Follow Us On Goggle News

Digital Health Card: घर बैठे खुद बनाएं पूरे परिवार का डिजिटल हेल्थ कार्ड, ये रहा बनाने का आसान तरीका

इस पोस्ट को शेयर करें :

Digital Health Card: आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के तहत, भारत सरकार ने डिजिटल हेल्थ कार्ड 2022 पहल शुरू की है। हेल्थ कार्ड महत्वपूर्ण है क्योंकि यह लोगों को एक ही जगह पर अपनी पूरी मेडिकल हिस्ट्री को डिजिटली सेव रखने की सुविधा देता है।

 

Digital Health Card: भारत सरकार ने डिजिटल हेल्थ कार्ड 2022 के साथ मेडिकल रिकॉर्ड को डिजिटाइज़ करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इसके लिए लोगों को हेल्थ आईडी पोर्टल पर रजिस्टर करने की आवश्यकता है। सरकार का कहना है कि लोगों के पास किसी भी समय अपना हेल्थ रिकॉर्ड डिलीट करने का ऑप्शन भी होगा।

डिजिटल हेल्थ कार्ड के लिए रजिस्टर करने के लिए, नागरिकों के पास आधार कार्ड या ड्राइविंग लाइसेंस, आधार कार्ड से जुड़ा मोबाइल नंबर, जन्म प्रमाण पत्र की कॉपी और एड्रेस प्रूफ होना जरूरी है। इसके अलावा, लोग अपने आधार कार्ड या ड्राइविंग लाइसेंस का उपयोग करके अपने डिजिटल हेल्थ कार्ड 2022 के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं और फिर डिजिटल हेल्थ कार्ड रजिस्ट्रेशन फॉर्म 2022 को पूरा कर सकते हैं। वे बाद में एक ABHA डिजिटल हेल्थ कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :  7th Pay DA Arear: एरियर के साथ मिलेगी बढ़ी हुई सैलरी को लेकर सरकार ने जारी की अधिसूचना.

यहां हमने डिजिटल हेल्थ कार्ड के लिए रजिस्ट्रेशन करने का तरीका बताया है:

स्टेप 1: हेल्थ आईडी पोर्टल (https://healthid.ndhm.gov.in/) पर जाएं।

स्टेप 2: अब Create ABHA Number बटन कर क्लिक करें।

स्टेप 3: Aadhar Card या Driver licence में से किसी एक ऑप्शन को चुनें और Next बटन के साथ आगे बढ़ें।

स्टेप 4: अब अपना आधार कार्ड नंबर या ड्राइविंग लाइसेंस नंबर दर्ज करें और अगले बटन पर जाएं।

स्टेप 5: अब फोन पर आया OTP दर्ज करें और Next बटन पर क्लिक करें। अगले पेज में नाम, पता, फोन नंबर और अन्य जरूरी जानकारियां भरें। यह आपकी प्रोफाइल को पूरा करेगा।

स्टेप 6: प्रोसेस पूरा होने पर आपका 14 डिजिट वाला Digital Health Card (ABHA नंबर) बन जाएगा और आप वेबसाइट से Health ID Card डाउनलोड कर सकते हैं।

अथॉरिटीज, सरकार की प्रमुख स्वास्थ्य योजना Ayushman Bharat PMJAY में शामिल होने के लिए और अधिक निजी अस्पतालों को “प्रेरित” करने की कोशिश कर रहे हैं। अभी तक, PMJAY के पास 25,000 पैनलबद्ध अस्पतालों (निजी और सार्वजनिक दोनों) का एक नेटवर्क है

यह भी पढ़ें :  Sahara India Refund 2022: सहारा इंडिया को कोर्ट ने दिया नया आदेश, अब सहारा में फंसे लोगों का हक़ और पैसा दोनों मिलेगा.

जिसमें निजी अस्पतालों की 42% (11,000) हिस्सेदारी है। आयुष्मान भारत का लक्ष्य 10 करोड़ से अधिक गरीब और कमजोर परिवारों, या लगभग 50 करोड़ व्यक्तियों को कवर करना है, जो अस्पताल में भर्ती के लिए प्रति परिवार प्रति वर्ष पांच लाख रुपये तक का कवरेज प्रदान करता है।


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page