Follow Us On Goggle News

Sahara India Refund: सरकार ने बताया, क्‍यों नहीं म‍िल पा रहा हैं सहारा इंड‍िया में फंसा पैसा.

इस पोस्ट को शेयर करें :

सहारा इंडिया (Sahara India Refund) में देशभर के लाखों लोगों की मेहनत – पसीने की गाढ़ी कमाई हजारों करोड़ रुपए के तौर पर फंसे हुए हैं. पैसा जमा करने वाले लोग सालों से सहारा इंडिया (Sahara India Refund) के कार्यालय में चक्कर लगा लगा कर थक चुके हैं. जिसके बाद कई लोगों ने कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया है. लेकिन इस पर भी अभी सुनवाई चल रही है. बीते दिनों सरकार की तरफ से वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने इस बारे में बयान दिया था.

वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने बताया कि सेबी को 81.70 करोड़ के लिए 53,642 ओरिजिनल बॉन्ड सर्टिफिकेट / पास बुक से जुड़े 19,644 आवेदन म‍िले हैं. उन्‍होंने यह भी बताया था क‍ि बाकी आवेदन का SIRECL और SHICL द्वारा उपलब्ध कराए गए दस्तावेजों में रिकॉर्ड ट्रेस नहीं हो पा रहा. उनकी तरफ से जानकारी द‍िए जाने के बाद न‍िवेशकों की उम्‍मीदें बढ़ गई थीं.

यह भी पढ़ें :  7th Pay Commission: बकाया एरियर पर केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, इन लोगों को मिलेगा एरियर का पैसा.

अप्रैल महीने में सहारा (Sahara India Refund) ने सेबी (SEBI) पर निवेशकों के 25,000 करोड़ रुपये रखने का आरोप लगाया था. इससे पहले भी सहारा की तरफ से यह बात कई बार कही जा चुकी है. सहारा की तरफ से जारी लेटर में ल‍िखा क‍ि वह (सहारा) भी सेबी से पीड़ित है. हमसे दौड़ने के ल‍िए कहा जाता है लेक‍िन हमें बेड़ियों में जकड़कर रखा गया है.

न‍िवेशकों की रकम नहीं लौटा पाने पर रेग्‍युलेटरी स‍िक्‍योर‍िटी एंड एक्‍सचेंज बोर्ड ऑफ इंड‍िया (SEBI) की तरफ से बताया गया था क‍ि र‍िकॉर्ड में निवेशकों का डाटा ट्रेस नहीं हो पा रहा है. 4 अगस्त 2021 को सेबी की सालाना रिपोर्ट में निवेशकों के 129 करोड़ रुपये लौटाने की बात कही गई थी. उस समय सेबी ने यह बताया था क‍ि 31 मार्च 2021 तक सेबी के खाते में ब्याज समेत कुल रकम करीब 23,191 करोड़ रुपये है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page