Follow Us On Goggle News

Bihar Politics: RJD से आउट हो गए हैं तेज प्रताप यादव! शिवानंद तिवारी के बयान ने बढ़ाया सियासी पारा, जानें क्या कहा.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Bihar Politics: शिवानंद तिवारी ने कहा, ” तेजप्रताप ने जो संगठन बनाया, उसमें उन्होंने लालटेन का सिंबल लगाया था. लेकिन उनको पार्टी ने कह दिया कि वो लालटेन का सिंबल नहीं लगा सकते हैं. इस बात को उन्होंने खुद कबूल किया.”

 

Bihar Politics : आरजेडी (RJD) में जारी अंतर्कलह के बीच पार्टी के कद्दावर नेता शिवानंद तिवारी (Shivanand Tiwari) ने ये दावा किया है कि लालू यादव (Lalu Yadav) के बड़े लाल तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है. बुधवार को प्रदेश के हाजीपुर पहुंचे पार्टी के कद्दावर नेता ने तेज प्रताप संबंधित सवाल के जवाब में कहा, ” तेज प्रताप पार्टी में हैं ही कहां? उन्होंने नया संगठन भी बनाया है. वो अब पार्टी में नहीं हैं.” तेज प्रताप को पार्टी से निष्कासित किए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा, ” निष्कासित करने का क्या सवाल है. वह तो अपने निष्कासित हो चुके हैं.”

यह भी पढ़ें :  Bihar News : बिहार में 24 सितंबर से 12 दिसंबर तक होगा मतदान, जानिए आपके जिले और प्रखंड में कब होगा पंचायत चुनाव, यहाँ देखिए पूरी लिस्ट.

लालटेन का इस्तेमाल नहीं कर सकते : शिवानंद तिवारी ने कहा, ” तेज प्रताप ने जो संगठन बनाया है, उसमें उन्होंने लालटेन का सिंबल लगाया था. लेकिन उनको पार्टी ने कह दिया कि वो लालटेन का सिंबल नहीं लगा सकते हैं. इस बात को उन्होंने खुद कबूल किया कि उन्हें लालटेन का इस्तेमाल करने से मना कर दिया गया है. यह तो मैसेज क्लियर है.”

कांग्रेस पर साधा निशाना : वहीं, कांग्रेस की नाराजगी के संबंध में उन्होंने कहा, ” कांग्रेस को हमलोगों ने कहां नाराज किया है? इसमें नाराजगी की क्या बात है. हम लोग दोनों सीटों पर चुनाव लड़ना चाहते हैं और ये बात हमलोग कह चुके थे. तेजस्वी यादव (tejashwi yadav) का बयान भी आया है कि कांग्रेस प्रभारी भक्तचरण दास (Bhakta Charan Das) को उन्होंने पहले से ही इस संबंध में सूचित कर दिया था. ऐसे में कांग्रेस को चुनाव नहीं लड़ना चाहिए था. विधानसभा चुनाव 2020 में कांग्रेस 70 सीट पर चुनाव लड़ी. लेकिन अंजाम क्या हुआ. 25-30 सीट से ज्यादा पर उनका छोटा-मोटा नेता भी भाषण देने के लिए नहीं गया. अगर केवल चुनाव लड़ना ही मकसद तो इससे देश की राजनीति को हानि होगा.”

यह भी पढ़ें :  Bihar Politics: राजद में डैमेज कंट्रोल के बाद तेजप्रताप ने फिर साधा निशाना, कहा - 'दिल्ली में मॉल बनवा रहे तेजस्वी!'

क्षेत्रिय पार्टियों के हाथ सौंपे कमान : यूपी की याद दिलाते हुए उन्होंने कहा कि यूपी में कांग्रेस ने 100 से अधिक सीट लिए. अंजाम क्या हुआ. ऐसे में जहां क्षेत्रीय पार्टी मजबूत हैं, वहां उन्हें कमान दीजिए. अगर क्षेत्रीय पार्टियों को दबा दीजियेगा, तो आप बिहार, उत्तर प्रदेश, बंगाल, तमिलनाडु में भारतीय जनता पार्टी का मुकाबला कैसे करिएगा. इसलिए क्षेत्रीय पार्टियों की ताकत को पहचानिए. खुद ड्राइविंग सीट पर बैठने की जगह उन्हें मौका दीजिए.


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page