Follow Us On Goggle News

प्रदूषण जांच केंद्र : 10 हजार रुपए से शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने होगी 50 हजार रुपए तक कमाई | How to start Pollution Testing Center Franchise Business.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Pollution Testing Center : अगर आप कम इन्वेस्टमेंट के साथ छोटा बिजनेस शुरू करना चाहते हैं. तो आप प्रदूषण जांच केंद्र इन स्टेप्स के साथ ओपन कर सकते हैं. साथ ही पहले दिन से इसमें कमाई होने लगती है.

 

Pollution Testing Center : केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय ने हाल ही में देशभर में वाहनों के लिए एक जैसे नो पॉल्यू​शन सर्टिफिकेट के प्रारूप की घोषणा की है. इसके लिए बड़े पैमाने पर वाहन प्रदूषण जांच केंद्रों की जरूरत होगी, जहां आप अपने वाहन का PUC Certificate बनवा सकते हैं. बिहार में प्रदूषण जांच केंद्रों की कमी है. प्रदेश के 534 प्रखंडों में 387 प्रखंडों में 1000 से अधिक प्रदूषण केंद्र हैं, लेकिन 147 प्रखंडों में प्रदूषण जांच केंद्र हैं ही नहीं. ऐसे में राज्य सरकार ने प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए 3 लाख रुपये तक की सहायता देने की घोषणा की है.

अगर आप अपना बिजनेस शुरू करने की प्लानिंग कर रहे हैं, तो इस बिजनेस को ( Pollution Testing Center ) शुरू कर आप हर महीने 50 हज़ार रुपए तक कमा सकते हैं. इसके लिए आपको केवल 10 हजार रुपए महीने में इन्वेस्ट करने होंगे, जिसके बाद कम पैसा इन्वेस्ट कर आप तुरन्त प्रदूषण जांच केंद्र शुरू कर सकते हैं. (Small investment plans) इसे शुरू करने के पहले ही दिन आपकी कमाई शुरू हो जाएगी. एक अनुमान के तौर पर इससे रोजाना 1-2 हजार रुपए कमाए जा सकते हैं. मतलब महीने में आप 30 हजार से 50 हजार रुपए तक कमा सकते हैं.

यह भी पढ़ें :  Bihar Textile Policy : टेक्सटाइल पॉलिसी देगी नामी होजरी कंपनियों को बड़ा बाजार, शाहनवाज हुसैन ने कहा -'सिर्फ बेचिए नहीं, बनाइए भी बिहार में'.

सरकार दे रही है 50 फीसदी तक की सहायता :

राज्य में अब तक प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए राज्य सरकार की ओर से लोगों को कोई सहायता राशि नहीं दी जाती थी, लेकिन अब इसके लिए सहयोग राशि का प्रावधान किया गया है. अगर आप भी प्रदूषण जांच केंद्र खोलना चाहते हैं तो बिहार सरकार प्रोत्साहन के माध्यम से लागत का 50 फीसदी तक सहायता मिलेगी. यह राशि तीन लाख रुपये तक की होगी.

 

2021 में 1000 नए प्रदूषण जांच केंद्र खोले जाने हैं :

प्रदूषण जांच केंद्र की स्थापना के लिए राज्य सरकार ने लाइसेंस बनवाने, रीन्यू कराने और आवेदन के लिए शुल्क में कमी की है. इसके लिए ऑनलाइन व्यवस्था भी की गई है. अब इंटर (साइंस) पास व्यक्ति भी वाहन प्रदूषण जांच केंद्र चला सकते हैं. विभाग के एक पदाधिकारी का कहना है कि वर्ष 2021 में 1000 नए प्रदूषण जांच केंद्र खोले जाने की बात कही है.

यह भी पढ़ें :  Best Health Insurance Plan 2021: मेडिकल इंश्योरेंस खरीदते समय इन 5 बातों का रखें ध्यान, प्रीमियम घटाने के लिए कर सकते हैं ये काम.

 

Pollution Testing Center के लिए कैसे करें अप्लाई :

● प्रदूषण जांच केंद्र ओपन करने के लिए सबसे पहले रिजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिसर (RTO) से लाइसेंस लेना होगा.
● नजदीकी RTO ऑफिस में इसके लिए अप्लाई कर सकते हैं.
प्रदूषण जांच केंद्र कहीं भी पेट्रोल पंप, ऑटोमोबाइल वर्कशॉप के आसपास खोला जा सकता है.
● अप्लाई करने के साथ ही 10 रुपए का एफिडेविट देना होगा.
एफिडेविट में टर्म एंड कंडीशन भी लिखनी होती हैं.
● लोकल अथॉरिटी से No Objection Certificate लेना होगा.
● Pollution Testing Center की हर राज्य में अगल-अलग फीस है.
● कुछ राज्यों में ऑनलाइन अप्लाई करने की भी सुविधा है.
● ऑनलाइन अप्लाई करने के लिए https://vahan.parivahan.gov.in/puc/ पर जाकर रजिस्टर करना होगा.

 

Pollution Testing Center केंद्र खोलने की शर्तें :

● प्रदूषण जांच केंद्र पहचान के रूप में पीले रंग के केबिन में ही खोला जा सकता है.
● केबिन का साइज- लंबाई 2.5 मीटर, चौड़ाई 2 मीटर, ऊंचाई 2 मीटर.
● प्रदूषण केंद्र सेंटर पर लाइसेंस नंबर लिखना जरूरी है.
● देश का कोई भी नागरिक, फर्म, सोसायटी और ट्रस्ट इसे खोल सकते हैं.

यह भी पढ़ें :  Post office New Updates : पोस्ट ऑफिस ने ब्याज दर से लेकर सर्विस चार्ज तक सब कुछ बदला, जानिए क्या हैं नई दरें

 

Pollution Testing Center खोलने के लिए सामग्री :

  • सबसे जरूरी कंप्यूटर,
  • USB वेब कैमरा,
  • इंकजेट प्रिंटर,
  • पावर सप्लाई,
  • इंटरनेट कनेक्शन,
  • स्मोक एनालाइजर.

# यह सभी लाइसेंस फीस से अलग खर्च में जोड़ा जाता है.

 

नियम और शर्त :

Pollution Testing Center को गाड़ी के पॉल्यूशन चेक पर Printed Certificate देना होगा. सर्टिफिकेट में सरकारी स्टिकर का लगा होना जरूरी है. Pollution Testing Center को सभी गाड़ियों की डिटेल्स एक साल तक अपने सिस्टम में रखना जरूरी है. PUC का लाइसेंस जिसके नाम पर है, सिर्फ उसी व्यक्ति के पास इसे ऑपरेट करने का अधिकार होगा. किसी और के ऑपरेट करने पर कार्रवाई की जा सकती है.


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page