Follow Us On Goggle News

NCERT Syllabus: NCERT ने सिलेबस में किया बदलाव, गुजरात दंगों से जुड़े विषय को कक्षा 12वीं के पाठ्यक्रम से हटाया

इस पोस्ट को शेयर करें :

NCERT Syllabus: NCERT ने 12वीं कक्षा के पाठ्यक्रम में संशोधन को लेकर गुरुवार को नोट जारी किया है. जिसके तहत NCERT ने 12वीं राजनीतिक विज्ञान की किताब से गुजरात दंगों, नक्सली आंदोलन का इतिहास जैसे कई पाठ्यक्रम हटाने की जानकारी दी है.

 

NCERT Syllabus: National Council of Educational Research and Training (NCERT) ने एक अहम फैसला लिया है. अपने इस फैसले के तहत NCERT ने गुजरात दंगों (Gujarat Riots) से जुड़ी पाठ्य सामग्री को 12वीं कक्षा के पाठ्यक्रम से हटा दिया है. अभी तक यह पाठ्यसामग्री कक्षा 12वीं के राजनीतिक विज्ञान विषय की पुस्तक में 187 से 189 पेज पर थी. इसको लेकर NCERT की तरफ से गुरुवार को एक नोट जारी किया गया है. असल में NCERT ने कोरोना महामारी के मद्देनजर पाठ्यपुस्तक युक्तिकरण योजना के तहत कक्षा 12वीं के पाठ्यक्रम में संशोधन करते हुए यह फैसला लिया है. इसको लेकर NCERT की तरफ से गुरुवार को एक नोट जारी किया गया है. जिसके अनुसार इस साल की शुरुआत में जारी सीबीएसई (CBSE) के 2022-23 शैक्षणिक पाठ्यक्रम के तहत पहले से ही हटाई गई सामग्री भी पाठ्यक्रम से बाहर रहेंगी.

यह भी पढ़ें :  Board Exam Tips : बोर्ड परीक्षा में अच्छा नंबर पाने के तरीके ? जानिए हैंडराइटिंग कितना मायने रखती है और इससे मार्क्स पर कितना होता है असर.

 

क्या था पाठ्यसामग्री में

NCERT की तरफ से 12वीं राजनीतिक विज्ञान के पाठ्यक्रम में किए गए संशोधन को लेकर द इंडियन एक्सप्रेस ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की है. जिसके अनुसार पाठ्यसामग्री के इनगुजरात दंगों से पता चलता है कि सरकारी तंत्र भी सांप्रदायिक भावनाओं के प्रति संवेदनशील हो जाता है. उदाहरण, गुजरात की तरह, हमें राजनीतिक उद्देश्यों के लिए धार्मिक भावनाओं का उपयोग करने में शामिल खतरों के प्रति सचेत करते हैं. यह लोकतांत्रिक राजनीति के लिए खतरा पैदा करता है, एक पैराग्राफ में कहा गया है जिसे हटा दिया गया है.” पैराग्राफ को हटाया गया है.

इसके साथ ही पाठ्यसामग्री से तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजेपेयी के इस बयान को भी हटाया गया है. “मुख्यमंत्री (गुजरात के) को एक संदेश है कि उन्हें ‘राज धर्म’ का पालन करना चाहिए. एक शासक को जाति, पंथ और धर्म के आधार पर अपनी प्रजा के बीच कोई भेदभाव नहीं करना चाहिए”.

यह भी पढ़ें :  CBSE Admit Card 2022 : आज जारी होगा सीबीएसई परीक्षा का एडमिट कार्ड, यहाँ जानिए Exam से जुड़े नए नियम.

यह विषय भी हटाए गए

एक निजी समाचार एजेंसी के मुताबिक 12वीं राजनीतिक विज्ञान की किताब से NCERT ने गुजरात दंगों के साथ ही अन्य विषयों को भी हटाने का फैसला लिया है. जिसमें नक्सली आंदोलन का इतिहास और आपातकाल के दौरान विवाद विषय शामिल हैं. किताब में “नक्सली आंदोलन” के इतिहास पेज संख्या 105 और “आपातकाल के दौरान विवाद” पेज संख्या 113-117 में शामिल था. NCERT ने अपने नोट में कहा है कि कोरोना महामारी को देखते हुए छात्रों पर पड़ने वाले विषय भार को कम करना अनिवार्य है. इसी उद्देश्य के साथ अप्रासंगिक विषयों को हटाया गया है. साथ ही NCERT ने कहा है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 भी इसी पर जोर देती है. इस पृष्ठभूमि में एनसीईआरटी ने सभी कक्षाओं के लिए पाठ्यपुस्तकों को युक्तिसंगत बनाने की कवायद शुरू की है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page