Follow Us On Goggle News

Bank Privatization Alert: बिकने जा रही हैं ये दो सरकारी बैंक! कर्मचारियों एवं ग्राहकों में हलचल.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Bank Privatization Alert: सरकारी बैंकों के प्राइवेटाइजेशन की प्रक्रिया लगभग शुरू हो चुकी है. बताया जा रहा है कि प्राइवेटाइजेशन सितंबर तक शुरू हो सकता है. सरकार बैंकिंग विनियमन अधिनियम में संशोधन करके पीएसयू बैंकों (PSB) में विदेशी स्वामित्व पर 20% की सीमा को हटाने की तैयारी में है. सूत्रों के अनुसार, इनमें दो सरकारी बैंक शॉर्ट लिस्टेड हो चुके हैं.

 

सरकार ने पूरी की तैयारी: Bank Privatization Alert

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, दो सरकारी अधिकारियों ने नाम न बताने की शर्त के साथ इसकी जानकारी दी है. सूत्रों के मुताबिक संसद के चालू बजट सत्र में संशोधन पेश करने की तैयारी है लेकिन इस बड़े बदलावों के लिए कैबिनेट की मंजूरी में कुछ समय लग सकता है. मानसून सत्र तक संभावना है कि संशोधन हो सकता है. सूत्रों ने बताया है कि, सरकार का उद्देश्य सितंबर तक कम से कम एक बैंक का प्राइवेटाइजेशन सुनिश्चित करना है.

यह भी पढ़ें :  RBI Canceled License: आरबीआई ने रद्द किया बैंक का लाइसेंस, कहीं आपका खता इस बैंक में हैं तो नहीं?

 

ये बैंक हो जाएगा प्राइवेट: Bank Privatization Alert

सूत्रों के मुताबिक, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के प्राइवेटाइजेशन (bank privatization 2022) पर तेजी से काम किया जा रहा है. इंटर-मिनिस्ट्री परामर्श अपने अंतिम चरण में है. वहीं, विधायी प्रक्रिया पूरी होने के बाद, विनिवेश पर मंत्रियों का समूह निजीकरण के लिए बैंकों के नामों को फाइनल करेगा. इन सारी प्रक्रियाओं को जल्दी से जल्दी पूरा किया जाएगा ताकि अगले वित्त वर्ष की शुरुआत में कम से कम एक बैंक का निजीकरण किया जा सके.

 

जानिए सरकार की योजना: Bank Privatization Alert

गौरतलब है कि चालू वित्त वर्ष के लिए बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष 22 में आईडीबीआई बैंक के साथ दो सरकारी बैंकों का निजीकरण की घोषणा की थी. प्राइवेटाइजेशन के लिए नीति आयोग (NITI Aayog) ने दो PSU बैंक को शॉर्टलिस्ट भी किया है. सीतारमण ने यह भी कहा था कि चालू वित्त वर्ष में एक बीमा कंपनी को बेचा जाएगा. सरकार दो सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण में शामिल किसी भी नियामक मुद्दे को दूर करने के लिए आईडीबीआई बैंक पर निवेशकों की प्रतिक्रिया का भी इंतजार कर रही है.

यह भी पढ़ें :  7th Pay CEA Alert: कर्मचारी को 31 मार्च से पहले करना होगा ये काम नहीं तो नहीं मिलेगा सीईए का 4,500 रुपये.

मामले की जानकारी रखने वाले अधिकारियों ने बताया कि निजीकरण के लिए सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और इंडियन ओवरसीज बैंक को संभावित उम्मीदवारों के रूप में चुना गया था. यानी इंडियन ओवरसीज बैंक और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया दो उम्मीदवार हैं जिन्हें निजीकरण के पक्ष में किया गया है, हालांकि बैंक ऑफ महाराष्ट्र को भी अगले साल या बाद में इस अभ्यास के पक्ष में मिला है.

 

Input: zeenews.india.com


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page