Follow Us On Goggle News

Mustard Oil Price: सप्ताह भर में इतने घटे सरसों तेल के दाम, Fortune ने भी घटाए दाम

इस पोस्ट को शेयर करें :

Mustard Oil Price: इस सप्ताह सरसों तेल के कीमतों में गिरावट आई है. कई कंपनियों ने भी कीमतों में 10 से 15 रुपये की कटौती की है. नई कीमतों वाले पैकेट जल्द ही बाजार में आएंगे

 

महंगाई से परेशान लोगों को सरसों तेल की कीमतों (Mustard Oil Rate) ने राहत दी है. इस सप्ताह सरसों तेल के रेट में गिरावट आई है. ‘धारा’ ब्रांड के खाद्य तेल (Edible Oil) बेचने वाली सहकारी कंपनी मदर डेयरी (Mother Dairy) से लेकर अडानी विल्मर (Adani Wilmar) तक ने सरसों तेल की कीमतों में कटौती की है. इसके अलावा अन्य ब्रांडेड तेल कंपनियां भी अपने-अपने रेट कम करने जा रही हैं. विदेशी बाजारों में भी खाने वाले तेल कीमतों में गिरावट आई है. इसके अलावा स्थानीय मांग में भी कमी आई है. इस वजह से तेल के दामों में कमी आई है.

कंपनियों ने घटाए तेल की प्राइस

मदर डेयरी ने एक बयान में कहा है कि धारा ब्रांड के तहत सभी कैटेगरी के तेलों के दाम 15 रुपये तक कम किए जा रहे हैं. वहीं, अडानी विल्मर ने अपने खाद्य तेलों की कीमतों (Edible Oil Price) में प्रति लीटर 10 रुपये की कटौती की है.

यह भी पढ़ें :  Small Business Ideas : 50 हजार रुपये में शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने होगी 1 लाख की कमाई, सरकार देगी 35% सब्सिडी, जानें कैसे करें स्टार्ट?

फॉर्च्यून कच्ची घानी (सरसों का तेल) के एक लीटर पैक की एमआरपी 205 रुपये से घटाकर 195 रुपये कर दी गई है. साथ ही कंपनी ने फॉर्च्यून रिफाइंड सनफ्लावर तेल के एक लीटर पैक का अधिकतम खुदरा मूल्य (MRP) 220 रुपये से घटाकर 210 रुपये कर दिया है. नई कीमतों वाले पैकेट जल्द ही बाजार में पहुंचेंगे.

इस सप्ताह गिरे रेट

पीटीआई के मुताबिक, मंडियों में भले सरसों की आवक कम है. तो मांग भी गिरी है. इससे सप्ताह के अंत में सरसों तेल-तिलहन की कीमतें गिरी हैं. इस सप्ताह के अंत में सरसों दादरी तेल 200 रुपये घटकर 15,100 रुपये क्विंटल पर बंद हुआ. वहीं सरसों पक्की घानी और कच्ची घानी तेल की कीमतें भी 30-30 रुपये घटकर क्रमश: 2,365 – 2,445 रुपये और 2,405 – 2,510 रुपये टिन (15 किलो) पर बंद हुईं.

पाम तेल का इम्पोर्ट

भारत ने मई के महीने में 6,60,000 टन पाम तेल का आयात (India Palm Oil Import) किया था. भारत दुनिया में सबसे ज्यादा पाम ऑयल इंपोर्ट (Palm Oil Import) करने वाला देश है. बीते कुछ हफ्तो में देश में सनफ्लावर ऑयल की सप्लाई रूस और अर्जेंटीना जैसे देशों से बढ़ी है. इसका असर दाम में गिरावट के तौर पर देखा जा रहा है. वहीं केंद्र सरकार ने भी कच्चे सूरजमुखी तेल पर आयात शुल्क घटाया है. जबकि घरेलू स्तर पर सनफ्लावर सीड की पैदावार इस बार अच्छी रही है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page