Follow Us On Goggle News

Char Dham Yatra 2022 : चार धाम यात्रा आज से शुरू, रजिस्ट्रेशन से लेकर गाइडलाइन तक यहां जानें सबकुछ.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Char Dham Yatra 2022 : इस बार बद्रीनाथ में रोजाना 15000 श्रद्धालु, केदारनाथ में 12000, गंगोत्री में 7000 और यमुनोत्री में 4000 तीर्थयात्री दर्शन कर सकेंगे.

 

Char Dham Yatra 2022 : अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर आज से चार धाम यात्रा (Char Dham Yatra 2022) शुरू हो गई है. हर साल की तरह इस बार भी देश भर से श्रद्धालु चार धाम की यात्रा करने पहुंचेंगे. आज यानी 3 मई को गंगोत्री और यमुनोत्री मंदियों के कपाट खुलेंगे. केदारनाथ मंदिर (Kedarnath) के कपाट 6 मई को और बद्रीनाथ मंदिर (Badrinath) के कपाट 8 मई को खुलेंगे. कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकरा ने यात्रियों की सुविधा के लिए कुछ गाइडलाइन जारी किए हैं. सरकार ने दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या सीमित कर दी है. बिना रजिस्ट्रेशन श्रद्धालुओं को एंट्री नहीं मिलेगी. अगर आपका भी चार धाम यात्रा पर जाने का प्लान है तो यहां यात्रा से जुड़ी पूरी डिटेल जान लें ताकि आपकी यात्रा सुखद हो.

यह भी पढ़ें :  Mahanavami 2021: आज है महानवमी व्रत, जानें मां सिद्धिदात्री की पूजा का महत्व.

 

आपको बता दें कि सरकार ने कोरोना के चलते श्रद्धालुओं की संख्या को सीमित कर दी गई है. बद्रीनाथ में रोजाना केवल 15,000, केदारनाथ में 12,000, गंगोत्री में 7,000 और यमुनोत्री में 4,000 श्रद्धालु ही जा सकेंगे. यह व्यवस्था अगले 45 दिन तक लागू रहेगी.

 

कोरोना टेस्ट-वैक्सीन सर्टिफिकेट जरूरी नहीं :

श्रद्धालुओं की यात्रा को आसान बनाने के लिए सरकार ने कोरोना टेस्ट और वैक्सीनेशन सर्टिफिकेशन की जांच को अनिवार्य नहीं किया है.

 

रजिस्ट्रेशन जरूरी :

चार धाम की यात्रा पर जाने से पहले रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी है. आप उत्तराखंड में चार धाम यात्रा के लिए registrationandtouristcare.uk.gov.in पर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं. रजिस्ट्रेशन के बाद आपको क्यूआर कोड के साथ यात्रा रजिस्ट्रेशन जनरेट करना होगा. इसका वेरिफिकेशन धाम पर होगा.

अगर आप ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन नहीं करा पा रहे हैं तो उत्तराखंड सरकार की ओर से हरिद्वार, देहरादून, चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी जिलों में 24 रजिस्ट्रेशन केंद्र बनाए गए हैं. यहां आप रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं. ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कराने वालों को हाईटेक कलाई बैंड दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें :  Corona Updates : 14 दिन में 1 लाख से 3 लाख हुए केस, तीसरी लहर पर एक्सपर्ट दे रहे ये चेतावनी.

अगर आप अपनी कार से चार धाम यात्रा पर जाना चाहते हैं तो आपको गाड़ी की फिटनेस चेक करानी होगी. उत्तराखंड सरकार नेयात्रियों के ठहरने की व्यवस्था, खान-पान और पार्किंग की व्यवस्था की है.

 

वेरिफिकेशन के बाद ही कर पाएंगे दर्शन :

अगर बिना रजिस्ट्रेशन जाएंगे तो आपको मंदिर में एंट्री नहीं मिलेगी.फिजिकल रूप से केवल आवंटित कलाई बैंड पर QR Code की स्कैनिंग के माध्यम से दर्शन कर पाएंगे. वहीं ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराने वाले मोबाइल ऐप या यात्रा रजिस्ट्रेशन पत्र (Yatra Registration Letter) डाउनलोड करके दर्शन कर सकेंगे.

 

हेलीकॉप्टर सर्विस :

फाटा (Phata), सिरसी (Sirsi) और गुप्तकाशी (Guptakashi) बेस से केदारनाथ धाम के लिए हेलीकॉप्टर सेवा भी शुरू की गई है. इसकी बुकिंग 6 मई से 5 जून तक बुकिंग तक होगी. चार धाम मंदिरों के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कराने वाले लगभग 3 लाख भक्तों में से 90,000 अकेले केदारनाथ के लिए हैं.


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page