Follow Us On Goggle News

PNB MSME Prime Plus : छोटे कारोबारियों को बिजनेस के लिए आसानी से लोन देगा PNB, जानिए स्कीम के बारे में सबकुछ.

इस पोस्ट को शेयर करें :

PNB MSME Prime Plus स्कीम के तहत छोटे कारोबारी 10 लाख रुपये से 100 करोड़ रुपये तक लोन ले सकते हैं. बैंक बिजनेस चलाने के अलावा जमीन और इक्विपमेंट खदीने के लिए फंड मुहैया कराएगा.

PNB MSME Prime Plus  : अगर आपको अपना बिजनेस चलाने या बढ़ाने के लिए फंड की जरूरत है तो पंजाब नेशनल बैंक (Punjab National Bank) आपकी मदद कर सकता है. एसबीआई के बाद सार्वजनिक क्षेत्र का दूसरा सबसे बड़ा बैंक पीएनबी (PNB) ने एमएसएमई प्राइम प्लस स्कीम (MSME Prime Plus Scheme) के बारे में जानकारी दी है जो किसी को अपने बिजनेस को बढ़ाने में मदद कर सकती है. इसके स्कीम का फायदा मैन्युफैक्चरिंग, सर्विसेज, ट्रेडिंग और एग्री-इंफ्रास्ट्रक्चर वाले उठा सकते हैं. MSME Prime Plus स्कीम के तहत 10 लाख रुपये से 100 करोड़ रुपये तक लोन ले सकते हैं. PNB ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है.

यह भी पढ़ें :  Free Business Ideas : छोटी निवेश से घर से शुरू करें ये डिमांडेड बिजनेस, हर महीने होगी करोड़ों की कमाई- जानें कैसे करें स्टार्ट?

पीएनबी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया है. बैंक ने कहा, MSMEs के लिए वन स्टॉप शॉप. पेश है MSME Prime Plus स्कीम क्योंकि हम आपकी चुनौतियों को समझते हैं. इस लोन योजना के अधिक जानकारी के लिए पीएनबी की आधिकारिक वेबसाइट pnbindia.in पर लॉग इन कर सकते हैं.

एमएसएमई ( MSME ) के लिए वन स्टॉप सॉल्यूशन :

किस काम के लिए ले सकते हैं लोन

आप वर्किंग कैपिटल की जरूरत को पूरा करने के लिए लोन ले सकते हैं. जमीन, ऑफिस/वर्कप्लेस बिल्डिंग, इक्विपमेंट और इंफ्रास्ट्रक्चर (नए उद्यमों द्वारा) जैसी फिक्स्ड एसेट्स खरीदने के लिए टर्म लोन लिया जा सकता है. लोन 10 लाख रुपये से ज्यादा और 100 करोड़ रुपये तक लिया जा सकता है.

कौन कर सकता है अप्लाई?

PNB MSME Prime Plus के लिए पात्रता में इंडिविजुअल/प्रॉपराइटर/पार्टनरशिप/लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप (LLP)/प्राइवेट लिमिटेड कंपनी/पब्लिक लिमिटेड कंपनी/ट्रस्ट/सोसायटी और को-ऑपरेटिव सोसायटीज (लागू कानून के तहत पंजीकृत और निगमित) शामिल हैं. साथ ही, GST रजिस्टर्ड नंबर (जहां लागू हो) और उद्यम आधार नंबर (Udyam Aadhar Number) वाले MSMEs.

यह भी पढ़ें :  Tax Free Income : कौन से इनकम पर लगता है टैक्स और कौन से इनकम हैं टैक्स फ्री, जानिए आयकर के नियम और शर्ते.

 

 

लोन रिपेटमेंट/मोरेटोरियम :

मोरेटोरियम पीरियड समेत इस लोन का रिपेमेंट 7 साल में करना होगा. हालांकि, ज्यादा लोन के मामले मेंअधिकृत प्रस्ताव के तहत रिपेमेंट की अवधि 7 साल से अधिक समय के लिए भी बढ़ाई जा सकती है. वर्किंग कैपिटल फैसिलिटी 1 साल के लिए ही होगी.सालाना आधार पर इसे रिन्यू कराना होगा. सामान्य तौर पर मोरेटोरियम की अवधि 12 महीनों के लिए होगी. कुछ विशेष मामलो में मोरेटोरियम की अवधि को 12 महीने से अधिक के लिए बढ़ाया जा सकता है.

अतिरिक्त फीचर्स में एमएसएमई विशेष (MSME Vishesh) और एमएसएमई ओपन टर्म लोन (MSME Open Term Loan) हैं. एमएसएमई विशेष के तहत एमएसएमई प्राइम प्लस उधारकर्ताओं के लिए वर्किंग कैपिटल लिमिट अपने आप बढ़ जाती है.

यह भी पढ़ें :  Free LPG Cylinder : पेटीएम के इस ऑफर के तहत मिल रहा है फ्री में LPG सिलेंडर, यहां जानें अप्लाई करने का तरीका

सर्विस चार्ज :

एमएसएमई प्राइम प्लस स्कीम के तहत लोन पर बैंक प्रोसेसिंग फीस/अपफ्रंट फीस पर 50 फीसदी की छूट देता है. वहीं LC और BG कमीशन पर लागू चार्जेज पर 25 फीसदी की छूट मिलती है. एमएसएमई सेगमेंट जैसे मैन्युफैक्चरिंग, सर्विसेज और कॉन्ट्रैक्ट एंड ट्रेडर्स को लोन का 30 फीसदी से 75 फीसदी तक कोलैटर सिक्योरिटी होगा.

 


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page