Follow Us On Goggle News

Dollar Vs Rupee: डॉलर के मुकाबले रुपये में रिकॉर्ड गिरावट, अभी तक के सबसे निचले स्तर पर लुढ़का रुपया

इस पोस्ट को शेयर करें :

Dollar Vs Rupee: घरेलू करंसी आज 77.99 पर खुली और कारोबार के अंत में 78.04 के अपने पिछले बंद के मुकाबले 13 पैसे नीचे 78.17 के अपने अब तक के सबसे निचले स्तर पर बंद हुई

 

Dollar Vs Rupee: डॉलर के मुकाबले रुपया (Dollar vs Rupee) एक नए रिकॉर्ड निचले स्तरों पर पहुंच गया है. आज के कारोबार में विदेशी बाजारों से मिल रहे संकेतों की वजह से घरेलू करंसी अब तक के नए निचले स्तरों पर बंद हुई है. रुपये में कमजोरी के लिए फेडरल रिजर्व (Federal reserve) के द्वारा दरों में तेज बढ़ोतरी की आशंकाओं से डॉलर को मजबूती मिली और रुपया आज कमजोर हो गया. बुधवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 18 पैसे गिरकर 78.22 के नए सर्वकालिक निचले स्तर पर बंद हुआ, जानकारों के मुताबिक विदेशी बाजारों के नकारात्मक संकेतों, विदेशी निवेशकों की बाजार से बिकवाली और घरेलू शेयर बाजार में दबाव से निवेशकों के बीच सेंटीमेंट्स बिगड़े हैं.

यह भी पढ़ें :  LPG Gas Cylinder Price: देशभर आज से लागू हुआ एलपीजी गैस सिलेंडर के नए रेट, यहाँ देखें लिस्ट.

कैसा रहा बाजार का हाल

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में, स्थानीय मुद्रा आज 77.99 पर खुली और कारोबार के अंत में 78.04 के अपने पिछले बंद के मुकाबले 18 पैसे नीचे 78.22 के अपने अब तक के सबसे निचले स्तर पर बंद हुई. मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के फॉरेक्स एंड बुलियन एनालिस्ट गौरांग सोमैया ने कहा, “उम्मीद है कि अमेरिकी केंद्रीय बैंक 50 बीपीएस तक दरें बढ़ा सकता है। वहीं फेड की टिप्पणियों से डॉलर को निचले स्तरों पर समर्थन मिल सकता है. डॉलर में व्यापक बढ़त के बाद अन्य प्रमुख करंसी में दबाव देखने को मिला”. सोमैया ने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि डॉलर और रुपये की दरें एक दायरे में रहेंगी और कारोबार 77.70 और 78.40 के बीच देखने को मिलेगा. वहीं डॉलर इंडेक्स, जो छह प्रमुख करंसी के मुकाबले डॉलर के प्रदर्शन को दर्शाता है. फिलहाल 105 के स्तर के करीब है. वहीं दूसरी तरफ वैश्विक तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड वायदा 1.07 प्रतिशत की गिरावट के साथ 119.87 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. और घरेलू इक्विटी बाजार के मोर्चे पर, बीएसई सेंसेक्स 152.18 अंक या 0.29 प्रतिशत की गिरावट के साथ 52,541.39 पर बंद हुआ, जबकि एनएसई निफ्टी 39.95 अंक या 0.25 प्रतिशत की गिरावट के साथ 15,692.15 पर बंद हुआ. स्टॉक एक्सचेंज के आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी संस्थागत निवेशकों ने अपनी बिकवाली जारी रखते हुए मंगलवार को शुद्ध रूप से 4,502.25 करोड़ रुपये के शेयरों की बिक्री की.

यह भी पढ़ें :  Helmet Insurance : इस योजना के तहत हेलमेट खरीदने पर मिलता है 1 लाख रुपए तक का इंश्योरेंस कवर.

क्या होगा कमजोर रुपये का प्रभाव

मई के महीने में भारत का व्यापार घाटा नए रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है. व्यापार घाटे में बढ़त कमोडिटी कीमतों में उछाल और रुपये में रिकॉर्ड कमजोरी की वजह से देखने को मिली. रुपये में कमजोरी से देश का आयात बिल काफी बढ़ गया है. वहीं आयातित सामान खास तौर पर कच्चे तेल की खरीद का बोझ भी बढ़ा है. इससे महंगाई और बढ़ने की आशंका बन गई है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page