Follow Us On Goggle News

Russia-Ukraine War के बीच रुपये में डॉलर के मुकाबले 102 पैसे की गिरावट, जानिए कहां पहुंच गई भारतीय करेंसी.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Russia-Ukraine War : रुपया गुरुवार को अमेरिकी करेंसी के मुकाबले 102 पैसे की गिरावट के साथ 75.63 (प्रोविजनल) पर बंद हुआ है. रूस के यूक्रेन के खिलाफ सैन्य कार्रवाई शुरू करने के बाद ज्यादा जोखिम वाले एसेट्स को झटका लगा है.

 

Russia-Ukraine War : रुपया (Rupee) गुरुवार को अमेरिकी करेंसी डॉलर (Dollar) के मुकाबले 102 पैसे की गिरावट के साथ 75.63 (प्रोविजनल) पर बंद हुआ है. रूस (Russia) के यूक्रेन (Ukraine) के खिलाफ सैन्य कार्रवाई शुरू करने के बाद ज्यादा जोखिम वाले एसेट्स को झटका लगा है. फॉरैक्स ट्रेडर्स का कहना है कि फॉरेन फंड आउटफ्लो, घरेलू इक्विटी में भारी बिकवाली और कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी से निवेशकों के सेंटिमेंट पर असर पड़ा है. इंटरबैंक फॉरेन एक्सचेंज मार्केट में, रुपया अमेरिकी डॉलर के खिलाफ 75.02 पर खुला था, लेकिन बाद में यह गिरकर डॉलर के मुकाबले 75.75 के निचले स्तर पर पहुंच गया.

 

भारतीय रुपया आखिर में 75.63 पर बंद हुआ, जो उसके पिछले बंद के मुकाबले 102 पैसे की गिरावट है. इस बीच डॉलर इंडैक्स जो डॉलर की छह करेंसी के मुकाबले मजबूती का मूल्यांकन करता है, 0.74 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 96.90 पर ट्रेड कर रहा था. ग्लोबल ऑयल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड फ्यूचर्स 8.36 फीसदी के उछाल के साथ 104.94 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया.

यह भी पढ़ें :  Big Breaking : दूरसंचार विभाग का एलान, भारत में महानगरों को पहले मिलेगा 5G नेटवर्क का तोहफा | 5G in India

 

क्या है गिरावट के पीछे की पूरी वजह?

HDFC सिक्योरिटीज में रिसर्च एनालिस्ट दिलीप परमार ने कहा कि रुपया एशियाई करेंसी में सबसे बुरा प्रदर्शन करने वाली करेंसी बन गई, जिसके पीछे वजह तेल आयातकों से महीने के आखिर में तेल की डिमांड रही है. उन्होंने कहा कि इसके साथ यूक्रेन पर रूस के हमले से जोखिम वाले एसेट्स में बिकवाली हुई, जिसके बाद सेफ-हैवल डॉलर की डिमांड में बढ़ोतरी देखने को मिली है.

ब्रेंट क्रूड ऑयल की कीमतें 100 डॉलर प्रति बैरल के आंकड़े को पार कर गई. इसके पीछे वजह युद्ध की वजह से अनिश्चित्ता का माहौल है, जिसने रूपये के लिए सेंटिमेंट को ज्यादा बिगाड़ दिया है. परमार ने कहा कि स्पॉट डॉलर-रुपये को 74.30 पर सपोर्ट मिला, और अब यह एक महीने की ऊंचाई 75.72 की ओर बढ़ रहा है.

 

शेयर बाजार में भी मचा कोहराम :

घरेलू इक्विटी बाजार के मोर्चे पर, 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 2702.15 अंक या 4.72 फीसदी की गिरावट के साथ 54,529.91 पर बंद हुआ है. जबकि, NSE निफ्टी 815.30 अंक या 4.78 फीसदी की गिरावट के साथ 16,247.95 रुपये पर पहुंच गया है.

यह भी पढ़ें :  Natural Gas Price : नैचुरल गैस की कीमत में 62% की बढ़ोतरी का ऐलान, 1 अक्टूबर से लागू होगी नई दर.

आपको बता दें कि रूस- यूक्रेन के बीच लड़ाई से शेयर बाजार में गुरुवार को कोहराम मच गया है. सेंसेक्स में इतिहास की चौथी सबसे बड़ी गिरावट देखी गई है. सेंसेक्स में 2700 अंकों से ज्यादा की गिरावट आई है. निफ्टी 5 फीसदी नीचे गिर गया है. भारतीय बेंचमार्क इंडैक्स में आज सातवें लगातार सत्र में गिरावट देखी गई है. निफ्टी 16,300 प्वॉइंट्स के आंकड़े के नीचे रहा है. शेयर बाजार के बंद होने के समय, सेंसेक्स 2,702.15 प्वॉइंट्स या 4.72 फीसदी गिरकर 54,529.91 पर रहा. जबकि, निफ्टी 815.30 अंक या 4.78 फीसदी की गिरावट के साथ 16,248.00 पर पहुंच गया था.


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page