Follow Us On Goggle News

सिर्फ 10 हजार रुपए लगाकर बने टाटा ग्रुप के पार्टनर, हर महीने होगी मोटी कमाई | Tata 1MG Franchise

इस पोस्ट को शेयर करें :

Tata 1MG franchise : कोरोना काल में ई फार्मेसी का बिजनेस तेजी से फैल रहा है। टाटा समूह की 1MG बहुत तेजी से पने बिजनेस का विस्तार कर रहा है। ऐसे में इसकी फ्रेंचाइजी लेकर बिजनेस शुरू करना एक शानदार आइडिया साबित हो रहा है.

 

Tata 1MG Franchise : कोरोना काल में स्वास्थ्य को लेकर लोग काफी गंभीर हैं। ऐसे में हेल्थ सेक्टर उछाल पर है। वैसे भी हेल्थकेयर और फार्मेसी ऐसा सेक्टर है, जिसका बाजार कभी मंदा नहीं पड़ता। अगर आप मेडिकल में व्यवसाय ग्रामीण और सुदूर इलाकों में भी खोलते हैं तो आपका बिजनेस हर हाल में चलेगा और इससे अच्छी कमाई भी होगी। आपने ऑनलाइन फार्मेसी 1MG का नाम तो सुना ही होगा। हाल ही में टाटा समूह ने इसे खरीदा है। 1MG की मदद से फूड की तरह घर बैठे दवाई भी ऑर्डर कर सकते हैं। ई-फार्मेसी 1MG में फिलहाल टाटा डिजिटल के पास बड़ी हिस्सेदारी है।

 

सेहत का साथी के नाम से शुरू किया प्रोग्राम :

टाटा डिजिटल द्वारा अधिग्रहित करने के बाद 1MG बहुत तेजी से देश के कोने-कोने में अपने बिजनेस (Tata 1MG Franchise ) का विस्तार कर रहा है। ऐसे में अगर आप इसकी फ्रेंचाइजी लेकर बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो यह फायदेमंद साबित होगा। टाटा ग्रुप ने एक प्रोग्राम लॉन्च किया गया है जिसका नाम है ‘Sehat ke Sathi’. यह तरीके से लीड जेनरेशन प्रोग्राम है, जिसके तहत आपको एक एरिया दे दिया जाएगा जहां आपको 1MG के लिए नए कस्टमर खोजने होंगे। आप जितना कस्टमर खोजेेंगे, उतना ही आपको कमीशन मिलेगा।

यह भी पढ़ें :  How to Check Balance : पोस्ट ऑफिस RD अकाउंट का बैलेंस ऑनलाइन कैसे चेक करें, स्टेप बाई स्टेप समझें प्रोसेस

 

1MG फार्मेसी की एक ऐसी कंपनी है, जो लोगों को घर बैठे प्रिस्क्रिप्शन अपलोड करने के बाद दवाइयों की होम डिलीवरी ( Tata 1MG Franchise) उपलब्ध करवाती है। अब ये देश के हर क्षेत्र में अपने बिजनेस का विस्तार कर रही है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक अपनी पकड़ बना सके।

 

क्या है सेहत का साथी प्रोग्राम :

Tata 1MG  हेल्थकेयर और फार्मेसी एक ऐसी संस्था (Sector) है, जिसे किसी भी प्रकार के संकट (Crisis) का सामना नहीं करना पड़ता है। फार्मेसी संबंधी बिजनेस ( Tata 1MG Franchise ) अगर आप ग्रामीण क्षेत्रों में भी शुरू करते हैं, तब भी आपका बिजनेस अच्छा चलेगा। 

आपने ऑनलाइन फार्मेसी 1MG का नाम जरूर सुना होगा। फिलहाल ई-फार्मेसी 1MG Tata डिजिटल के पास बड़ी हिस्सेदारी है। आज हजारों लोग इस फ्रेंचाइजी के द्वारा अच्छी कमाई कर रहे हैं। ( Tata 1MG Franchise)

Tata ग्रुप की ओर से एक प्रोग्राम लॉन्च किया गया है, जिसका नाम है ‘सेहत के साथी’ (sehat ke Sathi) यह प्रोग्राम एक लीड जेनरेशन प्रोग्राम है। इसके अधीन आपको एक एरिया दिया जाता है, जहां आपको 1MG के लिए नए कस्टमर ढूंढना होता है और आप इस कंपनी के लिए जितने कस्टमर बनाएंगे उतना ही आपको कमिशन मिलेगा। (Tata 1MG Franchise)

यह भी पढ़ें :  Gold Price Today : सोने की कीमतों में आज फिर आई गिरावट, 5 दिन में 3500 रुपये हुआ सस्ता, चेक करें नए रेट्स.

 

सिर्फ 10 हजार रुपए लगाकर बने टाटा ग्रुप के पार्टनर, हर महीने होगी मोटी कमाई | Tata 1MG Franchise

 

फार्मेसी डिग्री चाहिए होता है, मेडिकल शॉप खोलने के लिए :

अगर कोई मेडिकल शॉप शुरू करना चाहते है, तो इसके लिए उन्हें फार्मेसी की डिग्री होना जरूरी है। इतना ही नहीं इसके लिए इन्वेस्टमेंट भी ज्यादा है। सबसे कठिन काम होता है इसमें ड्रग लाइसेंस लेना। ऐसे में 1MG के सेहत के साथी (sehat ke sathi) प्रोग्राम से मेडिकल शॉप के ओनर के साथ कोई भी जुड़ सकता है। जैसे कि यह एक एफिलिएट प्रोग्राम है, इसलिए आप के संपर्क से जितने लोग 1MG के साथ जुड़ेंगे, आपको कमीशन भी उतना ही मिलेगा। – (Tata 1MG Franchise )

 

कितना इन्वेस्टमेंट करना होगा? :

सेहत के साथी (sehat ke sathi) बनने के लिए आपको मात्र 10 हज़ार का investment ( निवेश ) करना होगा। इस इन्वेस्टमेंट के बदले आपको शुगर चेक करने, बल्ड प्रेशर चेक करने की मशीन और साथ ही 500 विजिटिंग कार्ड मिलेंगे। इसमें मिलने वाले कमिशन अमूमन मूल्य 10 फ़ीसदी होता है और कभी-कभी यह कम या ज्यादा भी हो सकता है। वेबसाइट (website) पर दी गई जानकारी के अनुसार 1MG प्रोग्राम के साथ अभी तक 100 से अधिक लोग जुड़ चुके हैं। ( Tata 1MG Franchise)

यह भी पढ़ें :  LIC IPO पर मंडराया रूस-यूक्रेन जंग का खतरा, आईपीओ की टाइमिंग रिव्यू कर सकती है सरकार.

 

 

tata 1mg सिर्फ 10 हजार रुपए लगाकर बने टाटा ग्रुप के पार्टनर, हर महीने होगी मोटी कमाई | Tata 1MG Franchise

 

बहुत तेजी से बढ़ रहा है, ई-फार्मेसी का बिजनेस :

ऑनलाइन फार्मेसी भविष्य के लिए एक बहुत ही अच्छा कार्यक्षेत्र साबित हो सकता है। एक रिपोर्ट के अनुसार यह दावा किया गया है कि भारत का ई-फार्मेसी कारोबार साल 2023 तक 2.7 अरब डॉलर ( लगभग 17 हजार करोड़ रुपए) तक का हो सकता है। फिलहाल यह 360 मिलियन डॉलर ( 2500 करोड़) का है। ( Tata 1MG Franchise)

 

1MG का इतिहास (History) :

1MG की स्थापना साल 2015 में प्रशांत टंडन और गौरव अग्रवाल ने मिलकर किया था। इसकी वेबसाइट (website) पर दी गई जानकारी के अनुसार ऑनलाइन डॉक्टर, दवाई, लैब टेस्ट और लैब ब्लड टेस्ट जैसी मेडिकल सुविधाएं मौजूद हैं। यहां अंग्रेजी दवाइयों के साथ-साथ आयुर्वेदिक दवाईयां भी उपलब्ध हैं। इन सबके अतिरिक्त यहां कोरोना वायरस से जुड़ी हुई हर सुविधाएं भी उपलब्ध है।

1MG इस वक्त देश के लगभग 1800 से अधिक छोटे से लेकर बड़े शहरों में हेल्थ प्रोडक्ट की डिलीवरी करता है। अभी तक इस कारोबार की सहायता से लगभग 27 मिलियन (2.7 करोड़) आर्डर डिलिवर किया जा चुका है। – Tata 1MG Franchise

 

 


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page