Follow Us On Goggle News

Government Employees Will Be Removed: हटाए जायेंगे कामचोर सरकारी कर्मचारी, सरकार ने शुरू की पहचान.

इस पोस्ट को शेयर करें :

  • विभागों को शीघ्र अनुशंसा भेजने के निर्देश.
  • तीन महीने का नोटिस या मिलेगा तीन महीने का वेतन.
  • जिनकी कार्यदक्षता संतोषजनक नहीं, वह हटाए जाएंगे.
  • पूर्व आदेश के बाद भी विभागों में नहीं गठित की गईं समितियां.
  • मुख्यालय के अलावा प्रमंडल और जिला स्तर पर गठित होंगी समितियां.
  • समीक्षा के बाद समिति नियुक्ति प्राधिकार को भेजेगी अनुशंसा.

Government Employees Will Be Removed: काम में कमजोर पड़ रहे सरकारी सेवकों को हटाने की प्रक्रिया जल्द तेज होगी। सरकार ने सभी विभागों को कहा है कि ऐसे सरकारी सेवकों की पहचान करने के लिए वह विभागीय समिति का गठन करें। उन कर्मियों को सेवा से हटाने के लिए अपनी अनुशंसा सरकार को दें, ताकि आगे की कार्रवाई हो सके। Government Employees Will Be Removed

 

मुख्यालय के कार्यालयों के अलावा प्रमंडल एवं जिला स्तर पर भी ऐसी समितियां गठित होंगी। समिति की अनुशंसा की समीक्षा के बाद नियुक्ति प्राधिकार के पास उसे भेजी जाएगी। संबंधित सेवक को हटाए जाने की जानकारी नियुक्ति प्राधिकार से मिलेगी। सरकारी सेवा से हटाए गए कर्मियों को तीन महीने की नोटिस या तीन महीने का वेतन दिया जाएगा। Government Employees Will Be Removed

यह भी पढ़ें :  Electricity Bill Waive: 88 लाख उपभोक्ताओं के 6,400 करोड़ रुपये के बिजली बिल माफ करेगी सरकार.

 

गजट के मुताबिक 50 की उम्र पार कर चुके ऐसे सरकारी सेवक काम से हटाए जाएंगे, जिनकी कार्यदक्षता संतोषप्रद नहीं है। उन्हें सेवा में बनाए रखना लोकहित में नहीं है। यह उन कर्मियों पर लागू होगा, पहली नियुक्ति की तिथि से जिनकी सेवावधि 21 वर्ष पूरी हो चुकी है। बिहार सेवा संहिता में भी इसका प्रविधान है। Government Employees Will Be Removed

 

समिति करेगी समीक्षा: Government Employees Will Be Removed

फिलहाल राज्य के क, ख, ग और अवर्गीकृत समूह के कर्मचारियों को इस समीक्षा के दायरे में रखा गया है। समूह क के कर्मियों की समीक्षा अपर मुख्य सचिव, प्रधान सचिव या सचिव की अध्यक्षता में गठित समिति करेगी। अपर सचिव या संयुक्त सचिव की अध्यक्षता वाली समिति समूह ख के सेवकों के बारे में निर्णय लेगी। समूह ग एवं अवर्गीकृत कर्मियों के बारे में निर्णय लेने के लिए गठित समिति की अध्यक्षता संयुक्त सचिव स्तर के अधिकारी करेंगे।

यह भी पढ़ें :  EPFO Big Update: पीएफ कर्मचारियों को एक और बड़ी सुविधा, घर बैठे मिलेंगे कई लाभ.

 

सत्यनिष्ठा सर्वोच्च मानक: Government Employees Will Be Removed

समितियां जिन मानकों पर किसी सेवक को हटाने की अनुशंसा करेगी, उसमें सत्यनिष्ठा को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई है। यानी संदिग्ध सत्यनिष्ठा वाले कर्मी बिना किसी और कारण के हटाए जा सकते हैं। कार्यदक्षता को दूसरा मानक बनाया गया है। इसके अलावा समीक्षा के दौरान किसी सेवक के पिछले पांच साल का सेवा इतिहास भी देखा जाएगा। इसमें उनके कार्य मूल्यांकन प्रतिवेदन और चारित्रिक पुस्तिका में दर्ज टिप्पणी पर गौर किया जाएगा। Government Employees Will Be Removed

 

फैक्ट फाइल: Government Employees Will Be Removed

23 जुलाई 2020 को सामान्य प्रशासन विभाग ने संकल्प जारी कर 50 साल से अधिक उम्र के ऐसे सरकारी सेवकों को हटाने का फैसला किया था, जो ढंग से कम नहीं कर रहे हैं। Government Employees Will Be Removed

ऐसे कर्मियों के कामकाज की आवधिक समीक्षा का आदेश दिया गया था। लेकिन, सरकार के विभागों ने इसमें रूचि नहीं दिखाई। नतीजा, आदेश का कार्यान्वयन अभी तक नहीं हो सका। Government Employees Will Be Removed


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page