Follow Us On Goggle News

Rajiv Gandhi Jayanti : पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 77वीं जयंती पर राहुल गांधी ने पिता को याद किया, पीएम मोदी ने भी दी श्रद्धांजलि.

इस पोस्ट को शेयर करें :

 

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने कहा था, ‘भारत एक प्राचीन देश है, लेकिन एक युवा राष्ट्र है; और हर युवा की तरह हममें भी अधीरता है. मैं भी युवा हूं और मेरा भी एक सपना है. मैं ऐसे भारत का सपना देखता हूं जो मानवता की सेवा में मजबूत, स्वतंत्र, आत्मनिर्भर और दुनियाभर के देशों में अग्रणी हो.’

77th birth anniversary of Rajiv Gandhi

आज पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी की 77वीं जयंती है। इस मौके पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने वीर भूमि जाकर उनको श्रद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर आज दिल्ली में में दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री को श्रद्धांजलि देते हुए एक विशेष फोटो प्रदर्शनी भी लगायी जाएगी। इसके अलावा रक्तदान शिविर, खेलकूद एवं सांस्कृतिक समारोह समेत कई कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे। पीएम मोदी ने भी ट्वीट करके पूर्व पीएम राजीव गांधी को श्रद्धांजलि दी।

 


राहुल गांधी पिता को अर्पित की पुष्पांजलि : वीर भूमि पहुंचकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पूर्व पीएम और अपने स्वर्गीय पिता राजीव गांधी को उनकी जयंती की मौके पर पुष्पांजलि अर्पित की। इस मौके पर उनके साथ लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी समेत कई अन्य कांग्रेसी नेता भी मौजूद थे।

कई कार्यक्रम आयोजित करेगी यूथ कांग्रेस : आपको बता दें कि ‘भारत रत्न’ राजीव गांधी की जयंती कांग्रेस सद्भावना दिवस के रूप में मनाती है। इसका उद्देश्य भारत में सभी धर्मों के लोगों के बीच राष्ट्रीय एकता, शांति, स्नेह और सांप्रदायिक सौहार्द को बढ़ावा देना है. राजीव गांधी ने कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय परियोजनाओं के जरिए देश को एक विकसित राष्ट्र बनाने का बीड़ा उठाया था.

यह भी पढ़ें :  Bihar News : क्या है बिहार के मधुबनी का 'सुखेत मॉडल'?, जिसकी मन की बात में PM ने की थी तारीफ.

देशभर में भारतीय युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता ‘सद्भावना दिवस’ पर पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। इस दौरान फोटो प्रदर्शनी, सांस्कृतिक एवं खेलकूद कार्यक्रम, ‘रन फॉर नेशन’, रक्तदान शिविर आदि कार्यक्रम राज्य, जिला, विधानसभा क्षेत्र एवं प्रखंड स्तर पर आयोजित किये जाएंगे।

 

आइए जानते हैं राजीव गांधी से जुडी मुख्य बातें :

 ● राजीव गांधी देश के सबसे युवा प्रधानमंत्री थे. वह 40 साल की उम्र में प्रधानमंत्री बने थे. भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू उनके नाना थे.

 ● भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी उनकी मां थीं. इंदिरा गांधी की हत्या के बाद राजीव गांधी प्रधानमंत्री बने थे. प्रधानमंत्री के रूप में उन्होंने 1984-89 तक देश की सेवा की.

 ● राजीव गांधी ने देश के विकास में उल्लेखनीय योगदान दिया. उन्होंने 1986 में उच्च शिक्षा कार्यक्रमों के आधुनिकीकरण और विस्तार के लिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति की घोषणा की थी.

यह भी पढ़ें :  बिना हेलमेट धड़ल्ले से घूमता है ये शख्स, पुलिस भी नहीं काट पाती चालान.

 ● उन्होंने 1986 में जवाहर नवोदय विद्यालय की स्थापना की. यह संस्था ग्रामीण बच्चों को उनके उत्थान के लिए 6वीं से 12वीं कक्षा तक मुफ्त आवासीय शिक्षा प्रदान करती थी. इसका संचालन केंद्र सरकार करती है. उनके प्रयास से 1986 में स्थापित किए गए एमटीएमएल ने ग्रामीण क्षेत्रों में टेलीफोन के विस्तार के लिए सार्वजनिक कॉल ऑफिस (पीसीओ) भी बनाए.

 

 ● उन्होंने 1990 के बाद, लाइसेंस राज को कम करने के उपायों की शुरुआत की, जिससे व्यवसायों और व्यक्तियों को पूंजी, उपभोक्ता सामान खरीदने और नौकरशाही प्रतिबंधों के बिना आयात करने की अनुमति मिली. इतना ही नहीं उन्होंने मतदान के अधिकार की आयु सीमा 18 वर्ष तक करने के साथ ही पंचायती राज की शुरुआत की. उन्होंने युवा शक्ति को दृढ़ता से प्रोत्साहित किया और कहा कि देश का विकास देश के युवाओं की जागरूकता पर ही निर्भर करता है. इसलिए राजीव गांधी ने युवाओं को रोजगार देने के लिए जवाहर रोजगार योजना शुरू की थी.

सद्भावना दिवस प्रतिज्ञा : ‘मैं यह शपथ लेता हूं कि मैं जाति, क्षेत्र, धर्म या भाषा की परवाह किए बिना भारत के सभी लोगों की भावनात्मक एकता और सद्भाव के लिए काम करूंगा. मैं फिर से प्रतिज्ञा करता हूं कि मैं हिंसा का सहारा लिए बिना संवाद और संवैधानिक साधनों के माध्यम से हमारे बीच सभी मतभेदों को हल करूंगा.’

यह भी पढ़ें :  Cast Census | जातीय जनगणना पर आज होगा फैसला, CM नीतीश के नेतृत्व में PM से मिलेगा प्रतिनिधिमंडल, तेजस्वी भी रहेंगे मौजूद.

सद्भावना दिवस महत्व : सद्भावना दिवस हर साल राजीव गांधी की याद में मनाया जाता है जिन्होंने भारत को एक विकसित देश बनाने का सपना देखा था. उनके कई आर्थिक और सामाजिक कार्य उनके सपने को स्पष्ट रूप से दर्शाते हैं.

राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार : 1992 में, पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की स्मृति में कांग्रेस पार्टी द्वारा राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार की स्थापना की गई थी. हर साल यह पुरस्कार सामाजिक सद्भाव को बढ़ावा देने में योगदान देने वाले व्यक्तियों को दिया जाता है. पुरस्कार के रूप में 10 लाख रुपये नकद और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है.

राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार पाने वाले व्यक्ति : जगन नाथ कौल, लता मंगेशकर, सुनील दत्त, कपिला वात्स्यायन, एस.एन. सुब्बा राव, स्वामी अग्निवेश, निर्मला देशपांडे, हेम दत्ता, एन राधाकृष्णन, गौतम भाई, वहीदुद्दीन खान, भारतीय शास्त्रीय संगीत और युवाओं के बीच संस्कृति के संवर्धन के लिए सोसायटी (SPIC MACAY), डीआर मेहता, अमजद अली खान, मुजफ्फर अली, शुभा मुद्गल, मोहम्मद अजहरुद्दीन, एम. गोपाल कृष्ण, गोपालकृष्ण गांधी.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page