Follow Us On Goggle News

ICICI Interest Rate: आईसीआईसीआई बैंक ने बढ़ाई ब्याज दर, अब बढ़ जाएगी आपकी ईएमआई.

इस पोस्ट को शेयर करें :

ICICI Interest Rate: भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा रेपो रेट में इजाफा करने के बाद कई बैंकों ने ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर दिया है. जिसके कारणवश लोन लेना काफी महंगा हो गया है. अब आईसीआईसीआई बैंक ने भी अपने ग्राहकों को जोरदार झटका दिया है. बैंक ने अलग-अलग अवधि के मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट यानी एमसीएलआर (MCLR) में 20 बेसिक प्वाइंट यानी 0.20 फीसदी की बढ़ोतरी की है. यानी अब बैंक से लोन लेना महंगा हो जाएगा और नई ब्याज दरें 1 जुलाई से लागू होने वाली है.

आईसीआईसीआई बैंक की वेबसाइट के अनुसार अब एक रात की अवधि वाले एमसीएलआर की ब्याज दरें 7.30% से बढ़कर 7.50% हो गई है. एक महीने की अवधि वाले एमसीएलआर की ब्याज दरें भी 7.30% से 7.50% हो गई है. 3 महीने की अवधि वाले एमसीएलआर की ब्याज दरें 7.35% से 7.55% हो गई है. इसके अलावा 6 महीने की अवधि वाले एमसीएलआर की ब्याज दरें 7.50% से 7.70% हो गई है जबकि एक साल वाले एमसीएलआर की ब्याज दरें 7.55 फीसदी से बढ़कर 7.75 फीसदी कर दी गई है.

यह भी पढ़ें :  ICICI Bank FD : अगले 2 दिन में बंद हो रही सीनियर सिटीजन की यह स्पेशल एफडी स्कीम, 5.60% मिलता है ब्याज.

बढ़ जाएगी आपकी ईएमआई: ICICI Interest Rate

एमसीएलआर में बढ़ोतरी के साथ टर्म लोन पर ईएमआई बढ़ने की उम्मीद है. ज्यादातर कंज्यूमर लोन मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट के आधार पर होती है. ऐसे में एमसीएलआर में बढ़ोतरी से पर्सनल लोन, ऑटो और होम लोन महंगे हो सकते हैं.

क्या होता है MCLR? ICICI Interest Rate

गौरतलब है कि एमसीएलआर भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा विकसित की गई एक पद्धति है जिसके आधार पर बैंक लोन के लिए ब्याज दर निर्धारित करते हैं. आरबीआई ने 1 अप्रैल 2016 से देश में एमसीएलआर की शुरुआत की थी. उससे पहले सभी बैंक बेस रेट के आधार पर ही ग्राहकों के लिए ब्याज दर तय करते थे. आधार दर की जगह पर अप्रैल 2016 से बैंक एमसीएलआर का इस्तेमाल कर रहे हैं. अब बैंकों द्वारा एमसीएलआर में किसी भी बढ़ोतरी या कटौती का असर नए और मौजूदा लेनदारों पर भी पड़ता है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page