Follow Us On Goggle News

Fertilizer Price Hike: किसानों को महंगाई का बड़ा झटका: 150 रुपए महंगा हुआ डीएपी खाद.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Fertilizer Price Hike: किसानों द्वारा फसलों में सर्वाधिक इस्तेमाल होने वाले डीएपी खाद की कीमत 150 रुपये प्रति कट्टा बढ़ गई है। पहले 50 किलोग्राम के बैग की कीमत 1200 रुपये थी। जो अब 1350 रुपये हो गई है। उधर, यूरिया की कीमत नहीं बढ़ी, लेकिन बैग में पांच किलो माल कम हो गया है। 50 किलो की जगह यूरिया बैग में 45 किलो खाद आएगा। Fertilizer Price Hike

 

इस महीने की शुरुआत में देश के स्टॉक में लगभग 25-30 लाख टन डाई-अमोनियम फॉस्फेट (डीएपी), पांच लाख टन म्यूरेट ऑफ़ पोटाश (एमओपी) और 10 लाख टन नाइट्रोजन, फॉस्फोरस ,पोटाश और सल्फर के जटिल उर्वरकों (एनपीकेएस) के होने का अनुमान था। जबकि अकेले खरीफ सीजन में डीएपी की खपत करीब 50 लाख टन होती है। Fertilizer Price Hike

 

खाद की कीमतों में इजाफा: Fertilizer Price Hike

देश में सबसे अधिक खपत वाले उर्वरक यूरिया की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में 1,200 डॉलर प्रति टन तक पहुंच गई है। इसके अलावा, डाई-अमोनियम फॉस्फेट (डीएपी) के लिए आवश्यक फॉस्फोरिक एसिड की कीमत बढ़कर 2,025 डॉलर प्रति टन हो गई है। इस समय देश में करीब 30 लाख टन डीएपी का स्टॉक है। Fertilizer Price Hike

देश में पिछले माह डीएपी की कीमत में 150 रुपये प्रति बैग (50 किलो) की बढ़ोतरी के बावजूद घाटा काफी ज्यादा हो रहा है। सरकार ने पिछले साल मई, 2021 और उसके बाद अक्तूबर, 2021 में डीएपी पर सब्सिडी में भारी बढ़ोतरी कर इसकी कीमत को 1200 रुपये प्रति बैग पर स्थिर रखा था। लेकिन आयात कीमतों और कच्चे माल की कीमतों में बढ़ोतरी के चलते मार्च, 2022 में कंपनियों ने डीएपी की कीमत को बढ़ाकर 1350 रुपये प्रति बैग कर दिया है। Fertilizer Price Hike

यह भी पढ़ें :  Petrol Diesel Price Hike: 12 रुपये महंगा होगा पेट्रोल-डीजल!

 

इस समय डीएपी का बिक्री मूल्य 27 हजार रुपये प्रति टन है। सरकार हर साल अप्रैल से एनबीएस योजना के तहत उर्वरकों पर सब्सिडी की दरें अधिसूचित करती है। लेकिन अभी तक नई दरें अधिसूचित नहीं हुई हैं। Fertilizer Price Hike

 

इन देशों से होता है आयात: Fertilizer Price Hike

भारत प्रमुख तौर पर रूस, चीन, यूएई, अमेरिका, इराक, सऊदी अरब, हांगकांग, जापान और सिंगापुर जैसे देशों से उर्वरकों का आयात करता है। हालांकि म्यूरेट ऑफ़ पोटाश की आपूर्ति के लिए भारत ने कनाडा, जॉर्डन और इजराइल से अनुबंध किया है। Fertilizer Price Hike

 

हरिद्वार में सबसे ज्यादा किल्लत: Fertilizer Price Hike

हरिद्वार जिले में खाद की किल्लत सबसे ज्यादा है। यहां यूरिया तो पर्याप्त है पर डीएपी की कमी है। डीएपी के 50 किलो के कट्टे पर 150 रुपये तक की बढ़ोतरी हो गई है। पथरी किसान सहकारी समिति के सचिव चरण सिंह ने बताया कि 1200 रुपये में मिलने वाला डीएपी का कट्टा अब 1350 रुपये में मिल रहा है। कुमाऊं मंडल में खाद संकट नहीं है। Fertilizer Price Hike

एनपीके और जिंक महंगी हुई: Fertilizer Price Hike

कानपुर-बुंदेलखंड क्षेत्र के 16 जिलों में यूरिया के दाम नहीं बढ़े। डीएपी, एनपीके और जिंक प्रति बोरी 150 रुपए महंगी हुई है। सल्फर की खाद 50 रुपए प्रति किलो महंगी हुई है। सिर्फ हरदोई में एक साल से पोटाश और जिप्सम की किल्लत है। विक्रेताओं का कहना है पोटाश पर सब्सिडी देनी पड़ती है और बाहर से आयात होता है। आयात कम किए जाने की वजह से पोटाश नहीं मिल रही है। कृषि सुधार केंद्रों पर हर साल जिप्सम आया करती थी, वह भी कई साल से नहीं आ रही है Fertilizer Price Hike

यह भी पढ़ें :  Amul Milk Price Hike: अमूल का दूध हुआ 2 रुपये प्रति लीटर महंगा.

 

यूरिया को छोड़ सभी उर्वरकों के मूल्य में हुई वृद्धि: Fertilizer Price Hike

बिहार मुजफ्फरपुर में उर्वरक की बढ़ी कीमतों के बीच जिले में पोटाश की कमी है। वर्तमान समय में यूरिया को छोड़ अन्य सभी उर्वरकों की कीमत में वृद्धि हुई है। यूरिया के 45 किलो वाले बैग की कीमत 266.50 रुपया है। वहीं इफको डीएपी की कीमत वृद्धि के साथ 1350 रुपये है। जबकि अन्य कंपनियों की कीमत 1500 रुपये है। पोटाश की कीमत पूर्व में एक हजार रुपये थी। यह अब बढ़कर 1650 रुपये तक पहुंच गई है। Fertilizer Price Hike

 

एक बोरी पर 150 रुपये बढ़े: Fertilizer Price Hike

यूपी के बरेली में डीएपी पर 15 दिन पहले ही 150 रूपए कट्टा पर वृद्धि हुई है। पहले 1200 रुपए का कट्टा मिलता था, अब 1350 का हो गया है। 3000 कट्टे पर प्रिंट रेट होते हैं, 1650 रुपए सरकार की ओर से सब्सिडी दी जाती है। उप निदेशक कृषि धीरेंद्र सिंह का कहना है, खाद की बरेली में कमी नहीं है। पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध है। गेहूं की बुवाई के समय कुछ दिक्कत होती है, जब सप्लाई डीएपी की कम आती है। शाहजहांपुर में इस वक्त यूरिया की कमी है, लेकिन नैनो यूरिया खरीदने को किसानों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। पीलीभीत और लखीमपुर खीरी में थोड़ी-बहुत दिक्कत आ रही है। Fertilizer Price Hike

 

प्रयागराज : एक अप्रैल से डेढ़ सौ रुपये प्रति बोरी बढ़ी डीएपी की कीमत: Fertilizer Price Hike

केन्द्र सरकार ने पहली अप्रैल से डीएपी खाद की कीमत में बढ़ोत्तरी कर दी है। अब इसकी कीमत 1350 रुपये प्रति बोरी हो गई है। जबकि पहले प्रति बोरी डीएपी की कीमत 12 सौ रुपये थी। लिहाजा अब किसानों की खेती महंगी हो गई है। कृषि विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, वित्तीय खरीफ वर्ष 22-23 के दौरान जिले में डीएपी खाद की जरूरत 23850 एमटी की है। जबकि मौजूदा वक्त में स्टॉक 9011 एमटी है। जिला कृषि अधिकारी सुभाष मौर्य ने बताया कि स्टॉक में उपलब्ध डीएपी खाद पुराने रेट पर ही किसानों को दी जाएगी। हालांकि अन्य रासायनिक खादों की कीमतों में बढ़ोत्तरी नहीं की गई है। Fertilizer Price Hike

यह भी पढ़ें :  PM Kisan Yojana : पीएम किसान सम्मान निधि के लाभार्थी सरकार से हर साल ले सकते हैं 36000 रुपये का फायदा, जानिए इसकी डिटेल्स.

 

गोरखपुर: अभी खाद की मांग नहीं, स्टाक पर्याप्त: Fertilizer Price Hike

पूर्वांचल में अभी खाद की डिमांड नहीं हैं। अभी गेहूं की फसल तैयार हुई है। इसके बाद जुलाई से धान की फसल की रोपाई होगी। बसंतकालीन गन्ना की भी ज्यादातर बुवाई हो चुकी है। खाद की मांग जुलाई से बढ़ेगी। Fertilizer Price Hike

हालांकि इधर खाद की कीमतें बढ़ गई हैं। पहले डीएपी 1200 रुपये में मिलती थी, अब उसका दाम 1350 रुपये हो गया है। एनपीके 20:20:13 पहले 1220 रुपये में बोरी मिलती थी, अब 1470 रुपये की हो गयी है। गोरखपुर-बस्ती मंडल के सभी सात जिलों में अभी पर्याप्त मात्रा में खाद का स्टाक है। दोनों मंडलों में मौजूदा समय में करीब 32 हजार एमटी यूरिया और 19 हजार एमटी डीएपी स्टाक में है। Fertilizer Price Hike


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page