Follow Us On Goggle News

Dussehra Festival 2021: विजदशमी पर होती है शस्त्रों की पूजा, जानिए दशहरा पर्व तिथि व शुभ मुहूर्त.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Dussehra Festival 2021 : शारदीय नवरात्रि के दशवें दिन यानी आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी को दशहरे का पर्व मनाया मनाया जाता है। इस बार दशहरा या विजयादशमी का पर्व शुक्रवार 15 अक्टूबर को मनाया जाएगा। पौराणिक कथाओं के अनुसार, दशहरे के दिन ही भगवान राम ने लंका नरेश रावण का वध किया था। इस दिन असत्य पर सत्य की जीत हुई थी, इसलिए ये पर्व विजयादशमी के पर्व के रूप में मनाया जाता है और अस्त्र शस्त्रों की पूजा की जाती है.

Dussehra-Festival-2021 : अधर्म पर धर्म की जीत और अन्याय पर न्याय की विजय का पर्व है दशहरा, जिसे विजयदशमी के रूप में भी जाना जाता है, यह पर्व देश में हिन्दुओं के द्वारा मनाए जाने वाले सबसे बड़े त्योहारों में से एक है। यह नवरात्रि के अंत में मनाया जाता है, जिसके कारण हर साल तारीख बदल जाती है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार यह त्योहार कार्तिक महीने के 10 वें दिन मनाया जाता है। इस बार दशहरा या विजयादशमी ( Dussehra Festival 2021) का पर्व शुक्रवार 15 अक्टूबर को मनाया जाएगा। पौराणिक कथाओं के अनुसार, दशहरे के दिन ही भगवान राम ने लंका नरेश रावण का वध किया था। इस दिन असत्य पर सत्य की जीत हुई थी, इसलिए ये पर्व विजयादशमी के पर्व के रूप में मनाया जाता है और अस्त्र शस्त्रों की पूजा की जाती है।

यह भी पढ़ें :  Hariyali Teej 2021: आज है हरियाली तीज, जानिए अखंड सौभाग्य के लिए पूजा मुहूर्त और शुभ योग.

दशहरे के दिन आतिशबाजी के साथ ही रावण दहन का विशाल आयोजन होता है। नवरात्रि में शुरू होने वाली रामलीला का मंचन दशमी को यानी दशहरे (Dussehra Festival 2021) के दिन रावण के दहन के साथ समाप्त होता है। दशहरा पर्व पर बहुत से लोग रावण को जलाते हैं और उसके जलने के बाद उसकी जली हुई लकड़ी को उपने घरों में लाकर रखते हैं। मान्यता है कि ऐसा करने पर घर से बुरी-बलाएं दूर हो जाती हैं और घर में सुख शांति बनी रहती है। कुछ लोग दशहरा को पान खाने का सगुन करते हैं। तो कुछ इलाकों में दशहरे का मेला भी आयोजित होता है।

दशहरे को ये काम करने से मिलता हे पुण्य :

मान्यता है कि दशहरे ( Dussehra Festival 2021) के दिन यदि किसी को नीलकंठ नाम का पक्षी दिख जाए तो काफी शुभ होता है। कहा जाता है कि नीलकंठ भगवान शिव का प्रतीक है जिनके दर्शन से सौभाग्य और पुण्य की प्राप्ति होती है। दशहरे के दिन गंगा स्नान करने को भी बहुत महत्वपूर्ण बताया गया है। कहा जाता है कि दशहरे के दिन गंगा स्नान करने का फल कई गुना बढ़ जाता है। इसलिए दशहरे दिन लोग गंगा या अपने इलाके की पास किसी नदी में स्नान करने जाते हैं।

यह भी पढ़ें :  Mahanavami 2021: आज है महानवमी व्रत, जानें मां सिद्धिदात्री की पूजा का महत्व.

दशहरा पर्व तिथि व शुभ मुहूर्त :

  • विजय मुहूर्त: 15 अक्टूबर को दोपहर 1 बजकर 38 मिनट से लेकर 2 बजकर 24 मिनट तक रहेगा।
  • अश्विन मास शुक्ल पक्ष दशमी तिथि शुरू – 14 अक्टूबर 2021 को शाम 6 बजकर 52 मिनट से.
  • अश्विन मास शुक्ल पक्ष तिथि समाप्त – 15 अक्टूबर 2021 शाम 6 बजकर 2 मिनट पर.

इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page