Follow Us On Goggle News

Digital Gold : क्या है डिजिटल गोल्ड? इसमें पैसा लगाए या नहीं? यहां जानिए सभी सवालों के जवाब.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Digital Gold : डिजिटल गोल्ड यानी न सोने का सिक्का, न बार, न गहने न म्यूचुअल फंड और न ही बांड ! ये है ऑनलाइन सोना जो केवल 1 रुपए का खरीदा जा सकता है. लेकिन निवेश के लिहाज से इस विकल्प को चुनने से पहले आपको चैन की सांस देखना जरूरी है:

 

Digital Gold : पिंकी के मोबाइल पर एक रुपए में सोना (Gold) खऱीदने का ऑफर आया तो उन्हें भरोसा ही नहीं हुआ… इस बारे में उन्होंने इंटरनेट पर सर्च किया तो वह अवाक रह गईं. केवल एक रुपए में खरीदिए सोना… सुना तो आपने भी होगा. सोने का नया अवतार है डिजिटल गोल्ड. सोने में निवेश का यह ट्रेंड तेजी से बढ़ रहा है. पेटीएम, GooglePay और PhonePe जैसे फिनटेक प्लेटफॉर्म से लेकर तनिष्क और कल्याण ज्वेलर्स तक… ये सब आपको बेच रहे हैं डिजिटल गोल्ड. ज्वेलरी प्लेटफार्म के जरिए आपको न्यूनतम 100 रुपए खर्च करने होंगे. ऐप और ज्वेलरी ब्रैंड सोने की 3 ट्रेडिंग कंपनियां MMTC, PAMP, Safe Gold और Augmont के टाइअप में सोना बेचती हैं.

 

क्या है डिजिटल गोल्ड?

तो क्या होता है डिजिटल गोल्ड? आसान शब्दों में कहें तो डिजिटल गोल्ड ऑनलाइन चैनल के जरिए फि‍ज‍िकल सोना खरीदने की प्रक्रि‍या है. 24 कैरेट सोना आपके नाम पर तिजोरी में रख दिया जाता है. आप इस सोने को देख नहीं सकते. यह केवल ऑनलाइन माध्यम से ही एक्सेस कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें :  Diwali Gift -2021 : सरकारी कर्मचारियों और पेंशनधारकों को मिला दिवाली गिफ्ट! महंगाई भत्ते में 3% बढ़ोतरी को कैबिनेट ने दी मंजूरी.

आपका खरीदा हुआ सोना वो प्लेटफॉर्म्स मैनेज करते हैं जहां से आपने इन्हें खरीदा है. इसकी कीमत अंतरराष्ट्रीय कीमत से लिंक होती है. खरीदते समय आप इसे लाइव देख सकते हैं. खास बात यह है कि खरीदने के साथ-साथ इसे बेच भी सकते हैं, रिडीम भी कर सकते हैं और किसी को ट्रांसफर भी कर सकते हैं.

 

डिजिटल गोल्ड खरीदने की प्रक्रिया :

आप ऐप या जिस वेबसाइट से डिजिटल गोल्ड खरीदना चाहते हैं वो आपके बैंक अकाउंट या पेमेंट वॉलेट से जुड़ा रहना चाहिए. इसे आप ऑनलाइन खरीदते भी हैं और बेच भी सकते हैं. पेमेंट ऐप पर आपको दो कॉलम नजर आएंगे.

ऐप में डालिए कीमत और दूसरे में आपको दिख जाएगा कि कितना सोना आपके नाम पर तिजोरी में जमा होगा. अगर आप चाहें तो इस डिजिटल गोल्ड की फिजिकल डिलवरी भी ले सकते हैं.

लेकिन फिजिकल डिलवरी के लिए अलग-अलग कंपनियां एक मिनिमम अमाउंट की खरीद की ही डिलवरी करेंगी. कंपनियां अपनी तिजोरी में इसे एक 3-5 साल के समय सीमा तक ही रखती हैं. समय सीमा के खत्म होते ही आपको इसे बेचना पड़ेगा या फिजिकल डिलवरी लेनी होगा.

यह भी पढ़ें :  Bharti Airtel के ग्राहकों को झटका, 26 नवंबर से प्रीपेड प्लान्स हो जाएंगे महंगे, इतनी बढ़ी टैरिफ.

 

डिजिटल गोल्ड की तरफ क्यों खींच रहे हैं लोग?

रिपोर्टस बताती है कि देश में 10 करोड़ लोग डिजिटल गोल्ड में निवेश कर रहे हैं. लेकिन कितना सोना डिजिटल रूप में खरीदा गया है इसका कोई आंकड़ा नही है. डिजिटल गोल्ड की USP है कम पैसे खरीद का विकल्प. जो चीज हजारों में मिले अगर वो केवल 1 रुपए में आप खरीद पाएं तो इसकी तरफ खींचे चले जाना स्वाभाविक है.

भले ही सोने का भाव हजारों पर हो लेकिन आप जितने का सोना खरीदना चाहे उतने का खरीद सकते हैं. जितना पेमेंट उतना सोना! एक रुपए में रत्ती भर सोने से शुरुआत कर सकते हैं. हर महीने जितना पैसा बचा पाएं उतना निवेश कर सकते हैं. दूसरी खास बात है कि इस सोने को रखने की सिरदर्दी खरीदने वाले की नहीं.

आप जिस प्लेटफॉर्म पर सोना रखेंगेे वो इस सोने को अपनी तिजोरी में सुरक्षित रखेगा. लेकिन डिजिटल गोल्ड की इस तथा-कथित तिजोरी पर कितना विशवास किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें :  Petrol Diesel Price Today : पेट्रोल और डीजल के दामों पर चुनावी असर, जानिए अपने शहर में क्या रही कीमत.

 

क्रेडेंस वेल्थ एडवाइजर के फाउंडर कीर्तन शाह कहते हैं कि कोई ऐसा ऑडिट प्रोसिजर नहीं है जो बता सके कि जितना गोल्ड खरीदा जा रहा है वो क्या वाकई में तिजोरी में मौजूद है भी या नहीं.

 

एक्सपर्ट की सलाह :

1 रुपए में सोने का ख्वाब अच्छा तो है लेकिन ये महज मार्केटिंग गिमिक है. कंपनियों को बस आपसे पैसे खींचने के लिए एक प्रोडक्ट का बहाना मिल गया. न कोई रिटर्न न कोई ब्याज… बस एक रुपए का झुनझुना आपके लिए कितना ही सोना जमा कर पाएगा.

सावरेन गोल्ड बांड या गोल्ड म्यूचुअल फंड और एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF) जैसे विकल्पों के सामने इसकी चमक फीकी है. डिजिटल गोल्ड को निवेश नहीं बस सोने को खरीदना का सिर्फ जरिया समझिए. घर बैठे खरीदने की सहूलियत तो है लेकिन बिना रेगुलेटेड सोना खरीदने में जोखिम भी जुड़ा है.

 


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page