Follow Us On Goggle News

RJD Crisis : तेजप्रताप IN या OUT! तेजस्वी से लेकर तमाम नेता जवाब देने से क्यों काट रहे कन्नी?

इस पोस्ट को शेयर करें :

RJD Crisis : राष्ट्रीय जनता दल (RJD) का विवाद कम होने की बजाय बढ़ता ही जा रहा है. इसके पीछे नेताओं के विवादित बोल भी हैं. शिवानंद तिवारी के बयान के बाद एक तरफ तेजप्रताप यादव को लेकर पार्टी के नेता कुछ भी बोलने से बच रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ एनडीए नेताओं ने उनके साथ हो रहे सलूक को लेकर तेजस्वी और लालू पर सवाल खड़े किए हैं. इन सब के बीच विधानसभा उपचुनाव के लिए जारी स्टार प्रचारकों की लिस्ट से भी तेजप्रताप का नाम गायब हो गया. ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि आखिर वे पार्टी में हैं या नहीं?

RJD Crisis : तारापुर और कुशेश्वरस्थान (Tarapur and Kusheshwarsthan) में होने वाले विधानसभा उपचुनाव (Assembly By-election) के लिए राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने चुनाव आयोग (Election Commission) को गुरुवार को स्टार प्रचारकों की सूची (List of Star Campaigners) सौंपी है. इस लिस्ट में लालू परिवार से सिर्फ 2 लोगों का नाम है और वो हैं लालू यादव (Lalu Yadav) और तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav). जबकि तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) और शिवानंद तिवारी (Shivanand Tiwari) का नाम इस लिस्ट में नहीं है.

इसके पहले शिवानंद तिवारी के बयान को लेकर बिहार की सियासत में जबरदस्त सरगर्मी है. उन्होंने कह दिया था कि आरजेडी में तेज प्रताप खुद ही निष्कासित हो चुके हैं. बीजेपी (BJP) ने इसे तेज प्रताप यादव के खिलाफ बड़ी साजिश करार दिया है. प्रवक्ता अरविंद कुमार सिंह ने कहा कि तेजप्रताप ने जिसे अपना अर्जुन समझा था, वह तो दुर्योधन निकले. उन्होंने कहा कि तेजप्रताप को महाभारत ( RJD Crisis ) के लिए तैयार हो जाना चाहिए, नहीं तो उन्हें कुछ भी हासिल नहीं होगा.

यह भी पढ़ें :  Pappu Yadav Released : पप्पू यादव को मिली बड़ी राहत, 32 साल पुराने अपहरण मामले कोर्ट ने किया बाइज्जत बरी.

इस बारे में पार्टी का कोई भी नेता खुलकर बोलने को तैयार नहीं है. आरजेडी के प्रदेश प्रवक्ता एजाज अहमद से जब ईटीवी भारत संवाददाता ने पूछा कि आखिर क्या वजह है कि तेज प्रताप यादव को ( RJD Crisis ) लेकर इतनी सारी बातें हो रही हैं. क्या तेजप्रताप यादव पार्टी में हैं, क्यों उनका नाम स्टार प्रचारकों की लिस्ट से बाहर कर दिया गया है? इस सवाल के जवाब में एजाज अहमद ने कहा कि तेजप्रताप यादव आरजेडी के विधायक हैं, इससे कोई इनकार नहीं कर सकता है. वहीं स्टार प्रचारकों की लिस्ट में उनका नाम नहीं शामिल होने को लेकर एजाज अहमद ने कहा कि यह कोई बड़ी बात नहीं है. सिर्फ तेजप्रताप ही नहीं, बल्कि मीसा भारती और राबड़ी देवी का नाम भी उसमें नहीं है. उन्होंने कहा कि जिन जगहों पर उपचुनाव हो रहे हैं, वहां की स्थिति, परिस्थिति और जरूरत के मुताबिक स्टार प्रचारकों की लिस्ट बनाई गई है. इस लिस्ट में ज्यादा से ज्यादा स्थानीय नेताओं को तरजीह दी गई है.

यह भी पढ़ें :  Bihar Politics : लालू यादव ने कहा- बिहार में तेजस्वी-चिराग का देखना चाहते हैं गठबंधन, वे अभी भी एलजेपी के नेता.

आरजेडी नेता ने बीजेपी नेताओं के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि उन्हें बिहार की सियासत और बिहार के विकास से मतलब नहीं है. उन्हें तो बस लालू परिवार से मतलब है, जिस पर सियासी रोटी सेककर वे अपनी राजनीति चला रहे हैं.

वहीं, ईटीवी भारत ने इस बारे में तेज प्रताप यादव से भी बात करने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने इस मामले में पूरी तरह चुप्पी साध रखी है. जानकारी के मुताबिक शिवानंद तिवारी के बयान को लेकर तेजप्रताप खासे नाराज हैं. जिसके बाद शिवानंद तिवारी ने अपने बयान पर सफाई भी दी और अपने बयान को तोड़-मरोड़ कर चलाने का आरोप लगाया. इधर, तेज प्रताप यादव ( RJD Crisis ) गुरुवार को दिनभर छात्र जनशक्ति परिषद की बैठक में व्यस्त रहे. उन्होंने बैठक के दौरान ही अपने कार्यकर्ताओं को लालू प्रसाद आंदोलन चलाने और जेल भरने के लिए तैयार रहने को कहा है. 11 अक्टूबर को जेपी जयंती के मौके पर तेज प्रताप यादव जेपी गोलंबर से जेपी के आवास तक पैदल मार्च भी करने वाले हैं.

आपको बताएं कि बुधवार को हाजीपुर दौरे पर आए आरजेडी उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा था कि तेजप्रताप यादव अब आरजेडी में नहीं हैं. उन्होंने खुद ही अपने आपको पार्टी से अलग कर लिया है, लिहाजा उन्हें निष्कासित करने की कोई जरूरत नहीं है. शिवानंद ने कहा, ‘तेजप्रताप जी पार्टी में कहां हैं. पार्टी से अलग उन्होंने एक नया संगठन बनाया है. पार्टी में नहीं हैं वो अब. निष्कासित करने की क्या जरूरत है, वो खुद ही निष्कासित हो चुके हैं. उन्होंने जो संगठन बनाया है, उसमें उन्होंने लालटेन का सिम्बल लगाया था, जिसके बाद पार्टी ने उन्हें मना कर दिया था.’

यह भी पढ़ें :  LJP Crisis : लोजपा (चिराग गुट) का आरोप - नीतीश और पारस के इशारे पर चुनाव आयोग ने 'बंगला' किया जब्त.

वहीं, शिवानंद के बयान के बाद तेजप्रताप के करीबी और छात्र जनशक्ति परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता मोहित शर्मा ने जवाब देते हुए कहा था कि आरजेडी लालू प्रसाद यादव, तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव की पार्टी है. शिवानंद तिवारी जैसे लोग पार्टी में फूट डालकर राज करने का काम करते हैं. उन्होंने कहा, ‘शिवानंद तिवारी जैसे लोग संक्रमक रोग की तरह पार्टी में फैल चुके हैं. ये लोग भारतीय जनता पार्टी के लिए काम कर रहे हैं. जो आरजेडी को खत्म करने का अथक प्रयास कर रहे हैं, लेकिन ऐसे आरजेडी खत्म नहीं होगा. ये पार्टी लालू जी, तेजस्वी जी और तेजप्रताप जी की है.’


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page