Follow Us On Goggle News

Cyber Fraud : साइबर गैंग से सावधान! बिहार से लेकर झारखंड तक फैला है ठगी का जाल.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Cyber Fraud : अपराध की दुनिया में साइबर अपराधियों ने अपनी एक नई दुनिया बना ली है और रोजाना हजारों लोग साइबर ठगी का शिकार बन रहे है. साइबर ठग घर बैठे नए नए पैतरें अपनाकर लोगों को ठगी का शिकार बना रहे है.

Cyber Fraud : अपराध की दुनिया में साइबर अपराधियों ने अपनी एक नई दुनिया बना ली है और रोजाना हजारों लोग साइबर ठगी का शिकार बन रहे है. साइबर ठग घर बैठे नए नए पैतरें अपनाकर लोगों को ठगी का शिकार बना रहे है. मोबाइल फोन का उपयोग पिछले एक दशक में बढ़ा है और जितना हम घर बैठे अपने अपको सुरक्षित महसूस करते है उतना ही ये साइबर ठग इस आश्वासन को झुठला रहे है. मोबाइल फोन पर एक छोटी सी असावधानी हमें खतरें में डाल देती है .

दुनिया डिजिटलीकरण की तरफ बढ़ी है जिससे लोग रोजमर्रा के लेनदेन या खरीदी के लिए मोबाइल वॉलेट और Electrnic Fund Transfer का उपोग कर रहे है . इससे पैसा भेजना और मंगाना आसान हुआ है और साइबर क्राइम इसी का फायदा उठाते हैं. साइबर आपराधियों को धोखाधड़ी करने के लिए कही जाने की जरूरत नही होती वो घर बैठे दुनिया के किसी भी व्यक्ति को अपना शिकार बना लेता है. पुलिस के लिए सबसे बड़ी समस्या साइबर अपराधी ट्रैक कर उन्हे पकड़ना मु्श्किल होता है क्योंकि आर्थिक साइबर आपराधों को पकड़ने का तंत्र मजबूत होना जरूरी है.

बिहार-झारखंड में फैला जाल :

साइबर अपराधियों पर पुलिस के द्वारा चलाए जा रहे अभियान के दौरान नवादा में एक साथ 33 साइबर ठगों को गिरफ्तार किया गया है जिनके पास से 46 मोबाइल, 3 लैपटॉप, 02 मोटरसाइकिल, 5 एटीएम, 3 स्टाम्प एवं मोहर, 09 रजिस्टर भारी मात्रा में प्रिंट डाटा और अलगअलग कंपनियों के कई दस्तावेज भी बरामद किए. वही पटना में महिला साइबर अपराधी समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया पुलिस ने एक लाख रुपए,12 मोबाइल समेत कई एटीएम कार्ड को बरामद किया .मधुबनी पुलिस के सहयोग से हरियाणा पुलिस ने दो साइबर अपराधी को किया गिरफ्तार किया है अपराधियों ने एक पीड़ित के खाते से 1 लाख 23 हजार रुपये की ठगी की थी. वहीं, झारखंड के जामताड़ा में तीन साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया है, जिनके पास से 11 मोबाइल, 20 सिम कार्ड और ₹20800 नगद बरामद किया गया.

यह भी पढ़ें :  Best Laptops Under ₹30000 in India : गेमिंग हो या ऑफिस का काम, ये लैपटॉप्स हैं बड़े कमाल, कीमत ₹30 हजार से कम.

साहिबगंज में बैंक से अवैध पैसे निकासी मामले में बैंक मैनेजर सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है और देवघर में साइबर पुलिस ने दो साइबर अपराधियो को गिरफ्तार किया अपराधियों ने 82 लाख रुपये की ठगी की थी पुलिस ने 6 मोबाइल,10 सिम कार्ड,22 एटीएम कार्ड 2 क्रेडिट कार्ड,1 पासबुक, 4 चेकबुक एक कैंसिल चैक और 3 लैपटॉप बरामद किया है.

 

cyber crime Cyber Fraud : साइबर गैंग से सावधान! बिहार से लेकर झारखंड तक फैला है ठगी का जाल.

 

साइबर अपराधियों के नए-नए पैतरें :

नवादा में गिरफ्तार 33 साइबर अपराधियों ने स्वीकार किया की लोगों को लोन दिलाने, मोबाइल टावर लगाने, पेट्रोल पम्प का एजेंसी दिलाने, इंश्योरेंस, मोहाइल टावर लगाने के नाम पर विज्ञापन एवं लोन का लालच देकर ठगी करते थे. जहानाबाद में आरपीएफ की टीम ने यात्रियों कों फर्जी आईडी बनाकर रेलवे की तत्काल टिकट बनाकर बेचने के आरोप में गिरफ्तारी की .

देवघर में साइबर पुलिस ने दो साइबर अपराधियो को गिरफ्तार किया जो एक कंपनी बनाकर भारतीय मुल्क के ऑस्ट्रेलिया में रह रहे व्यक्ति को क्रिप्टो करेंसी और इन्वेस्टमेंट का झांसा देकर 82 लाख रुपये की ठगी कर ली गई. साहिबगंज में बैंक मैनेजर साइबर अपराधियों के साथ मिलकर खाते से 11 लाख रूपए की चपत लगा दी .

यह भी पढ़ें :  Jio offers : जिओ यूजर्स के लिए अच्छी खबर ! अब 299 रुपये में पड़ेगा 399 रुपये वाला रीचार्ज, मिलेगा 100 रुपये Cashback, देखें ऑफर.

मधुबनी में बैठे 2 साइबर अपराधियों में हरियाणा के एक व्यक्ति से खाते से 1 लाख 23 हजार फ्रॉड किया. जामताड़ा में छत्तीसगढ़ पुलिस और जामताड़ा साइबर अपराध थाना के संयुक्त छापामारी के क्रम में रामपुर माधवपुर गांव के राजेंद्र मंडल, मुकुल कुमार मंडल तथा धरुआडीह गांव के सूरज मंडल को रंगे हाथ गिरफ्तार किया जबकि 6 अपराधी भागने में कामयाब हुए .

पटना में पत्रकार नगर पुलिस ने डेटा खरीद कर लोगों के गाढ़ी मेहनत की कमाई उड़ाने वाले पहली बार दो युवती समेत पांच साइबर अपराधियों को 183 पन्नों का डेटा के साथ गिरफ्तार किया. 

अपराधियो ने कंकड़बाग इलाके में ऑफिस बना रखा था जिसमे 3 लड़के और दो युवतियों को डार्क नेट के जरिये बिहार सहित देश के अन्य बड़े राज्यों मे लोगों के जानकारी के दस्तावेजों को मुहैया कर निजी फाइनेंस सहित अन्य बैको के पर्सनल लोन दिलाने के नाम पर लोगों को ठगी का शिकार बनाते थे.

 

बिहार पुलिस साइबर अपराधियों पर कसेगी नकेल :

बिहार पुलिस की आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) द्वारा साइबर अपराधियों पर नकेल कसने की तैयारी की जा रही है. ईओयू ने गूगल, फेसबुक और ट्विटर से साइबर अपराधियों का डिटेल मांगा है. ईओयू के अतिरिक्त महानिदेशक नैय्यर हसनैन खान ने गूगल, फेसबुक और ट्विटर के भारत प्रमुख से कहा है कि वे बिहार के आम लोगों को धमकी देने वाले और ब्लैकमेल करने वाले अपराधियों का विवरण दें. गत कुछ माह के दौरान ऐसी घटनाएं सामने आई हैं कि साइबर अपराधी पहले महिलाओं को वीडियो कॉल करते हैं और फिर उस कॉल का स्क्रीनशॉट लेकर उन महिलाओं को ब्लैकमेल करते हैं.

यह भी पढ़ें :  Whatsapp पर आ रहा 25 लाख की लॉटरी जीतने का मैसेज ! जानिए इस ऑडियो मैसेज का सच, यहां पढ़ें डिटेल्स.

 

सोशल मीडिया के माध्यम से ब्लैकमेल करने के 40 मामले :

अधिकारी ने बताया कि बिहार में सोशल मीडिया के माध्यम से ब्लैकमेल करने के ऐसे 40 मामले हुये हैं और राज्य के विभिन्न थानों में इसके संबंध में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है. उन्होंने बताया कि तीनों प्लेटफॉर्म को सभी 40 प्राथमिकी का विवरण दे दिया गया है. अगर ये तीनों इस विषय में कोई कार्रवाई नहीं करते हैं तो उन्हें अपराध दंड संहिता की धारा 91 के तहत अलग से नोटिस दिया जायेगा. इन तीनों प्लेटफॉर्म के मुख्यालय में ईमेल भेजा गया है. उन्होंने बताया कि अधिकारियों को दो माह के भीतर इन मामलों को सुलझाने के लिये कहा गया है.

 

जागरूकता है जरूरी :

  • साइबर अपराधों पर नियंत्रण के लिए  गांव, कस्बे व शहरों में जनसभाएं व रात्रि चौपाल आयोजित करा कर लोगों को मोबाइल पर आने वाले भ्रामक फोन कॉल व संदेश आदि के बारे में सतर्क करने की आवश्यकता है. 
  • सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर अपनी निजी जानकारियां न दें. 
  • सोशल साइटस पर अनजान लोगों की फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार न करें, ऑनलाइन खरीददारी अच्छे प्लेटफॉर्म से करें. 
  • अनजान नंबर से भेजे गए वेब लिंक पर क्लिक करने से बचें.
  • मोबाइल फोन में एंटीवायरस सॉफ्टवेयर डाउनलोड करें और ऐप्स को अपडेट रखें.
  • समय समय पर अपनी आईडी का पासर्वड चैंज करते रहें. 
  • लॉगिन यूजरनेम और पासवर्ड भी गोपनीय रखें .
  • मनी ट्रांसफर एप का उपयोग करने के बाद तुरंत Logout करें.

इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page