Follow Us On Goggle News

Indian Railways : रेलवे ने पहली बार शुरू की ये शानदार सुविधा ! अब सफर के दौरान आपको मिलेगी ये सब सामान.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Indian Railways : आईआरसीटीसी ने 2 अप्रैल से शुरू होने वाले नवरात्र को लेकर जबरदस्त तैयारी की है. इस दौरान सफर में यात्रियों को व्रत का खाना दिया जाएगा. यह खाना बिना लहसुन और प्‍याज का शुद्ध और सात्विक होगा. आइए जेनेट हैं कैसे आप इसका फायदा उठा सकते हैं.

Indian Railways: रेल यात्रियों के लिए जरूरी खबर है. भारतीय रेलवे (Indian Railway) सफर के दौरान व्रत करने वाले लोगों‍ का ध्यान रखने के लिए उन्हें खास सुविधा दे रहा है. इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्‍म कॉरपोरेशन (Indian Railway Catering and Tourism Corporation) सफर के दौरान लोगों को नवरात्र स्‍पेशल खाना देने का फैसला किया है. यानी अब आप अपना मनपसंद खाना आर्डर देकर सीट पर मंगवा सकेंगे. 

 

आईआरसीटीसी दे रहा जबरदस्त सुविधा :

आईआरसीटीसी (IRCTC) के अनुसार 2 अप्रैल से शुरू होने वाले नवरात्र में सफर के दौरान यात्रियों को व्रत का खाना यानी फलाहारी दिया जाएगा. यात्री अपनी सुविधा के अनुसार मनपसंद भोजन ई कैटरिंग से या फिर 1323 पर बुक कर सीट पर मंगवा सकेंगे. आपको बता दें कि यह खाना बिना लहसुन- प्‍याज का शुद्ध और सात्विक होगा. इतना ही नहीं, उपवास के हिसाब से खाना बनाने में सेंधा नमक इस्‍तेमाल किया जाएगा.

यह भी पढ़ें :  जयनगर-राजेंद्रनगर इंटरसिटी विशेष ट्रेन अब दो अलग-अलग गाड़ी के रूप में चलेगी, जान‍िए नया रूट और क्‍या हुआ बदलाव. Jaynagar-Rajendranagar Special Express Train

क्या मिलेगा खाना में?

आईआरसीटीसी ने लोगों की पसंद को देखते हुए मेन्यू तैयार किया है. इसके तहत चार अलग-अलग तरह की थालियां मिलेंगी. इनकी कीमत महज 125 रुपये से लेकर 200 रुपये के बीच हो सकती है. बताया जा रहा है कि इसके रेट आईआरसीटीसी आज फाइनल कर देगा. यह शानदार सुविधा 500 के करीब उन ट्रेनों में उपलब्‍ध होगी, जिनमें आईआरसीटीसी कैटरिंग की सुविधा दे रही है. व्रत का खाना केवल ट्रेनों में ही मिलेगाा, स्‍टेशनों में आईआरसीटीसी के स्‍टाल में उपलब्‍ध नहीं होगा.

ये है संभावित मेन्यू :

  • कुट्टू के पकौड़े
  • पूड़ी सब्‍जी
  • साबूदाना की खिचड़ी
  • लस्‍सी
  • फ्रेश जूस ( इसमें नमक,चीनी कुछ भी नहीं होगा),
  • फल, चाय, रबड़ी,
  • ड्राईफूड्स की खीर.

इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page