Follow Us On Goggle News

House Construction Cost: आधे कीमत में घर बनवाने का आसान तरीका.

इस पोस्ट को शेयर करें :

House Construction Cost: घर बनानां हर व्यक्ति का सपना होता है. हर व्यक्ति अपने घर के सपने को पूरा करने के लिए जीवन भर एक – एक पैसे जोड़ता है. लेकिन, कई लोग बना बनाया घर रहना पसंद करते हैं. जिससे शहरों में अपार्टमेंट और सोसाइटी कल्चर को काफी बढ़ावा मिला हैं. लेकिन, इसके बाद भी एक बड़ी आबादी है जो जमीन खरीद कर घर बनाना पसंद करती है.

संयोग से अभी सरिया (Iron Rod), सीमेंट (Cement), रेत (Sand) और ईंट (Bricks) जैसे कंस्ट्रक्शन के सामानों (Construction Materials) के दाम कम चल रहे हैं. ऐसे में यह घर बनाने का सही समय हो सकता है. हालांकि बारिश के मौसम को कंस्ट्रक्शन के काम के लिए ठीक नहीं माना जाता, लेकिन अगर इससे पैसों की बचत हो जाए तो क्या ही बुरा है. इसके साथ ही अगर कुछ छोटी-छोटी बातों पर ध्यान दिया जाए तो बिना क्वॉलिटी से समझौता किए घर बनाने में लाखों रुपये की बचत की जा सकती है.

इस स्ट्रक्चर पर बनवाएं सिंगल फ्लोर घर: House Construction Cost

सस्ता घर बनाने के कुछ टिप्स (Home Construction Tips) बड़े कारगर साबित होते हैं. जैसे मान लीजिए कि आपको मल्टीस्टोरी बिल्डिंग (Multystory Building) नहीं बनाना है तो एक साधारण बदलाव ही लाखों की बचत करा देगा. आमतौर पर घर बनाने के लिए लोग फ्रेम स्ट्रक्चर (Frame Structure) का इस्तेमाल करते हैं. अगर इसकी जगह पर लोड-बेअरिंग स्ट्रक्चर (Load-Bearing Structure) को अपनाया जाए तो एक झटके में बढ़िया बचत का रास्ता साफ हो जाता है.

यह भी पढ़ें :  Home and Auto Loans Rate Inrease: होम व आटो लोन होगा महंगा, रिजर्व बैंक ने बढ़ाया रेपो रेट.

दरअसल लोड-बेअरिंग स्ट्रक्चर में फ्रेम स्ट्रक्चर की तुलना में सरिया का कम इस्तेमाल होता है. इसके अलावा भी कुछ अन्य उपाय हैं, जैसे- नॉर्मल ईंट की जगह फ्लाई-ऐश ईंट (Fly Aish Bricks) का इस्तेमाल, लकड़ी के बजाए कंक्रीट का चौखट बनाना, शीशम-सागवान के बजाय सस्ती लकड़ियों का इस्तेमाल आदि.

 

load bearing House Construction Cost: आधे कीमत में घर बनवाने का आसान तरीका.

पारंपरिक तरीके से बनाने पर होगा इतना खर्च: House Construction Cost

अब ये जानते हैं कि पारंपरिक तरीके से घर बनाने में कितना खर्च आता है और अगर हम टिप्स का इस्तेमाल करें तो कितनी बचत हो सकती है. उदाहरण के लिए हम 500 वर्गफीट के प्लॉट को रखते हैं. एक तल्ले का घर बनाने में औसत खर्च 1,500 रुपये प्रति स्क्वेयर फीट बैठता है. इस तरह सामान्य तरीके से 500 वर्गफीट के प्लॉट पर एक तल्ले का मकान बनवाने में करीब 7.50 लाख रुपये का खर्च आएगा.

सिर्फ एक बदलाव से आता है लाखों का फर्क: House Construction Cost

अब टिप्स पर गौर करते हैं. पहला उपाय है स्ट्रक्चर में बदलाव. लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर में कॉलम और बीम की जरूरत नहीं पड़ती है. इस कारण सरिया की जरूरत सिर्फ छत और छज्जा बनाने में होती है. इसके अलावा सीमेंट और रेत का भी कम इस्तेमाल होता है. इसी तरह सामान्य ईंट की तुलना में फ्लाई ऐश ईंट का इस्तेमाल करते हैं तो यह प्रति यूनिट 4-5 रुपये की बचत कराता है. इसका मतलब हुआ कि ईंट का खर्च लगभग आधा रह जाता है. फ्लाई ऐश ईंट का एक और फायदा से है कि इनके ऊपर प्लास्टर कराने की जरूरत नहीं होती है. इनके ऊपर सीधे पुट्टी चढ़ाकर पेंट किया जा सकता है. इस तरह से प्लास्टर का और लेबर का दोनों खर्च बचता है. खर्च कम करने का एक अन्य उपाय वर्गाकार निर्माण करना है.

यह भी पढ़ें :  Sahara India Refund: सहारा इंडिया में जमा पैसे के भुगतान को लेकर हाईकोर्ट में इस दिन होगी सुनवाई.

इतनी बचत कराने वाला टिप्स… House Construction Cost

अगर बताए गए उपायों को अपनाएंगे तो सीमेंट की खपत करीब 50 बोरी कम हो जाएगी. अभी एक बोरी सीमेंट की औसत कीमत 350 रुपये है. यानी सिर्फ सीमेंट पर ही आपको 17,500 रुपये की बचत हो रही है. सरिये की लागत आम तौर पर कुल कंस्ट्रक्शन कॉस्ट का 20 फीसदी होती है. लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर में यह 10 फीसदी रह जाता है. यानी 1.50 लाख रुपये की जगह आपका काम 75 हजार रुपये में हो जाएगा. इस तरह सरिये पर आपके 75 हजार रुपये बच रहे हैं.

ईंट से लेकर रेत तक सिर्फ बचत ही बचत: House Construction Cost

एक तल्ले का घर बनाने में करीब 5 हजार ईंट लगते हैं. सामान्य ईंट खरीदने पर खर्च करीब 50 हजार रुपये होगा, जबकि फ्लाई ऐश के मामले में यह महज 25 हजार रुपये रह जाएगा. इसका मतलब हुआ कि आपने ईंट में भी 25 हजार रुपये बचा लिए. चूंकि इन टिप्स को अपनाने पर प्लास्टर से लेकर बीम-कॉलम तक की जरूरत नहीं है तो सीमेंट और सरिये के अलावा रेत का भी कम इस्तेमाल होता है. अगर सामान्य तरीके से घर बनाने पर आपके 75 हजार रुपये रेत पर खर्च हो रहे थे, तो इन टिप्स को अपनाने पर यह खर्च करीब 50 हजार रुपये रह जाएगा. यानी रेत के मामले में भी 25 हजार रुपये की बचत हो रही है.

यह भी पढ़ें :  Patna Delhi Expressway : पटना से दिल्ली मात्र 6 घंटे में, शुरू हो रहा हैं नया फोरलेन 80% रूट हो चुका हैं चालू.

इस टिप्स को अपनाकर होगी 2 लाख की बचत: House Construction Cost

अन्य खर्चों की बात करें तो पत्थर पर करीब 40 हजार रुपये, टाइल्स पर करीब 50 हजार रुपये, पुट्टी-पेटिंग पर 25 हजार रुपये और खिड़की, दरवाजे, बिजली व पल्म्बिंग के काम पर 1.15 लाख रुपये खर्च होंगे. इनमें भी बचत की गुंजाइश है. टॉयलेट-बाथरूम साथ में बनवाने पर ईंट से लेकर सीमेंट और रेत तक की बचत होती है, साथ ही स्पेस भी कम यूज होता है. मार्बल की जगह सिरेमिक टाइल्स यूज कर भी बचत कर सकते हैं. इन सबको छोड़ दें तब भी उपयोगी टिप्स अपनाने से लगभग वैसा ही घर बनाने में सिर्फ सामानों पर ही 1,42,500 रुपये की बचत हो रही है. लेबर कॉस्ट से लेकर अन्य कम खर्चों को जोड़ दें तो आप इन टिप्स को अपनाकर एक तल्ले का घर बनाने में ही 2 लाख रुपये तक बचा सकते हैं.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page