Follow Us On Goggle News

Sahara India Refund: सहारा इंडिया रिफंड पर आज की ताज़ा अपडेट.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Sahara India Refund: केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने सोमवार को कहा कि सहारा समूह की विभिन्न इकाइयों में करीब 13 करोड़ निवेशकों के 1.12 लाख करोड़ रुपये फंसे हुए हैं। उन्होंने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी।

Sahara India Refund: मंत्री ने बताया कि उच्चतम न्यायालय के आदेश और सहारा के मामले में शीर्ष अदालत द्वारा नियुक्त न्यायमूर्ति बी एन अग्रवाल के परामर्श के बाद भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने कई विज्ञापन देकर निवेशकों को बताया कि पैसे वापस लेने के लिए आवेदन की प्रक्रिया क्या है। चौधरी ने बताया कि सहारा की कई इकाइयों में करीब 13 करोड़ निवेशकों के 1.12 लाख करोड़ रुपये फंसे हुए हैं।

सहारा इंडिया (Sahara India) में पैसा लगाने वालों की तादात करोड़ों में है। अगर आप भी उन निवेशकों में हैं जिन्होंने अपने जीवन की गाढ़ी कमाई इस कंपनी में लगा रखा है तो आपके लिए एक काम की खबर है। केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने सोमवार को कहा कि सहारा समूह की विभिन्न इकाइयों में करीब 13 करोड़ निवेशकों के 1.12 लाख करोड़ रुपये फंसे हुए हैं। उन्होंने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी।

यह भी पढ़ें :  Sahara India Case: सहारा इंडिया को हाईकोर्ट ने दिया एक और बड़ा झटका, कंपनी का दावा किया खारिज.

13 करोड़ निवेशकों के 1.12 लाख करोड़ रुपये फंसे हैं: Sahara India Refund

मंत्री ने बताया कि उच्चतम न्यायालय के आदेश और सहारा के मामले में शीर्ष अदालत द्वारा नियुक्त न्यायमूर्ति बी एन अग्रवाल के परामर्श के बाद भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने कई विज्ञापन देकर निवेशकों को बताया कि पैसे वापस लेने के लिए आवेदन की प्रक्रिया क्या है। चौधरी ने बताया कि सहारा की कई इकाइयों में करीब 13 करोड़ निवेशकों के 1.12 लाख करोड़ रुपये फंसे हुए हैं।

हाल ही में सेबी ने लगाया था फाइन: Sahara India Refund

मार्केट रेगुलेटर सेबी ने हाल ही में सहारा समूह की दो कंपनियों सहारा कमोडिटी सर्विसेज कॉरपोरेशन लि. और सहारा हाउसिंग इनवेस्टमेंट कॉरपोरेशन लि. के साथ-साथ सुब्रत रॉय (Subrata Roy) तथा तीन अन्य पर 12 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया था। यह जुर्माना 2008 और 2009 में ऐच्छिक पूर्ण परिवर्तनीय डिबेंचर जारी करने में नियामकीय नियमों के उल्लंघन को लेकर लगाया गया था।


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page