Follow Us On Goggle News

Village Business Ideas: पेड़ के पत्ते बेचकर एक साल में 630 करोड़ रुपयों की हुई कमाई.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Village Business Ideas: अभी घर बैठे अपने गांव से अपना व्यापार शुरू करना चाहते हैं तो आपके लिए एक बड़ी खुशखबरी है. रोजगार की इच्छा रखने वाले युवक ने पेड़ के पत्ते बेचकर 1 साल में 630 करोड़ रुपए की कमाई की है.

इसके साथ ही उसने 12 लाख से अधिक लोगों को रोजगार भी दिया है. छत्तीसगढ़ के सरकार ने एक बड़ा दावा किया है. सरकार का दावा है कि चालू वित्तीय वर्ष 2022 के दौरान 15 लाख 78 हजार मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रह हुआ है. जो लक्ष्य का 94% से अधिक है. यह संग्रह बीते वर्ष की तुलना में 21% अधिक है. इनमें 12 लाख से अधिक तेंदूपत्ता को को कुल 630 करोड़ रुपये की कमाई हुई है. जिस राशि का भुगतान राज्य शासन द्वारा किया जाना है.

 

tendupatta 1 Village Business Ideas: पेड़ के पत्ते बेचकर एक साल में 630 करोड़ रुपयों की हुई कमाई.

सरकार का दावा है कि तेन्दूपत्ता संग्रहाकों को उनके भुगतान योग्य राशि का भुगतान तेजी से जारी है. दावा किया जा रहा है कि राज्य में तेंदूपत्ता संग्रहण से आदिवासी-वनवासी संग्राहकों को रोजगार के साथ-साथ आय का भरपूर लाभ मिलने लगा है. सरकार द्वारा पेश किए गए एक आंकड़े के मुताबिक राज्य में वर्ष 2020 में 9 लाख 73 हजार मानक बोरा और वर्ष 2021 में 13 लाख 6 हजार मानक तेन्दूपत्ता का संग्रहण हुआ था. पिछले वर्ष की तुलना में वर्ष 2022 के दौरान तेन्दूपत्ता संग्रहण में लगभग 21 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है.

यह भी पढ़ें :  Business Ideas : ये बिजनेस देगा आपको जबरदस्त मुनाफा, यहाँ जानिए कैसे करें शुरू.

 

बस्तर के इन जिलों से संग्रहण: Village Business Ideas

राज्य लघु वनोपज संघ से मिली जानकारी के मुताबिक अब तक जगदलपुर वनवृत्त के अंतर्गत वनमंडल बीजापुर में 52 हजार संग्राहकों द्वारा 32 करोड़ रुपये के 80 हजार 324 मानक बोरा, सुकमा में 44 हजार संग्राहकों द्वारा 40 करोड़ रुपये के एक लाख मानक बोरा, दंतेवाड़ा में 20 हजार 323 संग्राहकों द्वारा 8 करोड़ रुपये के 19 हजार 408 मानक बोरा तथा जगदलपुर में 43 हजार 178 संग्राहकों द्वारा 6.56 करोड़ रुपयों के 16 हजार 396 मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रहण किया गया है.

इसी तरह कांकेर वनवृत्त के अंतर्गत वनमंडल दक्षिण कोण्डागांव में 33 हजार 843 संग्राहकों द्वारा 6.93 करोड़ रुपये के 17 हजार 332 मानक बोरा, केशकाल में 35 हजार संग्राहकों द्वारा 10.45 करोड़ रुपये के 26 हजार 118 मानक बोरा, नारायणपुर में 16 हजार 738 संग्राहकों द्वारा 9.61 करोड़ रुपये के 24 हजार मानक बोरा, पूर्व भानुप्रतापपुर में 32 हजार संग्राहकों द्वारा 38.48 करोड़ रुपये के 96 हजार 195 मानक बोरा, पश्चिम भानुप्रतापपुर में 33 हजार संग्राहकों द्वारा 31.62 करोड़ रुपये के 79 हजार 058 मानक बोरा तथा कांकेर में 33 हजार 928 संग्राहकों द्वारा 14.82 करोड़ रुपये के 37 हजार 047 मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रहण किया गया है. इसके अलावा दुर्ग, बिलासपुर, रायपुर व सरगुजा संभाग के विभिन्न जिलों से भी तेंदूपत्ता का संग्रहण किया गया है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page