Follow Us On Goggle News

NHAI Toll Tax : अब महंगा होगा हाईवे का सफर, हर 60 किलोमीटर पर बनेगा सिर्फ एक टोल प्लाजा.

इस पोस्ट को शेयर करें :

NHAI Toll Tax : रोड ट्रांसपोर्ट और हाइवे मिनिस्टर नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने कहा है कि अब 60 किलोमीटर की दूरी पर एक टोल प्‍लाजा होगा.

 

NHAI Toll Tax : आप भले शानदार हाइवे देखकर 100 की स्पीड पर गाड़ी दौड़ा देते हैं. लेकिन, सरकार भी कम नहीं है….उसने भी फुल स्पीड में आपकी जेब खाली करने का मन बना लिया है. आप सोचेंगे कि तेल पर तो सरकार वैसे ही तेल निकाले हुए है…अब कहां से जेब काटने की तैयारी है. अब आपकी जेब कटेगी टोल (Toll tax) प्‍लाजा पर…रोड ट्रांसपोर्ट और हाइवे मिनिस्टर नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने खुद कहा है कि 60 किलोमीटर की दूरी पर एक टोल प्‍लाजा होगा (Toll Plaza) और टोल प्‍लाजा के आसपास रहने वाले लोगों को उनके आधार कार्ड पर टोल पास जारी किए जाएंगे ताकि उन्‍हें कोई परेशानी न हो.

 

हर 60 किलोमीटर पर सिर्फ एक टोल प्लाजा :

गडकरी ने ये भी कहा है कि जहां भी 60 किमी से कम दूरी पर टोल बूथ हैं उन्हें अगले तीन महीने के भीतर हटा दिया जाएगा. ये बयान एक बड़ी आशंका पैदा करता है कि क्या सरकार का इरादा आने वाले वक्त में हर 60 किलोमीटर पर टोल बूथ खोलने का है? इसको लेकर जब  एनएचएआई के प्रवक्‍ता से बात की, तो उन्‍होंने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया .इसकी एक वजह है…मसलन, सरकार का इरादा देश में अमरीका जैसे चमचमाते हाइवे बनाने का है. बड़े पैमाने पर नए एक्सप्रेसवे और हाइवे बन भी रहे हैं. अब इस सबमें बड़ी पूंजी भी लग रही है.

यह भी पढ़ें :  Spicejet winter offer : 1122 रुपये में करें हवाई सफर ! स्पाइसजेट एयरलाइंस दे रहा है मौका.

 

फिलहाल हर 192 किलोमीटर पर एक टोल प्लाजा :

अब पैसा आएगा कहां से? तो भाई…ये रकम सरकार आपसे टोल के जरिए ही वसूलेगी. इसकी दूसरी बड़ी वजह NHAI की बीमारू हालत भी है. नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया कर्ज तले दबी है. NHAI पर कुल 3.17 लाख करोड़ रुपए का कर्ज है. इसे चुकाने के लिए उसे हर साल करीब 32,000 करोड़ रुपए चाहिए. देश में नेशनल हाइवे की कुल लंबाई अभी 1 लाख 40 हजार 152 किलोमीटर है और इन पर 727 टोल प्‍लाजा हैं. इसका औसत निकाला जाए तो हर 192 किलोमीटर पर एक टोल प्‍लाजा बैठता है.

क्या है टोल की कमाई का गणित :

अब जरा टोल का वो गणित भी समझ लीजिए जिसे आप अनदेखा कर देते होंगे. मिसाल के तौर पर… दिल्‍ली से हरिद्वार की दूरी 212 किलोमीटर है, जिसे पूरा करने में 5 घंटे और करीब 275 रुपए का टोल टैक्‍स लगता है.वहीं दिल्‍ली से लखनऊ की 528 किलोमीटर के सफर पर आपको 1050 रुपए का टोल चुकाना पड़ता है. औसत रूप से देखा जाए तो अभी प्रति किलोमीटर 1.5 से 2 रुपए का टोल टैक्‍स लग रहा है. अब NHAI की कमाई का गणित भी देख लेते हैं.दिसंबर 2021 में NHAI ने टोल से 3679 करोड़ रुपए यानी प्रतिदिन 119 करोड़ रुपए की कमाई की. 2022-23 में NHAI के हर 5 रुपए खर्च में करीब 1 रुपया कर्ज चुकाने में जाएगा.

यह भी पढ़ें :  सिर्फ 10 हजार रुपए लगाकर बने टाटा ग्रुप के पार्टनर, हर महीने होगी मोटी कमाई | Tata 1MG Franchise

पार्लियामेंट्री स्‍टैंडिंग कमेटी की एक रिपोर्ट बताती है कि NHAI को 2022-23 में कर्ज चुकाने के लिए 31,049 करोड़ रुपए और 2023-24 में 31,735 करोड़ रुपए की जरूरत होगी. टोल टैक्‍स वह शुल्‍क है जो वाहन चालकों को तय सड़कों, पुलों, सुरंगों से गुजरने पर देना पड़ता है. ऐसी सड़कों को टोल रोड कहा जाता है. यह इनडायरेक्‍ट टैक्‍स है. सड़कों के मेंटेनेंस के लिए भी टोल टैक्‍स लिया जाता है. एक बार हाइवे की लागत रिकवर हो जाने पर टोल टैक्‍स 40% हो जाता है, जो मेंटेनेंस में इस्‍तेमाल होता है. खैर, महंगे तेल के दौर में सरकार आपके लिए एक और मुश्किल लाने की तैयारी में दिखाई दे रही है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page