Follow Us On Goggle News

Bank Fraud: एक फोन कॉल के जरिए खाली हो सकता है आपका बैंक खाता! बचने के लिए इन टिप्स को जान लें

इस पोस्ट को शेयर करें :

Bank Fraud: अपराधी लोगों को बैंक फ्रॉड का शिकार बनाकर कुछ मिनटों में उनका बैंक अकाउंट खाली कर देते हैं. इसके लिए अपराधी अलग-अलग तरीकों का इस्तेमाल करते हैं.

 

Bank Fraud: कोरोना महामारी (Covid-19 Pandemic) के दौर में लोग अपना बैंकिंगसे जुड़ा ज्यादातर काम ऑनलाइन ही करते हैं. ऐसे में साइबर अपराधी भी इसका फायदा उठा रहे हैं. लोगों के साथ बैंक धोखाधड़ी (Bank Fraud) के मामले तेजी के साथ बढ़ रहे हैं. अपराधी लोगों को बैंक फ्रॉड का शिकार बनाकर कुछ मिनटों में उनका बैंक अकाउंट (Bank Account) खाली कर देते हैं. इसके लिए अपराधी अलग-अलग तरीकों का इस्तेमाल करते हैं. इनमें से एक तरीका विशिंग (Vishing) है. आइए इसके बारे में डिटेल में जानते हैं.

 

विशिंग क्या है?

विशिंग में अपराधी आपके साथ फोन कॉल के जरिए आपकी गोपनीय जानकारी को हासिल कर लेते हैं. इनमें डिटेल्स जैसे यूजर आईडी, लॉगइन और ट्रांजैक्शन पासवर्ड, ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड), URN (यूनिक रजिस्ट्रेशन नंबर), कार्ड पिन, ग्रिड कार्ड वैल्यू, सीवीवी या कोई निजी जानकारी जैसे जन्म की तारीख, माता का नाम शामिल हो सकता है. अपराधी बैंक की ओर से होने का दावा करते हैं और ग्राहकों सो फोन पर उनकी निजी और वित्तीय डिटेल्स को हासिल कर लेते हैं. इन डिटेल्स को फिर बिना आपकी इजाजत के आपके अकाउंट के साथ धोखाधड़ी करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जिससे आपको वित्तीय नुकसान पहुंचता है.

यह भी पढ़ें :  Bank Fraud Alert : एक SMS से खाली हो सकता है आपका बैंक अकाउंट, बचने के लिए इन बातों का रखें ध्यान.

बचने के लिए इन बातों का रखें ध्यान

1. आपके बैंक को आपकी निजी डिटेल्स की जानकारी होती है. ऐसे किसी कॉलर से सावधान रहें, जिसे आपकी बेसिक पर्सनल डिटेल्स जैसे नाम आदि की जानकारी नहीं हो. अगर आपको ऐसा कॉल मिलता है, तो इसकी सूचना बैंक को दें.

2. किसी मैसेज, ईमेल या एसएमएस में दिए गए फोन नंबर पर अपनी कोई निजी या अकाउंट की डिटेल्स बिल्कुल भी न दें, खासकर अगर वे आपके क्रेडिट कार्ड या बैंक अकाउंट के साथ संभव सिक्योरिटी के मामलों से जुड़ा है.

3. जब कोई टेलिफोन नंबर दिया जाता है, तो आपको सबसे पहले अपने क्रेडिट कार्ड या बैंक स्टेटमेंट के पीछे दिए गए फोन नंबर पर सबसे पहले कॉल करके यह वेरिफाई करना चाहिए कि क्या दिया गया नंबर असल में बैंक का है या नहीं.

4. अगर आपको आपकी निजी या क्रेडिट या डेबिट कार्ड की जानकारी पूछने के लिए एसएमएस या कॉल आता है, तो उस जानकारी को नहीं दें.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page