Follow Us On Goggle News

Presidential Election 2022 : इंतजार खत्म ! देश के 15वें राष्ट्रपति के लिए आज होगा मतदान, जानिए कब आएंगे नतीजे.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Presidential Election 2022  : राष्ट्रपति चुनाव के लिए आज यानि सोमवार 18 जुलाई को मतदान होगा. इसमें देशभर के 4800 सांसद और विधायक भाग लेंगे. एनडीए की तरफ से द्रौपदी मुर्मू और विपक्ष की ओर से यशवंत सिन्हा आमने – सामने हैं. आईये जानते हैं किसका पलड़ा है भारी और कब आएंगे नतीजे :

Presidential Election 2022 : राष्ट्रपति के लिए आज होने वाले चुनाव को लेकर सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. संसद भवन के कमरा नम्बर-63 में 6 बूथ बनाए गए हैं. जिसमें एक दिव्यांग वोटर के लिए है. एनडीए की राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू और विपक्ष के संयुक्त प्रत्याशी यशवंत सिन्हा राष्ट्रपति भवन की रेस में हैं. आज देश भर के 4000 से ज्यादा सांसद और विधायक 15वें राष्ट्रपति का चुनाव करेंगे.

 

एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को इन दलों का मिला समर्थन :

राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए की ओर से द्रौपदी मुर्मू उम्मीदवार हैं. द्रौपदी मुर्मू आदिवासी समुदाय से आती हैं. मुर्मू अनुसूचित जनजाति से संबंधित दूसरी व्यक्ति हैं, जिन्हें भारत के राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार के रूप में नामित किया गया है. उन्होंने इससे पहले 2015 से 2021 तक झारखंड के नौवें राज्यपाल के रूप में कार्य किया है. अगर द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रपति चुनाव में जीतती हैं तो वे राष्ट्रपति बनने वाली पहली आदिवासी महिला होंगी.

यह भी पढ़ें :  Bihar Panchayat Chunav 2021 : बिहार पंचायत चुनाव के 10वें चरण की मतगणना जारी, यहां जानें सबसे तेज नतीजे.

बीजेपी के अलावा कई क्षेत्रीय दल भी एनडीए की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करने वाले हैं. इनमें शिवसेना, ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक की बीजू जनता दल, नीतीश कुमार की जनता दल यूनाइटेड, शिरोमणि अकाली दल, मायावती की बहुजन समाज पार्टी, AIADMK, टीडीपी, वाईएसआरसीपी और चिराग पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) शामिल है.

 

विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को इन दलों का है समर्थन :

वहीं विपक्ष की ओर से पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा को उम्मीदवार बनाया गया है. उन्होंने पूर्व पीएम चंद्रशेखर की सरकार में 1990 से 1991 तक और फिर 1998 से 2002 तक पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वित्त मंत्री के रूप में कार्य किया हैं. यशवंत सिन्हा ने विदेश मंत्री के रूप में भी कार्य किया. 2018 में पार्टी छोड़ने से पहले वह भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता थे. इसके बाद वो अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए थे. हालांकि राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में चुने जाने से एक दिन पहले उन्होंने टीएमसी छोड़ दी थी. 

यह भी पढ़ें :  PM Modi Live : नवनिर्मित काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्धाटन, वाराणसी में PM मोदी LIVE.

यशवंत सिन्हा को जो पार्टियां सपोर्ट कर रही हैं उनमें कांग्रेस, शरद पवार की एनसीपी, टीएमसी, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया, सीपीआई (एम), अखिलेश यादव की सपा, नेशनल कॉन्फ्रेंस, एआईएमआईएम, आरजेडी, एआईयूडीएफ और अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी शामिल है. बता दें कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सबसे पहले विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार की बात रखी थी. 

 

एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का पलड़ा भारी :

राष्ट्रपति चुनाव एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का पलड़ा भारी माना जा रहा है. उन्हें बीजद, वाईएसआरसीपी, बसपा, अन्नाद्रमुक, तेदेपा, जद (एस), शिरोमणि अकाली दल, शिवसेना और झामुमो जैसे क्षेत्रीय दलों का समर्थन मिला है. द्रौपदी मुर्मू का वोट शेयर लगभग दो-तिहाई तक पहुंचने की संभावना है. 

 

क्या है सांसद और विधायकों के वोट का मूल्य?

बता दें कि, चुनाव आयोग के मुताबिक इस बार एक सांसद (MP) के वोट का मूल्य 700 है. वहीं अलग-अलग राज्यों में हर विधायक के वोट का मूल्य अलग-अलग होता है. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में हर विधायक (MLA) के वोट का मूल्य 208 है, फिर झारखंड और तमिलनाडु में 176 है. इसके बाद महाराष्ट्र में 175 है. वहीं सिक्किम में प्रत्येक विधायक की वोट का मूल्य सात है, जबकि नगालैंड में ये नौ और मिजोरम में आठ है.

यह भी पढ़ें :  Sahara India Refund: सहारा इंडिया के ख‍िलाफ कोर्ट ने की बड़ी कार्रवाई, सहारा के न‍िवेशकों के ल‍िए बड़ी अपडेट.

 

राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे 21 जुलाई को होंगे  घोषित :

मतदान के बाद 21 जुलाई को राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे (President Election Result) घोषित किए जाएंगे.  इसके बाद 25 जुलाई 2022 को नए राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण समारोह होगा.

 


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page