Follow Us On Goggle News

Big Rail News : यात्रीगण कृप्या ध्यान दें ! रेलवे ने आज रद्द की 670 ट्रेनें, जानिए क्या है वजह ?

इस पोस्ट को शेयर करें :

Big Rail News : देश में जारी प्रचंड गर्मी के चलते बिजली की खपत बढ़ गयी है, वहीं कोयले की आपूर्ति कम होने से पावर प्लांट्स (Power Plants) के पास कुछ ही दिनों का कोयला शेष रह गया है. जिससे देश में बिजली संकट (Power Crisis) खड़ा हो गया है. इस स्थिति से बचने के लिए रेलवे (Indian Railways) ने कमर कस ली है. इसे देखते हुए रेलवे कोयले ढुलाई के लिए रोज 400 से ज्यादा चला रहा है. जिसको लेकर रेलवे ने 24 मई तक 670 पैसेंजर ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है.

 

Big Rail News : देश में इस साल भीषण गर्मी पड़ रही है और इस कारण अप्रैल में ही बिजली की मांग (Power Demand) बहुत बढ़ गई है। बिजली की मांग बढ़ने से कोयले की खपत (Coal Consumption) भी बढ़ गई है। कोयले की इस बढ़ी हुई जरूरत को पूरा करने के लिए रेलवे पर इसकी ढुलाई का दबाव बढ़ गया है। इस कारण रेलवे को पिछले कुछ हफ्तों से रोजाना 16 मेल/एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनों को रद्द करना पड़ रहा है। कोयले लदी मालगाड़ियों को रास्ता देने के लिए रेलवे को ऐसा करना पड़ रहा है। रेलवे के मुताबिक 24 मई तक 670 पैसेंजर ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। इनमें से 500 से अधिक ट्रेनें लंबी दूरी की मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें (Mail Express Trains) हैं। रेलवे ने साथ ही कोयला लदी मालगाड़ियों (Coal Rakes) की औसत संख्या भी बढ़ा दी है। अब रोजाना 400 से ज्यादा ऐसी ट्रेनों को चलाया जा रहा है। यह पिछले पांच साल में ऐसी ट्रेनों से सबसे अधिक संख्या है।

यह भी पढ़ें :  Good News : मिथिलांचल को मिली राजधानी एक्सप्रेस की सौगात, अब दरभंगा होते हुए गुजरेगी गुवाहाटी - नई दिल्ली राजधानी.

 

सूत्रों के मुताबिक रेलवे ने कोयले की ढुलाई के लिए रोजाना 415 मालगाड़ियां मुहैया कराने का वादा किया है ताकि कोयले की मांग को पूरा किया जा सके। इनमें से हर मालगाड़ी करीब 3,500 टन कोयला ढोने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि पावर प्लांट्स में कोयले का भंडार बढ़ाने के लिए कम से कम और दो महीने तक यह व्यवस्था जारी रहेगी। इससे पावर प्लांट्स के पास पर्याप्त कोयला भंडार रहेगा और जुलाई-अगस्त में संकट को टाला जा सकेगा। जुलाई-अगस्त में बारिश के कारण कोयले के खनन सबसे कम होता है।

 

क्यों हो रहा है विरोध :

रेल मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, ‘कई राज्यों में पैसेंजर ट्रेनों के रद्द होने का विरोध हो रहा है। लेकिन हमारे पास कोई विकल्प नहीं है। अभी हमारी प्राथमिकता यह है कि सभी पावर प्लांट्स के पास कोयले का पर्याप्त भंडार हो ताकि देश में बिजली का संकट पैदा न हो। हमारे लिए यह धर्मसंकट की स्थिति है। हमें उम्मीद है कि हम इस स्थिति से बाहर निकल जाएंगे। अधिकारी ने कहा कि पावर प्लांट्स देशभर में फैले हैं, इसलिए रेलवे को लंबी दूरी की ट्रेनें चलानी पड़ रही है। बड़ी संख्या में कोयले से लदी मालगाड़ियां 3-4 दिन के लिए ट्रांजिट पर हैं। ईस्टर्न सेक्टर से बड़ी मात्रा में घरेलू कोयले को देश के दूसरे हिस्सों में भेजा जा रहा है।’

यह भी पढ़ें :  Railway Recruitment 2022 : 10वीं /12 वीं पास के लिए रेलवे में अप्रेंटिस के पदों पर निकली भर्तियां, ऐसे करें आवेदन.

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक 2016-17 में रेलवे रोजाना कोयले की ढुलाई के लिए 269 मालगाड़ियां चला रहा था। 2017-18 और 2018-19 में इस संख्या में बढ़ोतरी हुई। पिछले साल रोजाना ऐसी 347 मालगाड़ियां चलाई गई और गुरुवार तक यह संख्या रोजाना 400 से 405 पहुंच गई। अधिकारियों का कहना है कि इस साल कोयले की मांग में अभूतपूर्व बढ़ोतरी हुई है और कोयले की ढुलाई के लिए रेलवे पसंदीदा जरिया बना हुआ है।

 

क्या कर रहा है रेलवे :

देश में 70 फीसदी बिजली बनाने में कोयले का इस्तेमाल होता है। रेलवे ने भी कोयले की ढुलाई बढ़ाने के लिए कई कदम उठाए हैं। लंबी दूरी की ट्रेनें चलाई जा रही हैं। सीनियर अधिकारी कोयला चढ़ाने और उतारने की प्रक्रिया पर करीबी नजर रख रहे हैं। वरिष्ठ अधिकारियों से कहा गया है कि अगर कोल रूट्स पर समस्या आती है तो इसे प्राथमिकता के आधार पर दुरुस्त किया जाना चाहिए।


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page