Follow Us On Goggle News

UP Lakhimpur Violence : प्रियंका गाँधी को पुलिस ने हिरासत में लिया, केंद्रीय मंत्री के बेटे के खिलाफ FIR, कई नेताओं को रोका गया.

इस पोस्ट को शेयर करें :

UP Lakhimpur Violence : यूपी के लखीमपुर खीरी (lakhimpur kheri violence) में हुई हिंसा के बाद सियासी हलचल तेज हो चुकी है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा अचानक रविवार देर रात लखनऊ पहुंची थीं, जिसके कुछ देर बाद लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हो गईं. रास्ते में पुलिस से तीखी बातचीत होने के बाद साढ़े पांच घंटे बाद प्रियंका को सीतापुर के हरगांव से हिरासत में ले लिया गया. उन्हें सीतापुर के ही गेस्ट हाउस ले जाया गया है. वहीं, इस मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष के खिलाफ सोमवार को एफआईआर दर्ज की गई है.

त्तर प्रदेश के लखीमपुर में हिंसक प्रदर्शन ( UP Lakhimpur Violence ) के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी देर रात किसानों से मिलने के लिए रवाना हुईं. जानकारी के मुताबिक प्रियंका को सीतापुर के हरगांव में हिरासत में ले लिया गया है. उन्होंने प्रदेश पुलिस पर आरोप लगाया कि कई जगह उन्हें रोकने के प्रयास किए गए. वहीं, इस मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष के खिलाफ सोमवार को एफआईआर दर्ज की गई है. वहीं, भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत भी लखीमपुर के लिए रवाना हो गए, जिला प्रशासन द्वारा की गई बैरिकेडिंग को ध्वस्त करते हुए लखीमपुर पहुंच गए हैं.

रविवार की घटना को लेकर किसानों ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी और उनके बेटे आशीष मिश्रा टेनी के खिलाफ तिकुनिया, लखीमपुर खीरी में शिकायत दर्ज कराई है. वहीं, ताजा जानकारी के मुताबिक प्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने लखनऊ एयरपोर्ट से छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और पंजाब के डिप्टी सीएम सुखजिंदर एस रंधावा को एयरपोर्ट पर उतरने की अनुमति नहीं देने के निर्देश जारी किए हैं. बता दें, बघेल और रंधावा ने आज लखीमपुर खीरी जाने की घोषणा की है.

यह भी पढ़ें :  PM Kisan Yojana : पीएम किसान सम्मान निधि के लाभार्थी सरकार से हर साल ले सकते हैं 36000 रुपये का फायदा, जानिए इसकी डिटेल्स.

 

रविवार की घटना को लेकर किसानों ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी और उनके बेटे आशीष मिश्रा टेनी के खिलाफ तिकुनिया, लखीमपुर खीरी में शिकायत ( UP Lakhimpur Violence ) दर्ज कराई है. वहीं, ताजा जानकारी के मुताबिक प्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने लखनऊ एयरपोर्ट से छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और पंजाब के डिप्टी सीएम सुखजिंदर एस रंधावा को एयरपोर्ट पर उतरने की अनुमति नहीं देने के निर्देश जारी किए हैं. बता दें, बघेल और रंधावा ने आज लखीमपुर खीरी जाने की घोषणा की है.

 

खबरों के मुताबिक उत्तर प्रदेश पुलिस ने प्रियंका गांधी को सीतापुर के हरगांव से हिरासत में ले लिया है. बता दें, कांग्रेस की उत्तर प्रदेश इकाई ट्विटर के जरिए पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी के काफिले के आगे बढ़ने और पुलिस द्वारा उन्हें रोकने के कथित प्रयास किये जाने संबंधी जानकारी साझा कर रही है.

रास्ते में पुलिस से तीखी बातचीत होने के बाद साढ़े पांच घंटे बाद प्रियंका को सीतापुर के हरगांव से हिरासत में ले लिया गया. उन्हें सीतापुर के ही गेस्ट हाउस ले जाया गया.

प्रियंका गांधी ने कहा कि ‘यह देश किसानों का देश है. यह भाजपा की विचारधारा की जागीर नहीं है. देश को किसानों ने बनाया है, किसानों से सींचा है. जो आज हुआ वो दिखाता है कि ये सरकार किसानों को कुचलने की राजनीति कर रही है. किसानों को खत्म करने की राजनीति कर रही है. जिस तरह से इस देश में किसानों को कुचला जा रहा है, उसके लिए शब्द ही नहीं हैं.

यह भी पढ़ें :  Viral VIDEO : नशे में धुत्त एक मॉडल ने सेना की गाड़ी में की तोड़फोड़, Video हुआ वायरल.

कई महीने से किसान अपनी आवाज उठा रहा है कि उसके साथ गलत हो रहा है. सरकार सुनने को राजी नहीं है. जब बल प्रयोग करना पड़ता है, तो इसका मतलब है की सरकार व पुलिस नैतिक आधार खो चुकी है. मैं अपने घर से निकल कर कोई अपराध करने नहीं जा रही हूं. मैं पीड़ितों के परिवारों से मिलने जा रही हूं, मिलकर आंसू पोंछने जा रही हूं. इसमें कौन सी बुराई है. क्या गलत कर रही हूं मैं’.

कांग्रेस ट्विटर पर, नाकों पर पुलिस द्वारा काफिले को रोके जाने का वीडियो भी साझा कर रही है. गौरतलब है कि इससे पहले पार्टी ने आशंका जतायी थी कि प्रियंका को लखीमपुर खीरी ( UP Lakhimpur Violence ) जाने से रोकने के लिए उन्हें उत्तर प्रदेश पुलिस नजरबंद कर सकती है. उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के रविवार के लखीमपुर खीरी दौरे का विरोध करने को लेकर भड़की हिंसा में घायल हुए किसानों से मिलने के लिए प्रियंका वहां जा रही हैं.

अधिकारियों के अनुसार, हिंसा की घटना में चार किसानों सहित कुल आठ लोगों की मौत हो गई. प्रियंका और पार्टी के नेता दीपिन्दर सिंह हुड्डा रविवार रात लखनऊ पहुंचे. इससे पहले पार्टी के एक नेता ने कहा था कि प्रियंका अभी (लखीमपुर खीरी के लिए) रवाना नहीं हुई हैं. उन्हें नजरबंद किए जाने की पूरी आशंका है. मकान के बाहर 300 पुलिसकर्मी और 150 महिला कांस्टेबल हैं. 300 से ज्यादा पार्टी कार्यकर्ता भी हैं.

यह भी पढ़ें :  Viral Video: बेल्ट लेकर लड़की से मार पीट और गाली-गलौच करते नशेबाज दारोगा का वीडियो हुआ वायरल.

UP%2BLakhimpur%2BViolence UP Lakhimpur Violence : प्रियंका गाँधी को पुलिस ने हिरासत में लिया, केंद्रीय मंत्री के बेटे के खिलाफ FIR, कई नेताओं को रोका गया.

प्रियंका ने हिंसा की घटना को लेकर भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है और जानना चाहा कि क्या किसानों को इस देश में जिंदा रहने का अधिकार है. उन्होंने ट्वीट किया कि भाजपा देश के किसानों से कितनी नफ़रत करती है? उन्हें जीने का हक नहीं है? यदि वे आवाज उठाएँगे तो उन्हें गोली मार दोगे, गाड़ी चढ़ाकर रौंद दोगे? बहुत हो चुका. ये किसानों का देश है, भाजपा की क्रूर विचारधारा की जागीर नहीं है. किसान सत्याग्रह मजबूत होगा और किसान की आवाज और बुलंद होगी.

सतीश चंद्र मिश्रा हाउस अरेस्ट, संजय सिंह को भी रोका गया : मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लखीमपुर कांड के बाद विपक्षी दलों के नेताओं का लखीमपुर खीरी ( UP Lakhimpur Violence ) पहुंचना शुरू हो गया है. कई नेताओं ने सोमवार को लखीमपुर जाने का ऐलान किया है. बीएसपी नेता सतीश चंद्र मिश्रा को लखनऊ में हाउस अरेस्ट कर लिया गया. उधर, किसान नेता राकेश टिकैत के काफिले को भी रोका गया, लेकिन वह आगे जाने में कामयाब रहे. उधर, चंद्रशेखर का काफिला भी पुलिस ने खैराबाद के पास रोक दिया, जिसके बाद उन्हें सीतापुर पुलिस लाइन में नजरबंद कर दिया गया. आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह भी लखीमपुर खीरी जा रहे थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें सीतापुर में रोक दिया. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और जयंत चौधरी सोमवार सुबह लखीमपुर खीरी के लिए रवाना होंगे.

( साभार : etvbharat.com)


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page