Follow Us On Goggle News

Sariya Rate Hike : फिर से बढ़ने लगा सरिया का भाव, एक महीने पहले से इतना सस्ता मिल रहा सरिया.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Sariya Rate Hike : कारोबारियों का कहना है मानूसन के कारण कीमतें कम होने से इसकी डिमांड आने लगी है. लोग अपना घर बनवाने का सपना पूरा करने के लिए सरिया समेत अन्य भवन निर्माण सामग्रियां खरीद रहे हैं. उन्होंने कहा कि अभी सरिया खरीदने का अच्छा समय है, क्योंकि मानसून के कमजोर पड़ने के साथ ही इनके भाव फिर तेजी से चढ़ने लग जाएंगे.

 

Sariya Rate Hike : अगस्त महीने के पहले दो सप्ताह के दौरान सस्ता होने के बाद एक बार फिर से देश के विभिन्न शहरों में सरिया के भाव (Saria Rate) में तेजी आने लगी है. हालांकि यह अभी भी कुछ शहरों में एक महीने पहले की तुलना में 3000 से लेकर 3200 रुपये प्रति टन तक सस्ता मिल रहा है. वहीं इस दौरान मुंबई जैसे शहरों में सरिये का रेट 900 रुपये प्रति टन तक बढ़ गया है. कारोबारियों का कहना है मानूसन के कारण कीमतें कम होने से इसकी डिमांड आने लगी है. लोग अपना घर बनवाने का सपना पूरा करने के लिए सरिया समेत अन्य भवन निर्माण सामग्रियां खरीद रहे हैं. घर की मजबूती के लिए सरिया सबसे जरूरी सामग्री है और इसके भाव कम होने से घर बनवाने की लागत (House Construction Cost) में भी गिरावट आती है. उन्होंने कहा कि अभी सरिया खरीदने का अच्छा समय है, क्योंकि मानसून के कमजोर पड़ने के साथ ही इनके भाव फिर तेजी से चढ़ने लग जाएंगे.

 
 

जून में रिकॉर्ड सस्ता हुआ था सरिया :

यह भी पढ़ें :  Bihar Labour Card : 50 रुपये में बनवाएं लेबर कार्ड ! होंगे लाखों के फायदे, जानिए कार्ड बनवाने की आसान प्रक्रिया.

भवन निर्माण सामग्रियों की कीमतें (Building Materials Prices) इस साल के मार्च-अप्रैल महीने के दौरान अपने उच्च स्तर पर पहुंच गई थीं. उसके बाद सरिया (Saria), सीमेंट (Cement) जैसी सामग्रियों की कीमतों में तेजी से नरमी आई थी. खासकर सरिया के रेट जून महीने के पहले सप्ताह तक लगातार कम हुए थे. सरिया के मामले में तो भाव करीब-करीब आधे हो गए थे. हालांकि इसके बाद जून महीने में ही फिर से इनके दाम तेजी से बढ़ने लग गए थे. पिछले डेढ़ महीने के दौरान तो लगभग हर सप्ताह सरिया का रेट करीब 1000 रुपये ऊपर चढ़ा था. अभी देश के लगभग हर हिस्से में बढ़िया बारिश हो रही है, जिस कारण निर्माण संबंधी गतिविधियां सुस्त पड़ी हैं. बारिश में कमी आते ही निर्माण कार्य रफ्तार पकड़ लेंगे और इसका असर सरिया समेत अन्य सामग्रियों के भाव पर देखने को मिलेगा.

 

मार्च में सरिये ने बनाया था ये रिकॉर्ड :

यह भी पढ़ें :  Gold Silver Price Today : सोने के भाव में तेजी, चांदी हुई सस्ती; जानिए आज कहां पहुंच गए दाम.

मार्च के महीने में कुछ जगहों पर सरिये का भाव 85 हजार रुपये टन तक पहुंच गया था. अभी यह अलग-अलग शहर के हिसाब से 51,000 रुपये से लेकर 59,000 रुपये प्रति टन तक के भाव में मिल रहा है. जून महीने के पहले सप्ताह में तो यह कम होकर कई जगहों पर 44 हजार रुपये टन के पास आ गया था. ब्रांडेड सरिये का भाव भी कम होकर जून महीने की शुरुआत में 80-85 हजार रुपये प्रति टन तक आ गया था, जो मार्च 2022 में 01 लाख रुपये प्रति टन के पास पहुंच गया था. जुलाई महीने के दौरान भी सरिये के भाव में तेजी आई थी. हालांकि इस महीने यानी अगस्त के पहले दो सप्ताह के दौरान सरिये के भाव में नरमी का दौर देखने को मिला, उसके बाद अब इसके भाव एक बार फिर से चढ़ने लगे हैं.

 

जानें अपने शहर में सरिया का ताजा भाव :

भारत के प्रमुख शहरों में सरिया के रेट अलग-अलग मात्रा में बदले हैं. आयरनमार्ट (ayronmart) वेबसाइट सरिये की कीमतों की घट-बढ़ पर नजर रखती है और उसी आधार पर कीमतों को अपडेट करती है. देश के प्रमुख शहरों की बात करें अभी देश में सबसे सस्ता सरिया पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर और कोलकाता में मिल रहा है, जहां इसका ताजा रेट 51,000 रुपये प्रति टन है. वहीं उत्तर प्रदेश के कानपुर में इसका रेट सबसे ज्यादा है. कानपुर में सरिया अभी 59,000 रुपये प्रति टन के भाव में मिल रहा है. देखें प्रमुख शहरों में क्या है सरिये का भाव… सभी कीमतें रुपये प्रति टन में हैं. इन कीमतों पर अलग से 18 फीसदी की दर से जीएसटी (GST) भी लगेगा.

यह भी पढ़ें :  Free Business Ideas : रेलवे के साथ शुरू करें ये बिजनेस, आराम से बैठकर कमाएं लाखों रुपये महीना.

 

विभिन्न शहरों में सरिये का भाव :

 
शहर (राज्य)     12 जुलाई 13 अगस्त अंतर
दुर्गापुर (पश्चिम बंगाल) 51,500 51,000 -500
कोलकाता (पश्चिम बंगाल) 52,000 51,000 -1000
रायगढ़ (छत्तीसगढ़) 55,200 52,000 -3200
राउरकेला (ओडिशा) 56,200 53,000 -3200
नागपुर (महाराष्ट्र) 56,000 53,300 -2700
हैदराबाद (तेलंगाना) 58,000 55,000 -3000
जयपुर (राजस्थान) 58,000 56,100 -1900
भावनगर (गुजरात) 58,000 56,500 -1500
मुजफ्फरनगर (UP) 57,800 55,000 -2800
गाजियाबाद (UP) 58,200 55,800 -2400
इंदौर (मध्य प्रदेश) 56,500 55,800 -700
गोवा 57,600 56,100 -1500
जालना (महाराष्ट्र) 56,500 56,200 -300
मंडी गोविंदगढ़ (पंजाब) 59,700 58,100 -1600
चेन्नई (तमिलनाडु) 59,700 57,000 -2700
दिल्ली 58,800 57,300 -1500
मुंबई (महाराष्ट्र) 55,700 56,600 +900
कानपुर (उत्तर प्रदेश) 61,800 59,000 -2,800

इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page