Follow Us On Goggle News

Wheat Mandi Tax: किसानों को नहीं देना होगा मंडी टैक्स, गेहूं एक्सपोर्ट करने पर सरकार नहीं लेगी टैक्स.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Wheat Mandi Tax: किसानों को अब गेहूं एक्सपोर्ट करने पर मंडी टैक्स (Mandi Tax) नहीं देना होगा. सरकार ने किसानों के हित में ये बड़ा फैसला किया है. दिल्ली में गेहूं निर्यातकों के साथ बैठक के बाद सीएम शिवराज ने किसानों के लिए कई अहम फैसले किए हैं. इसके तहत प्रदेश का जो गेहूं एक्सपोर्ट किया जाएगा उस पर मंडी टैक्स नहीं लगाया जाएगा. भोपालमें एक्सपोर्ट सेल के जरिए निर्यातकों को हर सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी.

 

गेहूं किसानों को बड़ा फायदा होने जा रहा है. गेहूं एक्सपोर्ट करने पर मंडी टैक्स (Mandi Tax) नहीं देना होगा. प्रदेश में एक लाइसेंस पर कोई भी कंपनी या व्यापारी कहीं से भी गेहूं खरीद सकता है. मंडी में ऑनलाइन नीलामी की प्रकिया उपलब्ध है. एक्सपोर्टर किसी स्थानीय व्यक्ति से रजिस्ट्रेशन करवा कर गेहूं खरीद सकते हैं. गेहूं की वैल्यू एडिशन और गुणवत्ता प्रमाणीकरण के लिए प्रदेश की प्रमुख मंडियो में इंफ्रास्ट्रक्चर, लैब की सुविधायें निर्यातकों को उपलब्ध करवाई जाएंगी. प्रमुख मंडियों में एक्सपोर्ट हाउस के लिए यदि निर्यातकों को जगह की जरूरत होगी तो अस्थाई तौर पर रियायती दरों पर मुहैया करवाई जाएगी. निर्यातक को गेहूं की ग्रेडिंग करना पड़ी तो इसके खर्च की भरपाई की जाएगी. निर्यातक किसी भी पोर्ट से अपना निर्यात कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें :  Government Fencing Scheme : किसानों के लिए सरकार ने लायी नयी योजना, कुछ दिनों में मिलते हैं 40 हज़ार रूपये.

 

एमपी में गेहूं: Wheat Mandi Tax

बीते कुछ साल से एमपी में गेहूं की बंपर पैदावार हो रही है. प्रदेश को चार बार कृषि कर्मण अवॉर्ड भी मिल चुका है. साल 1999-2000 में गेहूं की पैदावार 4.98 लाख मी.टन थी जो 2021-22 में बढ़कर कुल 128.15 लाख मी.टन हो चुकी है. रबी विपणन वर्ष 2022-23 में 129 लाख मी.टन गेहूं पैदावार का लक्ष्य है.

 

बैठक में कौन कौन हुआ शामिल: Wheat Mandi Tax

दिल्ली में हुई बैठक में बैठक में एक्सपोर्टर्स के अलावा चेयरमैन, रेलवे बोर्ड सचिव, केन्द्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय सचिव, कामर्स मिनिस्ट्री सचिव, मिनिस्ट्री ऑफ पोर्ट्स, शिपिंग एंड वॉटरवेज (जहाजरानी मंत्रालय) चेयरमेन, APEDA , CMD, आईटीसी, विक्टोरिया फॉल इंगरीडिएंट्स प्राइवेट लिमिटेड गुजरात, प्रतीक एग्रो एक्स्पोर्टस, गुजरात विक्टोरिया फूड प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली, ग्रो वेल ऑर्गेनिक एण्ड इको प्रॉडक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड जयपुर, ऑल एग्रो इंडिया प्राइवेट लिमिटेड गुरुग्राम, सुपलेटेक इंडस्ट्रीज, अमृतसर मौजूद थे.

 

 


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page