Follow Us On Goggle News

LJP Symbol Freeze: चुनाव आयोग ( EC) ने चिराग को दिया ‘हेलिकॉप्टर’, ‘सिलाई मशीन’ से काम चलाएंगे पारस.

इस पोस्ट को शेयर करें :

LJP Symbol Freeze : चुनाव आयोग ने बिहार उपचुनावों के लिए लोक जनशक्ति पार्टी के दोनों गुटों को नाम और चिह्न आवंटित कर दिए हैं. चिराग पासवान गुट की पार्टी ‘लोकजनशक्ति पार्टी (रामविलास)’ को हेलीकॉप्टर चुनाव चिन्ह दिया गया है. जबति पशुपति पारस गुट की पार्टी ‘राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी’ को सिलाई मशीन चुनाव चिन्ह आवंटित किया गया है.

LJP Symbol Freeze : सांसद चिराग पासवान और केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस को चुनाव आयोग ने पार्टी का नाम और सिंबल आवंटित कर दिया है. चिराग (Chirag Paswan) गुट की पार्टी का नाम ‘लोकजनशक्ति पार्टी (रामविलास)’ होगा जबकि हेलीकॉप्टर चुनाव चिह्न दिया गया है. वहीं पशुपति पारस (Pashupati Kumar Paras) गुट की पार्टी ‘राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी’ को सिलाई मशीन चुनाव चिह्न मिला है. लोक जनशक्ति पार्टी पर कब्जे को लेकर चाचा और भतीजे के बीच जो लड़ाई चल रही है, कहीं ना कहीं उपचुनाव तक के लिए चुनाव आयोग ने उसपर विराम लगा दिया है.

यह भी पढ़ें :  Breaking News : सुबह-सुबह गोलियों की आवाज से थर्राया पटना, बेऊर में मॉर्निंग वॉक पर निकले युवक की गोली मारकर हत्या.

चुनाव आयोग दौरा पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान की पार्टी को ‘लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास)’ का नाम दिया गया है और इन्हें ‘हेलीकॉप्टर’ चुनाव चिन्ह दिया गया है. दरअसल उपचुनाव के मद्देनजर चुनाव आयोग में बड़ा फैसला किया है. चुनाव आयोग ने चिराग पासवान को लोक जनशक्ति पार्टी रामविलास के राजनीतिक दल के तौर पर मान्यता दी है. इस पार्टी का चुनाव चिन्ह हेलीकॉप्टर होगा. मौजूदा विधानसभा उपचुनाव में इसकी मंजूरी दी गई है.

“चुनाव आयोग के द्वारा जो फैसला आया है उसका हम सभी सम्मान करते हैं. जो लोग भी चुनाव आयोग के फैसले पर अंगुली उठा रहे हैं उनको हमारी सलाह है कि वो भी चुनाव आयोग के फैसले का सम्मान करें.”-सरवन अग्रवाल, पशुपति पारस गुट के नेता

चिराग पासवान ने बयान जारी करते हुए कहा था कि हम उन्हें और समय देने और एक और अवसर देने के चुनाव आयोग के निर्णय पर अपनी आपत्ति दर्ज कराते हैं. जिससे मामले में निर्णय में देरी हो रही है. यह देरी आगामी बिहार उपचुनावों के लिए हमारी चुनावी संभावनाओं को नुकसान पहुंचा रही है, जहां हमने लड़ने का फैसला किया है.

यह भी पढ़ें :  Bihar Caste Census: नीतीश कुमार के पत्र का पीएम मोदी ने दिया जवाब, जानें कब जातीय जनगणना पर बातचीत के लिए होगी मुलाकात.

बता दें कि लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) और उसके चुनाव चिह्न ‘बंगला’ पर चिराग और पारस गुट दोनों ने दावा किया था. इन दावों के बाद चुनाव आयोग ने एक अंतरिम आदेश में पार्टी के नाम और चुनाव चिह्न के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी. दोनों गुटों को आयोग ने 4 अक्टूबर यानी आज 1 बजे तक अपने अपने गुट के लिए नया नाम और सिंबल का तीन विकल्प देने का आदेश दिया था.

इससे पहले केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) ने दावा किया था कि उन्हीं की शिकायत पर चुनाव आयोग (Election Commission) ने लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के चुनाव चिह्न (LJP Election Symbol) को फ्रीज कर दिया है. उन्होंने कहा कि दरअसल चिराग पासवान (Chirag Paswan) उपचुनाव में अपना उम्मीदवार उतारना चाहते हैं, जबकि हमारा मामला अभी भी कोर्ट में चल रहा है.

लोजपा के प्रवक्ता चंदन सिंह ने कहा कि चुनाव आयोग द्वारा मिला चिन्ह और रामविलास के नाम से हमें दोगुनी मजबूती मिली है. दोनों उपचुनाव में हमारी जीत सुनिश्चित होगी.

“चुनाव आयोग ने सिंबल दे दिया है. और लोक जनशक्ति पार्टी नाम के आगे रामविलास के नाम की इजाजत भी मिल गई है. अब हमलोग दोगुनी ऊर्जा के साथ बिहार के दो सीटों पर होने वाले उपचुनाव पर अपनी किस्मत आजमाएंगे.”– चंदन सिंह, लोजपा प्रवक्ता, चिराग गुट


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page