Follow Us On Goggle News

Mahanavami 2021: आज है महानवमी व्रत, जानें मां सिद्धिदात्री की पूजा का महत्व.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Mahanavami 2021 ; उत्तराषाढ़ा नक्षत्र धृति योग मकर राशि के चंद्रमा में प्रबल गजकेसरी योग के साथ महानवमी का पावन पर्व मना जा रहा है. आज के दिन मां दुर्गा के सिद्धिदात्री रूप की पूजा अर्चना और आरती की जाती है.

Mahanavami 2021 ; शारदीय नवरात्रि की नवमी आज 14 अक्टूबर को मनाई जा रही है. हिन्दू कैलेंडर के अनुसार आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को महानवमी कहा जाता है. महानवमी के दिन मां दुर्गा के सिद्धिदात्री स्वरुप की पूजा की जाती है. बता दें, उत्तराषाढ़ा नक्षत्र धृति योग मकर राशि के चंद्रमा में प्रबल गजकेसरी योग के साथ महानवमी का पावन पर्व मनाया जाता है.

महानवमी ( Mahanavami 2021) को मां सिद्धिदात्री की पूजा करने से सभी प्रकार के भय, रोग और शोक का समापन हो जाता है. मां सिद्धिदात्री की कृपा से व्यक्ति को सभी प्रकार की सिद्धियां प्राप्त होती हैं. अनहोनी से भी सुरक्षा प्राप्त होता है और मृत्यु पश्चात मोक्ष भी मिलता है. महानवमी के दिन कन्या पूजन और नवरात्रि हवन का भी विधान है.

यह भी पढ़ें :  Nag Panchami 2021 : आज है आज नाग पंचमी ! जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और व्रत कथा, राहु-केतु दोष से मुक्ति पाने के लिए करें ये उपाय

इस दिन मां दुर्गा के सिद्धिदात्री रूप की पूजा अर्चना और आरती की जाती है. ‘या देवी सर्वभूतेषु माता सिद्धिदात्री रूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः’ इस महामंत्र के द्वारा माता सिद्धिदात्री की उपासना करनी चाहिए. माता सिद्धिदात्री चार भुजाओं से युक्त हैं. यह अज्ञानता को दूर कर पूर्णता प्रदान करने वाली है. मुख्य रूप से आठ सिद्धियां मानी गई है और नौ सिद्धियां होती है माता की कृपा से अष्ट सिद्धि को प्राप्त करने का मनुष्य अधिकारी बन पाता है.आज के दिन माता को 9 प्रकार के पुष्प चढ़ाए जाते हैं. माता को सिंदूर, रोली, कुमकुम, बंधन और सुहाग की सामग्री अर्पित की जाती है. जिससे माता की प्रसन्नता भक्तों को प्राप्त होती है.

आज के दिन महाकन्या पूजन किया जाता है. नौ कन्याओं को चरण धोकर भोजन कराया जाता है और उन्हें द्रव्य दक्षिणा देकर सम्मान पूर्वक विदा किया जाता है. आज के दिन भोग भंडारा भी करने का विधान है. भक्तगण यथाशक्ति आयोजन करते हैं. सिद्धिदात्री माता की चार भुजाएं हैं. वाहन है और कमल आसन है. देवी को कमल का पुष्प प्रचुर मात्रा में चढ़ाने से माता प्रसन्न होती है. सिद्धिदात्री ध्यान, मंत्र, सिद्धि, कवच सिद्धिदात्री स्रोत का पाठ करने से जीवन की बाधाएं दूर हो जाती हैं और सभी काम सुगम होने लगते हैं.

यह भी पढ़ें :  Hariyali Teej 2021: आज है हरियाली तीज, जानिए अखंड सौभाग्य के लिए पूजा मुहूर्त और शुभ योग.

अलौकिक शक्तियां देने वाली हैं मां सिद्धिदात्रीप्राचीन मान्यता है कि, सृष्टि के आरंभ होने के पूर्व जब सब तरफ घोर अंधकार था. वहां पर माता सिद्धिदात्री के प्रभाव से ऊर्जा का प्रकाश पुंज सभी जड़ पदार्थों को चेतन रूप प्रदान करता है.

पौराणिक मान्यता है कि ब्रह्मा, विष्णु और महेश भी सिद्धिदात्री माता के महान भक्त हैं. भगवान शिव गौ माता की कृपा से ही अर्धनारीश्वर स्वरूप प्राप्त हुआ था. आकाशगंगा, झील, वनस्पति, पेड़ पौधे, जल आकाश, थल आदि का निर्माण भी माता सिद्धिदात्री के अनुग्रह से ही हुआ, भक्तों को सिद्धिदात्री की पूजा करने से अलौकिक शक्तियां प्राप्त होती हैं.


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page