Follow Us On Goggle News

नवादा में सड़क निर्माण कंपनी पर बिजली चोरी की प्राथमिकी, विभाग ने लगाया 2 करोड़ 46 लाख का जुर्माना | FIR on Road Construction Company

इस पोस्ट को शेयर करें :

FIR on Road Construction Company : नवादा में बिजली विभाग ने एक सड़क निर्माण कंपनी के बेस कैंप पर छापेमारी कर उसे बिजली की चोरी करते हुए पकड़ा है. इस संबंध में बिजली विभाग ने कंपनी के खिलाफ रजौली थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है. साथ ही कंपनी पर 2 करोड़ 46 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है.

बिहार के नवादा जिले के रजौली थाना (Rajauli Police Station) इलाके में बहादुरपुर मोड़ से कुछ दूर आगे स्थित फोरलेन निर्माण करने वाली एक कंपनी के बेस कैंप पर बिजली विभाग (Electricity Department) की टीम ने छापेमारी की. जहां सड़क निर्माण कंपनी की ओर से अवैध रूप से बिजली का उपयोग किया जा रहा था. इसको लेकर बिजली विभाग ने फोरलेन निर्माण कंपनी पर दो करोड़ 46 लाख 204 रुपये का जुर्माना लगाया है. इसके साथ ही प्राथमिकी ( FIR on Road Construction Company) भी दर्ज कराई गई है

यह भी पढ़ें :  बड़ी खबर : बिहार में शराबबंदी पर नीतीश कुमार ने किया बड़ा एलान. | Liquor Ban in Bihar

जानकारी के अनुसार बीते 22 अक्टूबर को बिजली विभाग के विद्युत कार्यपालक अभियंता यासिर हयात, सहायक विद्युत अभियंता अम्बरीश कुमार, कनीय विद्युत अभियंता भागीरथ झा के नेतृत्व में फोरलेन निर्माण कंपनी मैसर्स गावर कंस्ट्रक्शन लिमिटेड में छापेमारी किया गया था. जिसमें देखा गया कि 11 हजार लाइन से विद्युत संधारण जोड़कर उसके द्वारा खरीदा गया दो ट्रांसफॉर्मर विद्युत प्रवाहित हो रहा था. इसके साथ ही एलटी तार से भी बिना मीटर लगाए अवैध रूप से बिजली चोरी (FIR on Road Construction Company) की जा रही थी.

इस संबंध में बिजली विभाग के एसडीओ ने रजौली थाने में आवेदन देकर कंपनी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है. जांच टीम के द्वारा छापेमारी के दौरान बिजली चोरी की वीडियोग्राफी भी किया गया है. जिसे थाने में दिए गए लिखित आवेदन में संलग्न किया गया है. बिजली विभाग के सहायक विद्युत अभियंता ने बताया कि बिजली चोरी के मामले में प्राथमिकी दर्ज ( FIR on Road Construction Company) कराई गई है. बिजली विभाग से मिली जानकारी के अनुसार पता चला है कि गावर कंपनी में बिजली विभाग के द्वारा एक ट्रांसफार्मर लगाया गया था.

यह भी पढ़ें :  Politics : 2024 में नरेंद्र मोदी को रोकने के लिए बिखरे विपक्ष को एक मंच पर लाने में जुटे लालू, UP चुनाव से तय होगा गठबंधन का भविष्य.

जिससे पूरे प्लांट में बिजली चालू थी लेकिन कंस्ट्रक्शन कंपनी ( FIR on Road Construction Company )के द्वारा प्लांट के पिछले हिस्से में 2 सौ केवी का दो ट्रांसफार्मर फिर से लगाया गया. जिसके लिए बिजली विभाग से कोई अनुमति नहीं ली गई थी. अपने इच्छा से कंस्ट्रक्शन कंपनी के द्वारा 11 हजार लाइन से उसमें कनेक्शन करके बिजली चुराया जा रहा था. इसी मामले में कंपनी पर कार्रवाई की गई है.

गौरतलब है कि मैसर्स गावर कंस्ट्रक्शन लिमिटेड कंपनी ( FIR on Road Construction Company) बहादुरपुर मोड़ से कुछ दूर आगे अपना बेस कैंप बनाए हुए है. जहां फोरलेन निर्माण करने की कई सामग्री और मशीनरी वहां पर रखा हुआ है. वहीं पर उनके दर्जनों कर्मी भी दिन रात काम करते हैं और रहते भी हैं. कंपनी हरदिया से खराट मोड़ तक दूसरे फेज का फोरलेन का निर्माण कार्य कर रहा है. जहां बिजली विभाग की टीम ने छापेमारी कर बिजली चोरी को पकड़ा है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page