Follow Us On Goggle News

Good News : बैंक ग्राहकों के लिए खुशखबरी ! केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने किया बड़ा ऐलान, फायदा सुनकर खुशी से झूम उठेंगे आप.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Cooperative Banks Update : केंद्रीय सहकारिता मंत्री अमित शाह ने बड़ी जानकारी देते हुए कहा है कि सहकारी बैंकों के ग्राहकों तक सरकारी कल्‍याणकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाने के लिए उन्‍हें डायरेक्‍ट बेनिफिट ट्रांसफर (DBT) से शीघ्र ही जोड़ा जाएगा. यानी अब उन्हें भी सरकार की सभी कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिलेगा.

 

Good News for Cooperative Bank Customers : अब सहकारी बैंक के ग्राहकों को सरकार की सभी कलायांकारी योजनाओं का लाभ मिलेगा. इसके लिए सहकारी बैंकों को डायरेक्ट बैंक ट्रांसफर (DBT) से जोड़ा जाएगा. केंद्रीय सहकारिता मंत्री अमित शाह ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए यह बात कही. सरकार के 52 मंत्रालयों की ओर से संचालित इस समय 300 योजनाओं के लाभ डीबीटी के जरिये लाभार्थियों तक पहुंचाए जा रहे हैं, यानी अब इन सभी योजनाओं का लाभ सहकारी बैंकों के ग्राहकों को मिलेगा.

 

अमित शाह ने दी बड़ी जानकारी  :

यह भी पढ़ें :  Free Business Ideas : शुरू करें ये बिज़नेस, ट्रेनिंग के साथ 50 लाख की मदद देगी सरकार.

अमित शाह ने कहा कि बैंकिंग क्षेत्र में पहले की अपेक्षा बहुत सुधार हुआ है. इससे देश के नागरिकों को बैंकिंग सेवाओं का लाभ मिल रहा है. इसके अलावा जनधन योजना के चलते 45 करोड़ नए लोगों का बैंक खाता भी खुला है. ऐसे 32 करोड़ लोगों को रूपे डेबिट कार्ड का लाभ भी मिला है.अमित शाह ने कहा कि पीएम मोदी के ‘सहकार से समृद्धि का संकल्प’ से ये सब हुआ है.

अमित शाह ने कहा, ‘देश की समृद्धि और आर्थिक उत्थान में सहकारिता क्षेत्र का अहम योगदान होगा. पीएम जनधन योजना के तहत खोले गए करोड़ों नए खातों का डिजिटल लेन देन एक ट्रिलियन डालर को भी पार कर गया है. वर्ष 2017-18 के डिजिटल लेन-देन के मुकाबले इनमें 50 गुना की बढ़ोतरी हुई है. सहकारी बैंकों के डीबीटी से जुड़ने से नागरिकों के साथ और संपर्क बढ़ेगा और सहकारिता क्षेत्र मजबूत होगा.’

 

खेती बैंक का उल्लेखनीय प्रदर्शन :

यह भी पढ़ें :  Gold Price Today : बिहार के लोगों के लिए राहतभरी खबर, जानिए आज क्या है सोना का रेट.

केंद्रीय मंत्री ने गुजरात स्टेट को-आपरेटिव एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट बैंक यानी खेती बैंक के 71वें वर्ष में प्रवेश पर बधाई देते हुए बैंक के बारे में बातें की. साहूकारों के चंगुल से बचाने में इस बैंक ने शानदार भूमिका निभाई है.

 

लोन लेना हुआ सस्ता :

अमित शाह ने कहा कि आरबीआई और नाबार्ड ने बैंकिंग के लिए जो नियम और मापदंड बनाए हैं, उन सभी मानकों पर खेती बैंक ने खुद को साबित किया है. पहले बैंक से 12 से 15 प्रतिशत की ब्याज पर लोन मिलता था जो अब 10 प्रतिशत पर आ गया है. इतना ही नहीं लोन छुकाने वाले लाभार्थियों को दो प्रतिशत की रियायत भी दी जाती है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page