Follow Us On Goggle News

LIC IPO: इस दिन आ रही हैं एलआईसी आईपो.

इस पोस्ट को शेयर करें :

LIC IPO: भारतीय जीवन बीमा निगम ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर एलआईसी की मेगा इनिशियल पब्लिक आफरिंग एलआईसी आईपो (LIC IPO) को लॉन्च करने का ऐलान किया है. प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह बताया गया है कि एलआईसी का आईपीओ 4 मई से लेकर 9 मई तक जारी रहेगा. यह देश का सबसे बड़ा आईपीओ होने वाला है. वही यह आईपीओ एंकर निवेशकों के लिए 2 मई से खुला रहेगा.

 

प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि, एलआईसी आईपो (LIC IPO) का प्राइस बैंड प्रति शेयर 902 रुपये से 949 रुपये के बीच होगा एवं पॉलिसीधारकों को शेयर्स की खरीदारी पर 60 रुपये का डिस्काउंट मिलेगा. रिटेल निवेशकों एवं एलआईसी के कर्मचारियों को 40 रुपये की छूट दी जाएगी.

 

पॉलिसीधारकों के लिए 10% या 2.21 करोड़ शेयर्स और कर्मचारियों के लिए 1.58 करोड़ शेयर्स आरक्षित होंगे. LIC अपनी पांच फीसदी हस्सेदारी की जगह आईपीओ के जरिए 3.5 फीसदी हिस्सेदारी या 22 करोड़ से ज्यादा शेयर बेचेगी. जिसके जरिए कंपनी 20,550 करोड़ से ज्यादा रुपये जुटाएगी. हालांकि इसके बाद कंपनी की वैल्यूएशन 6 लाख करोड़ आंकी गई है.

यह भी पढ़ें :  LIC Scheme 2022 : एलआईसी का सुपरहिट प्लान! 4 साल तक दें प्रीमियम, मिलेगा बंपर फायदा.

 

एलआईसी आईपो (LIC IPO) के जरिए पहले कंपनी की 5 फीसदी हिस्सेदारी बेच रही थी. लेकिन अब इसे 3.5 फीसदी कर दिया गया. एलआईसी के इस फैसले की वजह निवेशकों में घटते उत्साह को माना गया है. युद्ध के कारण शेयर बाजार में तेजी से हालात बदले क्योंकि रूस-यूक्रेन के बीच जंग जारी है. दीपम के सचिव तुहिन कांता पांडे का कहना है कि भले ही साइज छोटी हो गई हो लेकिन ये अब भी भारत का सबसे बड़ा आईपीओ है.

 

एलआईसी के अध्यक्ष एम आर कुमार ने कहा, यह एलआईसी 3.0 की शुरुआत है. उन्होंने वैल्यूएशन घटाने के पीछे तर्क दिया कि इसे घटाने के पीछे मौजूदा हालात हैं और अभी लिस्टिंग की जरूरत है. सरकार आगे विनिवेश करेगी या नहीं, इस पर अभी चर्चा होनी है. ये तय है कि हालिया भविष्य में हम और विनिवेश नहीं करेंगे, लेकिन समय के साथ हम 20-25% विनिवेश की सीमा तक पहुंच जाएंगे


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page