ी तैयारी ! यूजर्स को इस फीचर के लिए देने होंगे पैसे, जानिए क्या है प्लान.

 

ड्राइविंग लाइसेंस नया नियम 2022 (Driving License New Rules 2022) :

ड्राइविंग लाइसेंस के नए नियम 2022 1 जुलाई से लागू किये जा चुके हैं, जिसमें राज्य परिवहन प्राधिकरण या केंद्र सरकार द्वारा केवल निजी ड्राइविंग केंद्रों को संचालित करने की अनुमति दी गई है.

 

  • सड़क और परिवहन विभाग के नियमों के अनुसार, जिस राज्य से मान्यता प्राप्त ड्राइविंग प्रशिक्षण केंद्र में परीक्षा उत्तीर्ण की है, उसे ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन करते समय आरटीओ में ड्राइविंग टेस्ट देने से छूट दी गई है. इसका मतलब है कि आपको आरटीओ ड्राइविंग टेस्ट नहीं देना होगा. निजी ड्राइवर प्रशिक्षण केंद्र प्रमाणपत्र आपके ड्राइविंग लाइसेंस का एकमात्र आधार होगा.

  • हर पांच साल में संस्थान को अपनी मान्यता का नवीनीकरण कराना होगा. प्रशिक्षण प्रक्रिया को मजबूत करने के लिए, ड्राइविंग संस्थान राज्य परिवहन प्राधिकरण द्वारा निम्नलिखित बिंदुओं की जाँच के बाद संबद्धता या मान्यता प्राप्त करता है.

  • दोपहिया एवं चौपहिया प्रशिक्षण केंद्रों के लिए कम से कम एक एकड़ जमीन उपलब्ध होनी चाहिए. भारी वाहन प्रशिक्षण के लिए दो एकड़ भूमि उपलब्ध होना अनिवार्य है.

  • एक उत्तेजक और एक परीक्षण ट्रैक होना चाहिए.

  • ट्रेनर के पास हाई स्कूल डिप्लोमा और कम से कम पांच साल का ड्राइविंग अनुभव होना चाहिए.

  • केंद्र में सूचना प्रौद्योगिकी और बायोमेट्रिक सिस्टम होना चाहिए.

  • परिवहन प्राधिकरण के पाठ्यक्रम के अनुसार उच्च गुणवत्ता वाले ड्राइविंग ट्रैक परीक्षण करना चाहिए.

  • हल्के वाहन प्रशिक्षण 29 घंटे तक चलेगा और शुरुआत के चार सप्ताह के भीतर पूरा किया जाना चाहिए. प्रशिक्षण कार्य दो खंडों में विभाजित किया जाएगा. जिसमें थ्योरी में 8 घंटे और प्रैक्टिकल ड्राइविंग में 21 घंटे होंगे.

  • मध्यम और भारी मोटर वाहनों के लिए प्रशिक्षण की अवधि 38 घंटे होगी और इसे शुरू होने के 6 सप्ताह के भीतर पूरा किया जाना चाहिए. थ्योरी क्लासेस 8 घंटे लंबी होती हैं और प्रैक्टिकल क्लास 31 घंटे लंबी होती हैं.

यह भी पढ़ें :  Do you Know : AC हमेशा दीवार के ऊपरी हिस्‍से पर और हीटर नीचे क्‍यों लगाया जाता है?

 

 


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page