Follow Us On Goggle News

Good News : खुशखबरी! सुप्रीम कोर्ट के फैसले से बढ़ जाएगी कर्मचारियों की पेंशन, जानें कितना होगा इजाफा.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Good News : अभी कर्मचारियों की पेंशन तय करने के लिए न्‍यूनतम बेसिक सैलरी का फॉर्मूला लगाया जाता है. इसका नुकसान ऐसे कर्मचारिेयों को होता है जिनकी बेसिक सैलरी इस न्‍यूनतम दायरे से काफी ज्‍यादा है. सुप्रीम कोर्ट अगर इसमें बदलाव की इजाजत देता है तो कर्मचारियों की

Good News : कर्मचारियों की न्‍यूनतम पेंशन में जल्‍द बड़ा इजाफा हो सकता है. सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले से कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) में योगदान करने वाले लाखों कर्मचारियों की पेंशन (EPS) बढ़ सकती है. अभी तक पेंशन कैलकुलेट करने के लिए बेसिक सैलरी निर्धारित है, जो न्यूनतम मासिक बेसिक वेतन (Minimum Basic Salary) 15,000 रुपये है.

दरअसल, किसी अगर कर्मचारी का बेसिक वेतन 15,000 रुपये से अधिक है तो भी पेंशन की गणना सिर्फ 15,000 रुपये पर ही की जाती है. अगर ये बाधा हट जाती है तो पेंशन तय करने का गणित भी बदल जाएगा. यानी किसी की 20,000 रुपये बेसिक सैलरी है और इस पर पेंशन की गणना होती है तो न्‍यूनतम पेंशन में करीब 1,000 रुपये का इजाफा हो जाएगा और यह 8,571 रुपये पहुंच जाएगी.

यह भी पढ़ें :  PNB के खाताधारकों के लिए जरूरी खबर, 20 लाख रुपये का उठा सकते हैं फायदा, जानिए कैसे | PNB Customer get Benefit

ऐसे समझें पेंशन का गणित :

अगर आपकी बेसिक सैलरी 15,000 रुपये से अधिक है तो भी सैलरी पर पीएफ 15,000 रुपये पर ही कैलकुलेट होगा. यानी अगर किसी कर्मचारी का मूल वेतन 40,000 रुपये है और वह 40,000 पर ही अपनी पेंशन कैलुकलेट करना चाहता है तो वह नहीं कर सकता, क्योंकि मौजूदा कानून में इसकी इजाजत नहीं है. अगर सुप्रीम कोर्ट वेतन की इस लिमिट को खत्म करता है तो कर्मचारियों को कई गुना ज्यादा पेंशन मिलेगी.

ये है पूरा मामला :

कर्मचारी पेंशन संशोधन योजना को केंद्र सरकार ने 1 सितंबर 2014 को एक अधिसूचना के जरिये लागू किया था. इसका निजी क्षेत्र के कर्मचारियों ने विरोध किया. इस पर ईपीएफओ ने सुप्रीम कोर्ट में एक एसएलपी दाखिल की. 1 अप्रैल 2019 को ईपीएफओ की SLP पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पेंशन का वेतन 15 हजार रुपये तय करने का कोई औचित्य नहीं है. इस मामले पर 17 अगस्त से लगातार सुनवाई हो रही है और फैसला आना बाकी है.

यह भी पढ़ें :  Cryptocurrency: अप्रैल 2022 से पहले किए गए क्रिप्टो ट्रांजैक्शन नहीं होगा टैक्स फ्री, सरकार ने किया साफ.

इतनी बढ़ सकती है आपकी पेंशन :

मान लीजिए किसी कर्मचारी की सैलरी (बेसिक सैलरी और डीए) 20 हजार रुपये है. बदले हुए पेंशन फॉर्मूले के मुताबिक उसकी पेंशन 7,500 की जगह बढ़कर 8,571 रुपये हो जाएगी. EPS कैलकुलेशन का फॉर्मूला= मंथली पेंशन=(पेंशन योग्य सैलरी x EPS कंट्रीब्यूशन) से चेक कर सकते हैं. इस तरह पेंशन में सीधे 300% का उछाल आ सकता है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page