Follow Us On Goggle News

NEET UG Postponement: स्थगित होगी नीट-यूजी परीक्षा ? हाईकोर्ट ने दिया बड़ा फैसला.

इस पोस्ट को शेयर करें :

NEET UG Postponement: राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा-स्नातक स्तर (नीट-यूजी) स्थगित नहीं होगी। अभ्यर्थियों ने 17 जुलाई को होने वाली वर्ष 2022 की परीक्षा को स्थगित करने का अनुरोध किया था। दिल्ली हाईकोर्ट ने गुरुवार को याचिका को खारिज कर दिया। अदालत ने कहा कि याचिका विचारणीय नहीं है। चूंकि याचिकाकर्ता छात्र हैं इसलिए वह उनके साथ कठोर रुख नहीं अपना रही। न्यायमूर्ति संजीव नरूला ने कहा, अगर कोई और होता तो अदालत भारी जुर्माना भी लगाती। भविष्य में ऐसा हुआ तो अदालत जुर्माने से संकोच नहीं करेगी।

 

NEET UG Postponement: दिल्ली हाई कोर्ट ने गुरुवार को उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा-स्नातक स्तर (नीट-यूजी) के अनेक अभ्यर्थियों ने 17 जुलाई को होने वाली वर्ष 2022 की परीक्षा को स्थगित करने का अनुरोध किया था.

 

अदालत ने याचिका पर क्या कहा? NEET UG Postponement

अदालत ने कहा कि याचिका विचारणीय नहीं है और चूंकि याचिकाकर्ता छात्र हैं इसलिए वह उनके साथ कठोर रुख नहीं अपना रही. न्यायमूर्ति संजीव नरूला ने कहा, ‘अगर कोई और होता तो अदालत याचिका खारिज करने के साथ भारी जुर्माना लगाती.’

यह भी पढ़ें :  NEET UG Counselling 2021 : नीट यूजी काउंसलिंग की डेट जारी, ये रहा पूरा शेड्यूल.

उच्च न्यायालय ने कहा कि अगर भविष्य में इस तरह के मामले दायर किये जाते हैं तो वह जुर्माना लगाने में संकोच नहीं करेगा.

 

17 जुलाई को होनी है परीक्षा: NEET UG Postponement

अदालत ने याचिकाकर्ताओं के वकील से अंतिम क्षण में आने पर भी सवाल पूछा क्योंकि स्नातक स्तर के चिकित्सा और दंत-चिकित्सा पाठ्यक्रमों के लिए परीक्षा 17 जुलाई को होनी है.

याचिकाकर्ताओं ने नीट-यूजी प्रवेश परीक्षा रद्द कर इसे चार से छह सप्ताह बाद कराने का अनुरोध किया था. इसके लिए उन्होंने अनेक आधार गिनाये जिनमें यह भी था कि नीट, जेईई और केंद्रीय विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (सीयूईटी) का कार्यक्रम ‘अव्यवस्थित’ है और इससे अभ्यर्थियों को मानसिक सदमा पहुंचा है और 16 विद्यार्थियों के आत्महत्या के मामले सामने आये हैं.

याचिका में कहा गया कि बोर्ड परीक्षा जून 2022 के मध्य में समाप्त हुई और छात्रों को तैयारी के लिए पर्याप्त समय मिले बिना तीन राष्ट्रीय स्तर की परीक्षाओं की तैयारी करने के लिए मजबूर कर दिया गया है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page